BBC navigation

ओडिशा से आए थे बस्तर के हमलावर माओवादी: पुलिस

 रविवार, 26 मई, 2013 को 22:57 IST तक के समाचार

माओवादी एक दिन में चालीस किमी तक पैदल चल लेते हैं. इस मामले में भी ऐसा ही हुआ

छत्तीसगढ़ की पुलिस का कहना है कि दर्भा में हुए नक्सली हमले में ओडिशा से आए माओवादी छापामारों का हाथ था. राज्य के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक मुकेश गुप्ता नें बीबीसी हिंदी के रेडियो कार्यक्रम दिनभर में चर्चा के दौरान इस बात की जानकारी दी.

उनका कहना था कि ये कहना घटना इंटेलीजेंस की कमज़ोरी की वजह से हुई.

उन्होंने कहा, "ये भविष्यवाणी नहीं की जा सकती कि माओवादी छापामार कब और किस जगह पहुँच सकते हैं. अमूमन देखा गया है कि माओवादी छापामार एक दिन में 25 से 40 किलोमीटर तक का सफ़र पैदल तय कर लेते हैं. दर्भा की घटना में भी ऐसा ही हुआ."

"अमूमन देखा गया है कि माओवादी छापामार एक दिन में 25 से 40 किलोमीटर तक का सफ़र पैदल तय कर लेते हैं. दर्भा की घटना में भी ऐसा ही हुआ."

मुकेश गुप्ता, एडीजी नक्सल विरोधी ऑपरेशन, छत्तीसगढ़

मुकेश गुप्ता का कहना है कि कांग्रेस की परिवर्तन यात्रा के लिए भी सुरक्षा के व्यापक इंतज़ाम किए गए थे. राज्य का सबसे संवेदनशील इलाका माने जाने वाले सुकमा में भी पुख्ता इंतज़ाम थे.

मगर मुकेश गुप्ता से बातचीत का सबसे गंभीर पहलू ये है कि ये घटना उस जगह पर हुई जहाँ पहले से ही सुरक्षा बालों द्वारा सघन अभियान चलाया जा रहा था.

इस बीच शनिवार को छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की 'परिवर्तन यात्रा' पर हुए क्लिक करें नक्सली हमले में घायल कांग्रेस के वरिष्ठ नेता विद्या चरण शुक्ल की हालत गंभीर बनी हुई है. उन्हें गुड़गांव के मेदांता अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

कांग्रेस के कई नेताओं की मौत

इस हमले में कांग्रेस नेता क्लिक करें महेंद्र कर्मा और प्रदेशाध्यक्ष नंद कुमार पटेल समेत कई कांग्रेसी नेताओं की मौत हो गई है. सरकारी टीवी चैनल के मुताबिक नंद कुमार पटेल और उनके बेटे का शव मिल गया है. उनके शरीर में कई गोलियाँ थीं.

क्लिक करें नक्सली हमले के बाद की तस्वीरें

हमले में कई लोग बुरी तरह से ज़ख़्मी भी हो गए

इस हमले में मरने वालों की संख्या बढ़कर 28 हो गई है जबकि 30 लोग घायल हैं. इलाके में बारिश के कारण सुरक्षाकर्मियों को दिक्कत हो रही है. घायलों को जगदलपुर अस्पताल में भर्ती कराया गया है और अब उन्हें दूसरे अस्पतालों में भेजा जा रहा है.

रविवार को प्रधानमंत्री क्लिक करें मनमोहन सिंह और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी छत्तीसगढ़ के दौरे पर गईं और उन्होंने मृतकों के परिजनों और घायलों से मुलाकात की.

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी रविवार को सुबह ही वहां पहुंच चुके थे. प्रधानमंत्री ने कहा है कि सभी को मिलकर ये लड़ाई लड़नी होगी. ट्विटर पर उन्होंने ये भी कहा है कि 'इस बर्बर हमले में मारे गए लोग शहीद' हैं.

क्लिक करें प्रत्यक्षदर्शी की आपबीती

प्रधानमंत्री ने मृतकों के परिजनों के लिए प्रधानमंत्री राष्ट्रीय सहायता कोष से पांच-पांच लाख रुपये और घायलों के लिए 50 हज़ार रुपये की मदद की घोषणा की है.

हमले में मारे गए महेंद्र कर्मा नक्सल विरोधी सलवा जुड़ुम अभियान के जन्मदाता माने जाते थे.

बड़ा हमला

वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों के अनुसार बस्तर जिले की जीरम घाटी के करीब नक्सलियों ने कांग्रेस की परिवर्तन यात्रा पर हमला किया.

बीबीसी संवाददाता सलमान रावी को मिली जानकारी के मुताबिक लगभग 20 वाहनों की यह परिवर्तन यात्रा जब जीरम घाटी के करीब पहुंची, तब नक्सलियों ने पेड़ गिराकर रास्ता रोक लिया और कांग्रेस के काफिले पर ज़बर्दस्त गोलीबारी शुरू कर दी.

राज्य के नक्सलरोधी अभियान के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक मुकेश गुप्ता के मुताबिक, "करीब दो सौ से ढाई सौ की संख्या में हथियारों से लैस नक्सलियों ने इस यात्रा पर हमला बोल दिया और गोलीबारी शुरू कर दी."

उन्होंने बताया कि नक्सलियों से रास्ता बंद कर दिया और हमले में बारूदी सुरंग में भी विस्फोट किया.

मुकेश गुप्ता के मुताबिक कई नेताओं को नक्सलियों ने काफी नज़दीक से गोली मारी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें क्लिक करें. आप हमें क्लिक करें फ़ेसबुक और क्लिक करें ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

इसे भी पढ़ें

टॉपिक

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.