BBC navigation

'इमरान ख़ान से बेहतर है नवाज़ शरीफ़'

 रविवार, 12 मई, 2013 को 18:39 IST तक के समाचार
मतगणना

पाकिस्तान में पीएमएल (एन) सबसे बड़ी पार्टी के रूप में ऊभर रही है

अंग्रेज़ी में एक कहावत है, 'थर्ड टाइम लकी', यह कहावत पाकिस्तान मुस्लिम लीग (पीएमएल) के नेता नवाज़ शरीफ़ पर सही बैठती हैं.

वो दो बार पाकिस्तान के प्रधानमंत्री रह चुके हैं. दोनों ही बार उन्होंने कहा था कि वे भारत के साथ रिश्तों को और बेहतर बनाएंगे. लेकिन दोनों ही बार उन्हें इसमें कामयाबी नहीं मिली. मैं ऐसा तो नहीं कहूंगा कि उनकी वजह से ही ऐसा हुआ. लेकिन कोई वजह जरूर रही होगी.

क्लिक करें राजीव डोगरा से हुई बातचीत सुनने के लिए क्लिक करें

"सेना के साथ उनका हमेशा से मनमुटाव रहा है. यह उनकी राजनीति का एक पक्ष है. हो सकता है कि वैसा एक बार फिर हो जाए. लेकिन यह इस बात पर निर्भर करेगा कि अगला सेना प्रमुख कौन होता है. इसे हमें देखना होगा कि आगे क्या होता है"

राजीव डोगरा, विदेश मामलों के जानकार

अब यह तय है कि नवाज़ शरीफ़ तीसरी बार पाकिस्तान के प्रधानमंत्री बनेंगे. ऐसे में दोनों देशों के लिए मेरी दुआ है कि तीसरी बार वे लकी साबित हों.

वैसे अगर इमरान ख़ान प्रधानंत्री बनते तो वे भारत के साथ संबंधों को तवज्जो तो जरूर देते. लेकिन इमरान ख़ान अभी इंपल्सिव हैं. एक राजनेता के रूप में उनकी परीक्षा अभी नहीं हुई है.

वहीं नवाज़ शरीफ़ एक मंझे-मंझाए राजनेता है. वे जेल भी जा चुके हैं और सैन्य शासन के साथ टकरा चुके हैं. अगर नवाज़ शरीफ़ बदलें न तो वे इमरान ख़ान से बहुत अलग और बेहतर साबित होंगे.

नवाज़ शरीफ़ का सेना से हर बार कुछ न कुछ मनमुटाव हुआ है. उन्होंने पाकिस्तान पीपल्स पार्टी (पीपीपी) की सरकार को पांच साल तक चलने दिया है, हालांकि वे चाहते तो सरकार गिरा भी सकते थे.

पीपीपी के पूरे कार्यकाल के दौरान उन्होंने अपनी राजनीतिक परिपक्वता का परिचय दिया और ज़रदारी सरकार को कभी भी गिराने की कोशिश नहीं की. उन्हें लगा कि अगर देश में लोकतंत्र को मजबूत करना है तो उन्हें इस तरह से सहयोग देना होगा.

सेना के साथ उनका हमेशा से मनमुटाव रहा है. यह उनकी राजनीति का एक पक्ष है. मुमकिन है कि वैसा एक बार फिर हो जाए. लेकिन यह इस बात पर निर्भर करेगा कि अगला सेना प्रमुख कौन होता है. हमें देखना होगा कि आगे क्या होता है.

मैं एक ख़ास चीज को ओर ध्यान दिलाना चाहूंगा कि तहरीके़ तालिबान पाकिस्तान (टीटीपी) ने शुरू में ही कहा था कि उसका लोकतंत्र में भरोसा नहीं है. वह चुनाव नहीं होने देगी. उन्होंने अंत तक बम बरसाए और तीन पार्टियों को निशाने पर भी रखा.

यह चुनाव वहाँ एक तरह से लोकतंत्र का इम्तिहान था. इसमें वे खरे उतरे हैं. इस माहौल में भी वहाँ 50 फ़ीसदी से अधिक मतदान हुआ. इसके लिए मैं पाकिस्तान की जनता को बधाई देना चाहूंगा.

(बीबीसी संवाददाता रेहान फ़जल के साथ हुई बातचीत पर आधारित)

(पाकिस्तान चुनाव से जुड़ी ख़बरें मोबाइल पर पढ़ने के लिए बीबीसी हिन्दी का ऐप डाउनलोड कीजिए क्लिक करें (क्लिक कीजिए यहां) या अपने मोबाइल के ब्राउज़र पर सीधे टाइप कीजिए m.bbchindi.com. इसके अलावा आज के रेडियो कार्यक्रम दिनभर में भी आप बीबीसी हिंदी पर पाकिस्तान चुनाव से जुड़ा विश्लेषण, विशेषज्ञों की राय, भारत से रिश्तों पर होने वाले असर और पाकिस्तान में बने राजनीतिक समीकरण पर विशेष रिपोर्ट सुन सकेंगे)


इसे भी पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.