BBC navigation

अतिथि देव तो खुद क्यों दानव ?

 शुक्रवार, 29 मार्च, 2013 को 07:23 IST तक के समाचार

यहां अतिथि भगवान है या...?

भारत में इस साल तीन विदेशी महिलाओं के साथ यौन दुराचार किया गया. ऐसे में सवाल उठ रहे हैं भारत में उनकी सुरक्षा को लेकर.

देखिएmp4

इस ऑडियो/वीडियो के लिए आपको फ़्लैश प्लेयर के नए संस्करण की ज़रुरत है

वैकल्पिक मीडिया प्लेयर में सुनें/देखें

पिछले साल दिसंबर में भारतीय राजधानी दिल्ली में एक लड़की के साथ गैंगरेप की चर्चा दुनिया भर की मीडिया में हुई जिसके बाद सवाल उठे कि भारत में महिलाएं आख़िर सुरक्षित क्यों नहीं हैं.

यही सवाल एक बार फिर उठ रहे हैं. लेकिन इस बार भारतीय ही नहीं विदेशी महिलाओं के सुरक्षा को लेकर भी.

इसी साल भारत में तीन ऐसे मामले सामने आए जिनमें विदेशी महिलाओं को दुराचार का शिकार बनाया गया.

जनवरी में क्लिक करें चीन की एक युवती के साथ दिल्ली में बलात्कार किया गया, फ़रवरी में मध्य प्रदेश में एक दक्षिणी कोरियाई सैलानी के साथ दुष्कर्म और फिर मार्च में मध्य प्रदेश में ही एक स्विस महिला के साथ सामूहिक बलात्कार की वारदात सामने आई.

"हमारे यहां ज़्यादातर पुलिस फोर्स वीआईपी राजनेताओं को सुरक्षा प्रदान करने में व्यस्त रहती है. ऐसे में किसके पास वक्त है पर्यटकों की समस्याएं सुलझाने का? हमने पर्यटन मंत्रालय और सभी राज्यों को चिट्ठी लिख कर आग्रह किया है कि हर राज्य में टूरिस्ट पुलिस और टूरिस्ट हेल्पलाइन का इंतज़ाम किया जाए. "

सुभाष गोयल, आईएटीओ के अध्यक्ष

और फिर कुछ ही दिन पहले आगरा के एक होटल में रह रही क्लिक करें ब्रितानी महिला को अपनी आबरू बचाने के लिए होटल की बालकनी से छलांग लगानी पड़ी.

इन सब वारदातों के बाद ब्रिटेन, स्विट्ज़रलैंड और चीन ने अपने नागरिकों को भारत में अपनी सुरक्षा का ख़ास ख़्याल रखने की सलाह दे डाली.

इन देशों के ज़रिए दी गई एडवाइज़री से वे भारतीय चिंता में पड़ गए हैं, जिनकी रोज़ी-रोटी पर्यटन उद्योग से चलती है.

(क्या आपने बीबीसी हिन्दी का नया एंड्रॉएड मोबाइल ऐप देखा? क्लिक करें डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें)

'व्यस्त है पुलिस'

भारतीय टूर ऑपरेटर संघ आईएटीओ का कहना है कि इससे पहले कि ऐसी घटनाओं का असर पर्यटन क्षेत्र पर पड़े, भारतीय सरकार को कड़े क़दम उठाने होंगें.

आईएटीओ के अध्यक्ष सुभाष गोयल ने बीबीसी से बातचीत में कहा, “पर्यटन क्षेत्र एक बेहद संवेदनशील क्षेत्र है और ऐसी घटनाओं से भारत की छवि को झटका लगा है. हमने पर्यटन मंत्रालय और सभी राज्यों को चिट्ठी लिख कर आग्रह किया है कि हर राज्य में टूरिस्ट पुलिस और टूरिस्ट हेल्पलाइन का इंतज़ाम किया जाए. इस देश में क़ानून तो है, लेकिन उसका पालन नहीं हो रहा है.”

सुभाष गोयल ने बीबीसी को बताया कि ये पहली बार नहीं है जब उन्होंने सरकार से ये आग्रह किया है कि टूरिस्ट पुलिस को आम पुलिस से अलग कर उन्हें पर्यटन सभ्यता के बारे में शिक्षित किया जाए, लेकिन इस बात पर अब तक कोई ध्यान नहीं दिया गया.

उन्होंने सरकारी प्रणाली की आलोचना करते हुए कहा, “हमारे यहां ज़्यादातर पुलिस फ़ोर्स वीआईपी राजनेताओं को सुरक्षा प्रदान करने में व्यस्त रहती है. ऐसे में किसके पास वक़्त है पर्यटकों की समस्याएं सुलझाने का? टूरिस्ट पुलिस को आम पुलिस के अधिकार क्षेत्र के दायरे से बाहर लाना होगा.”

'घूरते हैं यहां के मर्द'

ये साबित होता है उन विदेशी सैलानियों के बयान से जिनसेबीबीसी हिंदीने पिछले हफ़्ते बात की.

"यहां के पुरुषों की समस्या ये है कि वे बहुत घूरते हैं. शायद उनकी मानसिकता ऐसी है कि लाइफ में जितनी महिलाएं देखने को मिल जाए उतना अच्छा है. अपनी घरवाली से शायद उनका मन नहीं भरता, तो वे बाहरी महिलाओं पर बुरी नज़र डालते हैं"

लीना, सैलानी

कोलंबिया से भारत घूमने आई लीने ने कहा, “मैं दो महीने पहले भारत आई हूं और यक़ीन मानिए मेरी मां मुझे यहां आने की इजाज़त ही नहीं दे रही थीं. उन्हें लगा कि मैं भारत में सुरक्षित नहीं रह पाऊंगी. यहां के पुरुषों की समस्या ये है कि वे बहुत घूरते हैं. शायद उनकी मानसिकता ऐसी है कि लाइफ़ में जितनी महिलाएं देखने को मिल जाए उतना अच्छा है. अपनी घरवाली से शायद उनका मन नहीं भरता, तो वे बाहरी महिलाओं पर बुरी नज़र डालते हैं.”

तो वहीं अर्जेंटीना से आई आंद्रे का कहना था, “मुझे लगता है कि मुझे यहां सुरक्षित सिर्फ़ इसलिए महसूस होता है क्योंकि मैं अपने ब्वॉयफ्रेंड के साथ यहां आई हूं. शायद अकेली होती तो इतना सुरक्षित महसूस नहीं करती क्योंकि यहां जिस तरह से लोग हमारी तरफ़ देखते हैं वो अजीब ही है.”

हालांकि जिन महिला विदेशी सैलानियों से बीबीसी ने बात की, सबने कहा कि उन्हें भारत बेहद ख़ूबसूरत जगह लगी.

उन्होंने कहा कि ख़ुद को सुरक्षित रखने के लिए वे शालीन कपड़े पहन कर निकलती हैं और देर रात अकेले बाहर नहीं निकलती.

यानि यहां सैलानियों को अगर परेशानी है, तो वो सिर्फ़ लोगों के स्वभाव से.

अतिथि देवो भव: ?

विदेशी सैलानियों को भारत की ओर आकर्षित करने के लिए क़रीब एक दशक पहले पर्यटन मंत्रालय ने ‘अतिथि देवो भव’ नाम का अभियान शुरू किया था.

ये मुहिम विदेशी सैलानियों के आँकड़े बढ़ाने में तो सफल रही, लेकिन जहाँ सैलानी ख़ुद को सुरक्षित महसूस करें, ऐसा माहौल तैयार करने में ये मुहिम अभी तक कारगर नहीं रही है.

विशेषज्ञों का कहना है कि आंकड़ों के बजाए भारतीय पर्यटन क्षेत्र को सैलानियों का स्वागत करने वाले भारतीय लोगों की मानसिकता बदलने पर ध्यान देना चाहिए.

आईएटीओ के अध्यक्ष सुभाष गोयल का कहना है कि ‘अतिथि देवो भव’ मुहिम से भारतीय पर्यटन क्षेत्र को काफ़ी फ़ायदा हुआ है, लेकिन विदेशी सैलानियों का स्वागत करने वाले लोगों की मानसिकता नहीं बदल पाई है.

दिसंबर गैंग-रेप वारदात के बाद लोगों की मानसिकता को लेकर भारत में बड़ी बहस छिड़ी थी और ये बहस शायद लंबे समय तक जारी रहेगी.

(इस कहानी का विडियो शुक्रवार को बीबीसी हिंदी की टीवी प्रस्तुति ग्लोबल इंडिया में आप देख सकते हैं.)

प्रसारण समय हैं:

शुक्रवार – शाम छह बजे – ईटीवी राजस्थान, ईटीवी उर्दू

शुक्रवार – रात आठ बजे – ईटीवी बिहार-झारखंड, ईटीवी उत्तर प्रदेश-उत्तराखंड, ईटीवी मध्य प्रदेश-छत्तीसगढ़

शनिवार – पुन: प्रसारण – रात आठ बजे –ईटीवी उर्दू

शनिवार – पुन: प्रसारण – रात साढ़े नौ बजे– ईटीवी के सभी हिंदी चैनल

रविवार – पुन: प्रसारण – सुबह 11.00 बजे – ईटीवी के सभी हिंदी चैनल

रविवार – पुन: प्रसारण – दोपहर 1 बजे – ईटीवी उर्दू

इसे भी पढ़ें

टॉपिक

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.