BBC navigation

मिलिए 'चतुर' बीरबल के परिवार से

 शुक्रवार, 1 मार्च, 2013 को 09:32 IST तक के समाचार
घोघरा

घोघरा गांव सालों से उपेक्षित ही रहा और उपेक्षित रहे बीरबल की पीढ़ी के लोग.

बुद्धिमान, हाज़िर जवाब और लोगों को लाजवाब कर देने वाले शहंशाह अकबर के नवरत्नों में से एक बीरबल का नाम महेशदास दुबे था और वो मध्य प्रदेश के सिधी जिले के घोघरा में पैदा हुए थे.

दिन, महीने और साल दर साल बीतते चले गए मगर आज भी मध्य प्रदेश के सिधी जिले में सोन नदी के पार बसा घोघरा कमोबेश वैसा ही है जैसा कई सौ साल पहले हुआ करता था.

कच्चे मकान, टूटी फूटी सडकें और उपेक्षा मानो इस इलाके की नियति बनकर रह गयी हो.

कहा जाता है कि घोघरा गांव में ही बीरबल के पिता गंगादास का घर हुआ करता था और यहीं उनकी माता अनाभा देवी नें वर्ष 1528 में रघुबर और महेश नाम के जुड़वां बच्चों को जन्म दिया. घोघरा गांव सालों से उपेक्षित ही रहा और इसके साथ-साथ उपेक्षित रहे बीरबल की पीढ़ी के लोग.

उपेक्षित

बीरबल की 37 वीं पीढ़ी भी इसी गांव में रह रही है और ये लोग मजदूरी करके अपना पेट पालते हैं.

सिधी के रहने वाले साधू यादव कहते हैं कि इस परिवार से मिलने ज़्यादातर शोधकर्ता ही आते हैं. सरकारी अधिकारी और नेताओं को बीरबल के परिवार से कोई सरोकार नहीं है.

लोगों को अफ़सोस है कि सालों साल दिल्ली की गद्दी पर बैठी सरकार हो या फिर प्रदेश की. किसी नें बीरबल की जन्मस्थली घोघरा के बारे में नहीं सोचा.

"बीरबल की खिचड़ी तो कभी बन नहीं पायी. वो तो बादशाह अकबर की नसीहत के लिए खिचड़ी बना रहे थे. मगर हमारी खिचड़ी तो जल्द बन जाती है.""

गंगा दुबे

अलबत्ता जब अर्जुन सिंह केंद्रीय मानव संसाधन मंत्री हुआ करते थे तो उन्होंने बीरबल की याद में एक सामुदायिक भवन का निर्माण करवाया. इसके अलावा घोघरा की पहचान के लिए कोई अलग पहल नहीं की गयी.

गांव के बुजुर्गों का कहना हैं कि अकबर के ज़माने में घोघरा महत्वपूर्ण रहा. मगर बाद में वक़्त बदलता चला गया और अहिस्ता अहिस्ता इस जगह की अहमियत कम होने लगी. अकबर के बाद दिल्ली और प्रदेश की सरकारों नें कभी इस गांव की तरफ मुड कर भी नहीं देखा.

एक नौजवान लड़के ने इस गांव से चलकर दिल्ली के दरबार तक का सफ़र तय किया. आज कई सालों के बाद भी दिल्ली की सरकारें घोघरा तक नहीं पहुंच पायीं हैं.

बीरबल के वंशज

गांव वालों से बात करते करते, मैं बीरबल के वंशजों के घर आ पहुंचा. छोटे से बगीचे में बसा कच्चा मकान. यहां मेरी मुलाक़ात बीरबल की 36 वीं पीढ़ी के गंगा दुबे से हुई जो पेशे से किसान हैं और गांव में एक छोटी सी परचून की दुकान भी चलाते हैं.

गंगा दुबे बताते हैं कि कई सालों तक बीरबल से जुड़े कई दस्तावेज़ उनके पास पीढ़ी दर पीढ़ी सुरक्षित रहे. मगर हाल ही में उनकी दुकान में पानी भर गया और उनमें से कुछ दस्तावेज़ नष्ट हो गए.

इन दस्तावेजों में रीवा के महाराजा का पत्र और अकबर के दरबार का हुक्म-नामा शामिल थे जो फारसी में लिखे हुए थे. गंगा के परिवार के पास बीरबल की कुछ दूसरी यादगार चीज़ें आज भी मौजूद हैं. मसलन शंख, घंटा और कुछ किताबें.

कहते हैं कि बीरबल फारसी और संस्कृत के विद्वान थे और कविताएं भी लिखा करते थे. इसके अलावा उनकी शिक्षा संगीत में भी हुई थी. यही वजह है कि सबसे पहले उन्हें जयपुर के महाराज के दरबार में और बाद में रीवा के महाराज के दरबार में बतौर राज कवि रखा गया था.

गांववालों का कहना है कि दरअसल रीवा के महाराज ने ही बादशाह अकबर को बीरबल तोहफे़ के रूप में दिया था. मगर इतिहासकार इससे सहमत नहीं हैं.

यादें

गंगा

गंगा के परिवार के पास बीरबल की कुछ यादगार चीज़ें में शंख, घंटा और कुछ किताबें मौजूद हैं

बीरबल की इस जन्मस्थली में उनसे जुड़ी यादगार चीज़ें लगभग अब नहीं के बराबर हैं. वक़्त के साथ सबकुछ ख़त्म होता चला गया. गांव के तालाब के किनारे वो घर जिसमे उनके माता पिता रहते थे, अब नहीं है.

ये जगह अब एक वीरान टीला है जहां जानवर चरते रहते हैं. कभी कभी गांव के नौजवान तालाब के किनारे इस टीले पर बैठकर अपना समय बिताते हैं.

अगर इतने सालों में इस गांव में कुछ नहीं बदला तो वो है घोघरा का प्राचीन मंदिर जहां बीरबल और उनके भाई जाया करते थे.

इस प्राचीन देवी के मंदिर के वयोवृद्ध पुजारी सुख्चंद्र सिंह का कहना है कि ऐसी मान्यता है कि यहीं से बीरबल को वरदान मिला था.

वो कहते हैं: "पहले ये मंदिर तालाब के किनारे था, बाद में देवी की मूर्ती को यहां स्थापित किया गया.

बीरबल का कोई बेटा नहीं था. कहा जाता है कि उनकी सिर्फ एक बेटी थी कमला, जिसने शादी नहीं की थी. इसलिए आज उनके भाई रघुबर ही उनके वंश को चला रहे हैं. घोघरा में ये विशवास है कि ऐसा देवी के वरदान की वजह से ही हुआ होगा.

सम्मान

गंगा दुबे के घर की बैठक में लोगों का आना जान लगा रहता है. बीरबल के वंशज होने की वजह से पूरे इलाके में उनका काफी सम्मान भी है. लोग उनके घर को फ़क्र के साथ देखते हैं और अक्सर इनके यहां गांव वालों की लंबी लंबी बैठकें भी होती हैं.

इनका परिवार भी खिचड़ी का शौकीन है. मगर गंगा कहते हैं कि उनके घर पर खिचड़ी जल्दी बन जाती.

वो हंसते हुए कहते हैं, "बीरबल की खिचड़ी तो कभी बन नहीं पायी. वो तो बादशाह अकबर की नसीहत के लिए खिचड़ी बना रहे थे. मगर हमारी खिचड़ी तो जल्द बन जाती है."

घोघरा में बीरबल और अकबर की नोक झोंक लगभग हर जुबां पर है. सिधी जिले के इस सुदूर इलाके में कभी बिजली रहती है कभी नहीं. गांव के लोग खाली समय में अकबर और बीरबल के किस्सों से ही अपना दिल बहलाते हैं.

गंगा दुबे इस गांव में अपनी पत्नी और दो बेटों के साथ रहते हैं. इनकी दो बेटियां भी हैं जिनकी शादी हो चुकी है. बस किसी तरह इस परिवार का गुज़र बसर चलता है.

यूं कहा जा सकता है कि बीरबल के इस गांव को आज है किसी अकबर का इंतज़ार.

इसे भी पढ़ें

टॉपिक

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.