नरेंद्र मोदी को 'मुख्य अतिथि' बनाने पर छिड़ा विवाद

  • 26 फरवरी 2013
मोदी
मोदी को मुख्य अतिथि बनाए जाने के विरोध में कई प्रकाशक और प्रिंटर सम्मेलन से अलग हो गए हैं.

क्यों बुलाया नरेंद्र मोदी को? एक बार फिर यह विवाद छिड़ गया है.

दो मार्च को दिल्ली में होने वाले प्रकाशन सम्मेलन 'रोमांसिंग प्रिंट 2013' के लिए नरेंद्र मोदी को मुख्य अतिथि बनाए जाने के विरोध में कई प्रकाशक और प्रिंटर इस समारोह से अलग हो गए हैं.

आल इंडिया फेडरेशन ऑफ मास्टर प्रिंटर्स (एआईएफएमपी) और प्रेस आइडियाज की ओर से आयोजित समारोह में राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय प्रकाशक शामिल होने वाले हैं.

इस सम्मेलन में लगभग 300 प्रकाशकों के हिस्सा लेने की उम्मीद है.

पिछले दिनों दिल्ली के एसआरसीसी कॉलेज में मोदी को बुलाए जाने पर वहां के प्रिंसीपल और मैनेजमेंट को सवालों की बौछार झेलनी पड़ी थी.

विरोध पत्र

तुलिका बुक्स की इंदिरा चंद्रशेखर ने बीबीसी से बातचीत में कहा, ''हमने आयोजकों को इसके बारे में एक विरोध पत्र लिखा जब हमें पता चला कि मोदी को इसमें मुख्य अतिथि के तौर पर बुलाया गया है.''

उन्होंने कहा, ''हम समझते हैं कि यह एक प्रोफेशनल सम्मेलन है और क्योंकि नरेंद्र मोदी का इस क्षेत्र में कोई आधिकारिक ओहदा नहीं है तो उनको बुलाने की कोई जरूरत नहीं है. साथ ही वो एक विवादित नेता हैं.''

उन्होंने बताया कि आमंत्रण पत्र में नरेंद्र मोदी पर एक लेख और फोटो छापा गया है.

उधर सम्मेलन के अध्यक्ष सतीश मल्होत्रा का कहना है कि मोदी को बुलाने में कुछ गलत नहीं है.

उन्होंने कहा, ''अधितकर लोग इस प्रस्ताव से सहमत है हालांकि पांच दस प्रतिशत लोग इसका विरोध कर रहे हैं. हम सालों से यह सम्मेलन करते रहे हैं और कई नेताओं को बुलाते रहे हैं. मेरे ख्याल से हमारा नज़रिया खुला होना चाहिए.''

असहमती क्यों

इस सम्मेलन में प्रिंटवीक इंडिया आधिकारिक मीडिया पार्टनर होने वाले थे लेकिन यहां के ग्रुप संपादक रामू रामानाथन ने इससे शामिल होने से मना कर दिया है.

आयोजकों को अपनी ई-मेल में कारण बताते हुए उन्होंने लिखा है: ''हम इस सेमीनार की विषय सूची और नरेंद्र मोदी को मुख्य अतिथि के तौर पर आमंत्रण से सहमत नहीं हैं.''

इंडियन प्रिंटर एंड पब्लिसर पैकेजिंग साउथ एशिया के संपादक नरेश खन्ना ने भी सम्मेलन से अलग होने का निर्णय किया है.

नरेश खन्ना ने अपनी ई-मेल में लिखा, ''मुझे इस बात पर खेद है कि हम रोमांसिंग प्रिंट 2013 के मीडिया पार्टनर नहीं रहेंगे. हम समझते हैं कि आपका नरेंद्र मोदी को संबोधन करने के लिए बुलाना बहुत बड़ी भूल है.''

संबंधित समाचार