BBC navigation

कनॉट प्लेस बना चौथा सबसे महंगा ठिकाना

 बुधवार, 20 फ़रवरी, 2013 को 11:25 IST तक के समाचार

नई दिल्ली का कनॉट प्लेस दुनिया का चौथा सबसे महंगा इलाका है. यानी इस इलाके के किसी दफ़्तर में यदी आप काम कर रहे हैं तो मुमकिन है कि आप दुनिया के सबसे महंगे दफ़्तर में काम कर रहे हों.

वहीं अगर आप इस इलाके में किराए पर दफ़्तर लेना चाहते हैं तो यह आपके लिए सपना साबित हो सकता है, क्योंकि इस इलाके में किराए की दर तेज़ी से बढ़ी है.

रियल एस्टेट सर्विस 'कुशमैन एंड वैकफ़ील्ड' ने दुनिया भर के शहरों को दफ़्तरों के किराए के आधार पर वर्गीकृत करते हुए अपनी एक रिपोर्ट जारी की है. इस रिपोर्ट के मुताबिक कनॉट प्लेस दुनिया का चौथा सबसे महंगा इलाका है.

"लंदन, हांगकांग और न्यूयार्क में दफ़्तरों का किराया बहुत ज़्यादा है. यहां के जिन बाज़ारों में कारोबार होता है उन पर आर्थिक मंदी का असर नहीं पड़ा है. एशिया और दक्षिण अमरीका के मुख्य शहरों के बाज़ार भी किराए के लिहाज से महंगे होते जा रहे हैं."

ग्लेन रुफ्रानो, कुशमैन एंड वैकफ़ील्ड

पिछले साल इस सूची में कनॉट प्लेस पांचवें स्थान पर था, लेकिन इस साल महंगाई के बढ़ते असर के चलते यह चौथे स्थान पर पहुंच गया है.

लंदन सबसे महंगा

बीते 12 महीनों के दौरान कनॉट प्लेस इलाके के किराए में 25 फ़ीसदी की बढ़ोत्तरी दर्ज हुई है. भारत में अंग्रेजों के शासनकाल के दौरान 1933 में कनॉट प्लेस का बाज़ार चार साल में बनकर तैयार हुआ था.

इस रिपोर्ट के मुताबिक लंदन के 'वेस्ट एंड' का इलाका दुनिया का सबसे महंगा इलाका है. 2008 के बाद लंदन एक बार फिर दुनिया के सबसे महंगे इलाके की अपनी पुरानी जगह पर काबिज़ हो गया है. 'कुशमैन एंड वैकफ़ील्ड' की रिपोर्ट के मुताबिक ग्रेट ब्रिटेन की अर्थव्यवस्था सुधरते ही यह इलाका और भी महंगा हो जाएगा. अभी इस इलाके में किराया 262 डॉलर (करीब 14 हजार रुपये) प्रति वर्ग फ़ीट है. ये किराया पेरिस, न्यूयार्क और मास्को की तुलना में दोगुना है.

सबसे महंगे दफ़्तरों का ठिकाना

1. वेस्ट एंड, लंदन

2. सेंट्रल बिज़नेस डिस्ट्रिक्ट,हॉंगकॉंग

3. जोना सूल एरिया, रियो डि जेनेरियो

4. कनॉट प्लेस, नई दिल्ली

5. सेंट्रल बिज़नेस डिस्ट्रिक्ट, टोक्यो

6. सेंट्रल बिज़नेस डिस्ट्रिक्ट, मास्को

7. सेंट्रल बिज़नेस डिस्ट्रिक्ट, बीजिंग

8. मिड टाउन, मैडिसन एंड फिफ्थ एवेंन्यू, न्यूयार्क

9. सेंट्रल बिज़नेस डिस्ट्रिक्ट, सिडनी

10. सेंट्रल बिज़नेस डिस्ट्रिक्ट, पेरिस

लंदन ने हॉंगकॉग के सेंट्रल बिज़नेस डिस्ट्रिक्ट को भी पछाड़ दिया है.

मंदी का असर नहीं

इस सूची में सबसे ज़्यादा चौंकाने वाला शहर ब्राज़ील का रियो डि जेनेरियो है. महंगाई के लिहाज़ से इस शहर के जूना सोल एरिया बाज़ार में दफ़्तरों का किराया आठवें पायदान से छलांग लगाते हुए तीसरे नंबर पर पहुंच गया है. बीते एक साल में इस इलाके में दफ़्तरों के किराए में करीब 43 फ़ीसदी की बढ़ोत्तरी दर्ज हुई है.

'कुशमैन एंड वैकफ़ील्ड' के अध्यक्ष और मुख्य कार्यकारी अधिकारी ग्लेन रुफ्रानो का कहना है, “लंदन, हॉंगकॉंग और न्यूयार्क में दफ़्तरों का किराया बहुत ज़्यादा है. यहां के जिन बाज़ारों में कारोबार होता है उन पर आर्थिक मंदी का असर नहीं पड़ा है. एशिया और दक्षिण अमरीका के मुख्य शहरों के बाज़ार भी किराए के लिहाज़ से महंगे होते जा रहे हैं.”

हालांकि आर्थिक मंदी का असर दुनिया के कुछ अहम व्यापारिक केंद्रों के किराए पर पड़ा है. मसलन टोक्यो के सेंट्रल बिज़नेस डिस्ट्रिक्ट में किराया उतनी तेजी से नहीं बढ़ा है, जिसके चलते यह दुनिया के सबसे महंगे बाज़ारों की सूची में तीसरे नंबर से पांचवें नंबर पर फिसल आया है.

हालांकि दुनिया सभी अहम बाज़ारों में किराया इतनी तेजी से नहीं बढ़ रहा है. अन्य बाज़ारों में किराया अमूमन तीन फ़ीसदी की दर से ही बढ़ रहा है.

इसे भी पढ़ें

टॉपिक

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.