BBC navigation

दिल्ली में जारी हैं यौन हिंसा की घटनाएं

 बुधवार, 6 फ़रवरी, 2013 को 19:36 IST तक के समाचार
बलात्कार

बलात्कार की घटनाएं रुकने का नाम नहीं ले रही हैं

महिलाओं के खिलाफ यौन हिंसा के विरुद्ध सख्त कानून की कवायद में केंद्र सरकार ने भले ही अध्यादेश जारी कर दिया हो, लेकिन यौन हिंसा से संबंधित अपराध रुकने का नाम नहीं ले रहे.

राजधानी दिल्ली के पॉश कहे जाने वाले इलाके दक्षिणी दिल्ली के लाजपत नगर में एक और दिल दहला देने वाली घटना सामने आई है.

लाजपत नगर में हुई इस वारदात में एक व्यक्ति ने एक 19 वर्षीया लड़की के घर में घुसकर उसके साथ बलात्कार करने की कोशिश की और नाकाम रहने पर उसे बुरी तरह मारा पीटा और बाद में उसके मुँह में लोहे की सरिया डाल दी.

पीड़ित लड़की का नई दिल्ली के ऑल इंडिया मेडिकल इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज़ (एम्स) में इलाज चल रहा है जहां उसकी हालत गंभीर बताई जा रही है.

पुलिस ने 25-वर्षीय इस अभियुक्त को गिरफ्तार कर लिया है.

महलाएं असुरक्षित

इस बीच, दिल्ली की मुख्यमंत्री शीला दीक्षित ने एक बार फिर महिलाओं पर जारी हिंसा को लेकर दिल्ली पुलिस पर सवाल उठाए हैं.

"हम लगातार फेल हो रहे हैं. लाजपत नगर की घटना से मुझे धक्का लगा है. दिल्ली महिलाओं के लिए सुरक्षित नहीं है"

शीला दीक्षित, दिल्ली की मुख्यमंत्री

संवाददाताओं से बातचीत में उन्होंने साफतौर पर कहा कि दिल्ली में महिलाएं बिल्कुल सुरक्षित नहीं हैं.

इस ताजा वारदात के सामने आने के बाद राजधानी में महिलाओं की सुरक्षा पर उन्होंने कहा, ‘हम मानते हैं कि हम लगातार फेल हो रहे हैं. लाजपत नगर की घटना से मुझे धक्का लगा है.’

पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक सोमवार की रात को पीड़ित लड़की घर में अकेली थी. उसी वक्त अनिल बिजली का मासिक शुल्क लेने आया और उससे परिचित होने के कारण लड़की ने घर में दाखिल होने दिया.

लेकिन अभियुक्त ने लड़की को घर में अकेला पाकर उसके साथ बलात्कार करने की कोशिश की.

लड़की ने अपने बचाव में घर में पड़ा लोहे का एक सरिया उठा लिया, और उसे मारकर भगाने की कोशिश करते हुए शोर मचा दिया.

इस पर अभियुक्त ने लड़की को चुप कराने के लिए सरिया छीनकर लड़की के मुंह में अंदर तक घुसा दिया, और फरार हो गया.

शोर सुनकर आए पड़ोसियों ने ही लड़की को घायल देखकर उसे तुरन्त अस्पताल पहुंचाया.

इसे भी पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.