BBC navigation

दिल्ली गैंगरेप: आमने सामने हुए अभियुक्त और चश्मदीद

 मंगलवार, 5 फ़रवरी, 2013 को 17:29 IST तक के समाचार

दिल्ली सामूहिक बलात्कार मामले में चश्मदीदों की सुनवाई शुरू हुई.

दिल्ली में बर्बर सामूहिक बलात्कार मामले में आज पीड़ित लड़की के दोस्त ने अपना बयान अदालत को दिया. अभियुक्त पहली बार अदालत में चश्मदीद से आमने सामने हुए.

सुनवाई के दौरान पीड़ित लड़की के दोस्त ने अदालत में अपना बयान दिया जिसके बाद उन्हें उस बस में ले जाया गया जिसमें यह घटना घटी थी.

पुलिस अधिकारियों के मुताबिक इस मामले में अतिरिक्त चार्जशीट दाखिल की है. चार्जशीट में पीड़िता की शव परीक्षण रिपोर्ट से जुड़ी जानकारियां शामिल की गई हैं.

कुल 80 लोगों को चश्मदीद बनाया

चश्मदीद गवाह के रुप में बलात्कार पीड़ित के दोस्त को व्हील-चेयर पर अदालत में लाया गया. वो इस मामले का सबसे अहम चश्मदीद गवाह है जो हादसे के दौरान बस में मौजूद था.

पुलिस ने कुल 80 लोगों को चश्मदीद बनाया है, इसमें एक को अभियोजन पक्ष के सामने पेश किया जाएगा.

इस मामले में पांच लोगों पर बलात्कार और हत्या का मामला दर्ज किया गया है. अगर इन्हें दोषी पाया जाता है तो इन्हें मौत की सज़ा मिल सकती है. जबकि छठे आरोपी पर किशोर अदालत में मामला चल रहा है.

13 मामले दर्ज

वैसे इन अभियुक्तों पर कुल 13 मामले दर्ज किए गए हैं जिनमें हत्या और बलात्कार के मामले शामिल हैं. अभियोजन पक्ष की ओर से कहा गया है कि इस मामले में डीएनए जांच कराई जा सकती है.

बीते 16 दिसंबर को दिल्ली की एक चलती बस में 23 साल की पैरा-मेडिकल छात्रा के साथ सामूहिक बलात्कार किया गया था. इसमें छात्रा बुरी तरह ज़ख्मी भी हुई थी और बाद में सिंगापुर के एक अस्पताल में इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई.

इस घटना के बाद देश भर में विरोध प्रदर्शन हुए. इनसे बढ़े दबाव के बाद सरकार ने महिलाओं के प्रति यौन हिंसा के कानून में अहम बदलाव करते हुए अध्यादेश पारित किया.

इन बदलावों में जघन्य आरोपों के दोषी को मौत की सजा देने को मंजूरी दी गई है. इस पर क्लिक करें राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने रविवार को अपनी मंजूरी भी दे दी, हालांकि कई क्लिक करें महिला संगठन इन बदलावों का विरोध भी कर रहे हैं.

इसे भी पढ़ें

टॉपिक

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.