नाइजीरिया से अगवा पाँच भारतीय छूटे

 रविवार, 27 जनवरी, 2013 को 08:18 IST तक के समाचार
सोमालिया के डाकू

नाइजीरिया के तेल उत्पादक इलाके में और तटीय क्षेत्र में अपहरण की घटनाएं आम हैं

नाइजीरिया में उन पांच भारतीय नाविकों को रिहा कर दिया गया है जिन्हें नाइजीरिया के तट पर पिछले महीने उनके जहाज़ पर आक्रमण करके क्लिक करें जलदस्युओं ने बंदी बना लिया था.

ये नाविक जिस जहाज़ के कर्मचारी थे उसे संचालित करने वाली कंपनी ने एक बयान जारी करके ये सूचना दी है.

सोमाली लुटेरों ने गत 17 दिसंबर को तेल और रसायन लेकर जा रहे एसपी ब्रसेल्स नाम के इस जहाज़ को लूट लिया था. ये घटना नाइजर डेल्टा के पास हुई थी जो कि अफ्रीका के सबसे बड़े ऊर्जा उद्योग के रूप में जाना जाता है.

कंपनी ने अपने बयान में कहा है, “चालक दल के पांच सदस्यों को, जिनका सशस्त्र लोगों ने अपहरण कर लिया था, उन्हें रिहा कर दिया गया है. सभी पांच लोग स्वस्थ हैं.”

इन लोगों की रिहाई कैसे हुई और किन परिस्थितियों में हुई, इस बारे में कोई विस्तृत जानकारी नहीं मिल सकी है. लेकिन इससे पहले ऐसी घटनाओं में जब भी रिहाई हुई है तो उसमें फिरौती दी गई है.

नाइजीरिया के तेल उत्पादक इस इलाके में और तटीय क्षेत्र में अपहरण की घटनाएं बहुत ही आम हैं.

कुआलालंपुर स्थित अंतरराष्ट्रीय मेरीटाइम ब्यूरो के प्रमुख नोएल चूंग ने समाचार एजेंसी एएफपी को बताया कि साल 2012 में खाड़ी क्षेत्र में अपहरण की कम से कम 51 घटनाएं हुई हैं और सोमालिया के बाद जहाजों के लिए ये इलाका सबसे खतरनाक बन गया है.

दरअसल क्लिक करें नाइजीरिया जहाजों के लिए बेहद व्यस्त मार्ग है. ये पश्चिम अफ्रीकी देश दुनिया के दस सबसे बड़े कच्चे तेल के निर्यातक देशों में से एक है. लेकिन यहां तेल शोधन सुविधा सही न होने की वजह से नाइजीरिया को अपनी कुल जरूरतों का अस्सी प्रतिशत ईंधन आयात करना पड़ता है.

इसे भी पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.