गृह मंत्री के समर्थन में उतरे गृह सचिव

 बुधवार, 23 जनवरी, 2013 को 02:05 IST तक के समाचार

सुशील शिंदे के बयान के बचाव में उतरे हैं केंद्रीय गृह सचिव आर के सिंह.

केन्द्रीय गृह सचिव आर के सिंह ने कहा है कि देश के विभिन्न हिस्सों में हुए चरमपंथी हमलों के सिलसिले में पकड़े गए कम से कम दस लोगों का संबंध राष्ट्रीय स्वंय सेवक संघ और उससे जुड़े संगठनों से है.

सिंह ने कहा, “समझौता एक्सप्रेस, मक्का मस्जिद और दरगाह शरीफ मामलों की जाँच में हमने यह पाया है कि कम से कम दस नाम ऐसे हैं जिनका कभी न कभी आरएसएस और उससे जुड़े संगठनों से वास्ता रहा है.”

गृह सचिव का बयान ऐसे समय आया है कि जब गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे भगवा चरमपंथ पर अपने बयान को लेकर भाजपा और आरएसएस के निशाने पर है और उनके इस्तीफे की मांग जोर पकड़ रही है.

सिंह ने कहा, “हमारे पास उनके खिलाफ़ सबूत हैं. हमारे पास प्रत्यक्षदर्शियों के बयान हैं.”

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक गृह सचिव ने उन नामों के बारे मे भी बताया जो कथित रुप से चरमपंथी हमलों में शामिल हैं और जिनका संबंध आरएसएस से रहा है.

इनमें सुनील जोशी का नाम भी शामिल है जो कथित तौर पर समझौता एक्सप्रेस और अजमेर शरीफ दरगाह धमाकों में शामिल थे.

सुनील की अब मौत हो चुकी है. वो 1990 के दशक से 2003 तक देवास और महू में आरएसएस कार्यकर्ता रह चुका था.

गृह सचिव ने बताया कि इसके अलावा संदीप डांगे, लोकेश शर्मा, स्वामी असीमानंद, राजेन्दर उर्फ समुन्दर, मुकेश वसानी, देवेन्दर गुप्ता, चंद्रशेखर लेवे, कमल चौहान और रामजी कलसांगरा का भी आरएसएस और उससे जुड़ी संस्थाओं से संबंध रहा है.

इनमें से संदीप डांगे और रामजी कलसांगरा फरार हैं जबकि बाकी सभी को गिरफ्तार किया जा चुका है.

इसे भी पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.