BBC navigation

सात मामले जब सीमाएँ लाँघ गए नेता

 मंगलवार, 22 जनवरी, 2013 को 14:59 IST तक के समाचार
ममता बनर्जी

ममता बनर्जी से बयान पर माफ़ी मांगने की मांग हो रही है

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने एक रैली में प्रधानमंत्री को निशाना बनाते हुए कुछ ऐसा कह दिया कि उस पर राजनीतिक बवाल शुरू हो गया है.

ममता ने किसानों खेती में इस्तेमाल की जाने वाली खाद की कीमतों में इज़ाफ़े का विरोध करते हुए कहा है कि उन्होंने प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से मिलकर कई बार इसका विरोध जताया है, लेकिन वे उनकी नहीं सुनते.

ममता इसके बाद एक क़दम और आगे बढ़ गईं और कहा, ''मैं प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से इस मुद्दे पर 10 बार मिल चुकी हूं और इससे ज़्यादा नहीं कर सकती. क्या अब मैं जाकर उन्हें मारूं? अगर मैं ऐसा करुंगी तो आप मुझे गुंडा कहेंगे, मुझे तो बिना कुछ किए भी लोग गुंडा बुलाते हैं. हालांकि मुझे गुंडा कहलाने पर कोई एतराज़ भी नहीं है, लेकिन मुझे पता है कि इससे निकलने का क्या रास्ता है.''

ममता बनर्जी के इस बयान के बाद केंद्रीय मंत्री दीपा दासमुंशी ने ममता से प्रधानमंत्री के खिलाफ़ कहे गए अपशब्दों के लिए माफ़ी मांगने को कहा है.

प्रधानमंत्री या किसी राजनेता के खिलाफ़ अपशब्द या असंसदीय भाषा के प्रयोग का ये कोई पहला मामला नहीं है.

हाल-फिलहाल के दिनों में ऐसे कई मौके आए हैं जब किसी ना किसी नेता ने विरोधी नेताओं का ना सिर्फ अपमान किया है, बल्कि राजनीतिक मर्यादा का उल्लंघन भी किया है.

अनीसुर रहमान

कुछ समय पहले वामपंथी नेता अनिसुर रहमान ने ममता बनर्जी पर एक रैली के दौरान भद्दी टिप्पणी की थी.

अनिसुर रहमान ने कहा था, "हम ममता दी से पूछना चाहते हैं उन्हें कितना मुआवजा चाहिए. बलात्कार कराने के लिए वे कितना पैसा लेंगी."

अनिसुर ने ये बयान ममता बनर्जी की उस घोषणा के बाद दिया था जिसमें मुख्यमंत्री ने एक बलात्कार पीड़ित को 20 हज़ार रुपए मुआवज़ा देने की घोषणा की थी.

इस टिप्पणी को वामपंथी नेताओं ने भी ग़लत बताया था.

संजय निरूपम

नरेंद्र मोदी

नरेंद्र मोदी ने सोनिया गांधी के ख़िलाफ़ कई बार विवादास्पद टिप्पणियाँ की हैं

दिसंबर महीने में एक टीवी चैनल पर काँग्रेस सांसद संजय निरुपम की भाजपा सांसद स्मृति ईरानी पर टिप्पणी से बड़ा बवाल खडा हो गया था.

गुजरात चुनावों के परिणामों पर चल रही एक बहस के दौरान काँग्रेस सांसद संजय निरुपम ने तैश में आकर स्मृति ईरानी को संबोधित करते हुए कहा "कल तक आप पैसे के लिए ठुमके लगा रही थीं और आज आप राजनीति सिखा रही हैं."

निरुपम की टिप्पणी से गुस्साई भाजपा ने उन सभी टीवी कार्यक्रमों का बॉयकॉट करने की घोषणा की थी जहां निरूपम मौजूद होंगे. बाद में स्मृति ईरानी ने संजय निरुपम को मानहानि का नोटिस भी भेजा.

नरेंद्र मोदी

हिमाचल चुनाव के दौरान मंडी में प्रचार कर रहे गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी ने कांग्रेस नेता थरूर की पत्नी सुनंदा पुष्‍कर को '50 करोड़ की गर्लफ्रेंड' क़रार दिया था.

इस टिप्पणी पर पलटवार करते हुए शशि थरूर ने ट्विटर पर लिखा था, "मोदी जी मेरी पत्नी 50 करोड़ की नहीं बल्कि अनमोल है, लेकिन आप को यह समझ में नहीं आएगा क्योंकि आप किसी के प्यार के लायक नहीं हैं."

मुख्त़ार अब्बास नक़वी

थरूर के इस कटाक्ष के बाद बीजेपी भी पीछे नहीं रही और भाजपा प्रवक्ता मुख्त़ार अब्बास नक़वी ने थरूर पर हमला बोलते हुए कहा कि 'लव गुरू' शशि थरूर को 'लव अफेयर्स' का मंत्री बनाया जाना चाहिए.

उनके इस टिप्पणी का संदर्भ भी सुनंदा पुष्कर से शशि थरुर से प्रेम विवाह था.

नितिन गडकरी

नितिन गडकरी

नितिन गडकरी कई बार विवादास्पद बयान दे चुके हैं

कुछ समय पहले चंडीगढ़ में एक रैली में भाजपा अध्यक्ष नितिन गडकरी ने आरजेडी अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव और समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष मुलायम सिंह को 'सोनिया गांधी का कुत्ता' कह दिया दिया था.

गडकरी ने लालू और मुलायम के लोकसभा से वॉकआउट का जिक्र करते हुए कहा था, "मुलायम सिंह और लालू प्रसाद यादव जो यूपीए और सरकार के विरोध की बात करते हैं वे भी जाकर सीबीआई के सामने जाकर झुक गए. जो लोग शेर जैसे दहाड़ने की बात करते हैं लेकिन कुत्ते जैसे बनकर सोनिया गांधी और कांग्रेस के तलुए चाटते हैं.''

उनकी इस टिप्पणी की भी तीखी प्रतिक्रिया होगी.

सुखबीर बादल- अमरिंदर सिंह

पंजाब चुनावों के दौरान कांग्रेस नेता अमरिंदर सिंह ने प्रकाश सिंह बादल की तुलना लीबियाई तानाशाह गद्दाफ़ी से की तो सुखबीर बादल ने अमरिंदर सिंह की तुलना सद्दाम हुसैन से कर दी थी.

राजनीति में तल्ख़बयानी कोई नई बात नहीं है.

पहले चुनावी सभाओं में ऐसे उदाहरण मिला करते थे लेकिन अब तो आए दिन नेता इस तरह के बयान देने लगे हैं.

इसे भी पढ़ें

टॉपिक

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.