......वो बलात्कार समर्थक हैं

  • 21 जनवरी 2013
दिल्ली बलात्कार पीड़ित का कमरा, मेज़ पर किताबें और नोट्स देखे जा सकते हैं.

दिल्ली बलात्कार घटना में पीड़ित लड़की की मां ने उन बयानों की निंदा की है, जिनमें उनकी बेटी को इस घटना के लिए दोषी ठहराया गया था.

बीबीसी से बातचीत में लड़की की मां ने कहा है कि जिन नेताओं ने इस तरह के बयान दिए हैं, वो दिखाता है कि वो कैसे इस तरह के अपराधों का समर्थन करते हैं.

इस मामले की सोमवार को ही दिल्ली की साकेत फास्ट ट्रैक कोर्ट में सुनवाई शुरू हो रही है.

इस मामले में कई नेताओं और धार्मिक गुरुओं ने पीड़ित लड़की को ही इस हरकत के लिए जिम्मेवार ठहराया था.

बलात्कार मामले पर 10 विवादास्पद बयान

इससे पहले धार्मिक गुरु आसाराम बापू ने भी कहा था कि सामूहिक बलात्कार की घटना के लिए पीड़ित लड़की भी ज़िम्मेदार है.

आसाराम बापू ने कहा था, ''केवल पांच-छह लोग ही अपराधी नहीं हैं. बलात्कार की शिकार हुई बिटिया भी उतनी ही दोषी है जितने बलात्कारी.''

धर्मगुरु के बोल

आसाराम बापू का कहना था, ''वह अपराधियों को भाई कहकर पुकार सकती थी. इससे उसकी इज्जत और जान भी बच सकती थी. क्या ताली एक हाथ से बज सकती है, मुझे तो ऐसा नहीं लगता.''

मीडिया में आ रही खबरों के मुताबिक, आसाराम बापू का ये भी कहना था कि वह बलात्कारियों के लिए अधिक कड़े दंड के विरुद्ध हैं क्योंकि इस कानून का दुरुपयोग भी हो सकता है.

इसके अलावा कुछ नेताओं ने बलात्कार के लिए लड़कियों के कपड़ों को भी जिम्मेदार ठहराया था.

मध्य प्रदेश सरकार सरकार में मंत्री कैलाश विजयवर्गीय ने कहा था, “महिलाओं को ध्यान रखना होगा कि उन्होंने लक्ष्मण रेखा लांघी तो रावण सामने होगा. इसलिए उन्हें मर्यादा में रहना चाहिए.”

जबकि विश्व हिंदू परिषद के अध्यक्ष अशोक सिंघल ने तो यहां तक कहा था कि महिलाओं के ख़िलाफ़ अपराध इसलिए बढ़ते जा रहे हैं क्योंकि हम पश्चिमी सभ्यता की नकल कर रहे हैं.

संबंधित समाचार