अब पाक बुज़ुर्गों को पहुँचने पर वीज़ा

  • 15 जनवरी 2013
बाघा सीमा
एक वीज़ा के लिए शुल्क के तौर पर सौ रुपये अदा करने होंगे

पाकिस्तान के 65 साल से अधिक उम्र के नागरिक मंगलवार से 'वीज़ा ऑन अराइवल' के जरिए बाघा सीमा के रास्ते भारत में दाखिल हो सकेंगे.

भारत ने यह कदम दोनों देशों के बीच बीते साल हुए उदार वीज़ा समझौते के तहत उठाया है और सोमवार को भारत ने घोषणा की थी वह वीज़ा देने के अपने निर्णय पर क़ायम है.

पाकिस्तान के बुजुर्ग नागरिकों को भारत ने 'वीज़ा ऑन अराइवल' की शुरुआत ऐसे समय की है जब कश्मीर में नियंत्रण रेखा पर गोलाबारी में सैनिकों की मौत की वजह से दोनों देशों के रिश्तों में तनाव बढ़ गया है.

एक वीज़ा पांच जगह

'वीज़ा ऑन अराइवल' की सुविधा दोनों देशों के बीच सीमा पर और कहीं नहीं मिलेगी.

इसके तहत पाकिस्तान के वरिष्ठ नागरिकों के लिए 'सिंगल-एंट्री वीज़ा' जारी किया जाएगा जो 45 दिनों के लिए वैध होगा.

इस वीज़ा के जरिए पाकिस्तान के नागरिक भारत में अधिकतम पांच जगहों पर जा सकेंगे.

इसके अलावा, 'वीज़ा ऑन अराइवल' धारकों को पुलिस के सामने हाज़िरी लगाने से छूट दी गई है जबकि पाकिस्तान से भारत आने वाले ज्यादातर यात्रियों के लिए ऐसा करना अनिवार्य होता है.

भारतीय उच्चायोग ने एक बयान में कहा है, ''भारत-पाकिस्तान द्विपक्षीय वीज़ा समझौता 2012 प्रभावी होने से पाकिस्तान के 65 साल से अधिक उम्र के नागरिक वाघा-अटारी सीमा के रास्ते 15 जनवरी से 'वीज़ा ऑन अराइवल' के जरिए भारत में दाखिल हो सकेंगे.''

किसे मिलेगा, कब मिलेगा

'वीज़ा ऑन अराइवल' हर दिन सुबह 10 बजे से दोपहर चार बजे तक जारी किए जाएंगे. इसके लिए पाकिस्तान के नागिरकों को भारत में पैदल दाखिल होना होगा.

लेकिन इस वीज़ा के जरिए पाकिस्तान के नागरिक जम्मू कश्मीर, केरल और कुछ अन्य प्रतिबंधित जगहों पर नहीं जा सकेंगे.

'वीज़ा ऑन अराइवल' की सुविधा पाकिस्तान के उन्हीं नागरिकों को मिलेगी जो भारत अपने दोस्तों या परिजनों से मिलने आएंगे.

कारोबार, चिकित्सा, किसी सम्मेलन, रोजगार, तीर्थयात्रा और अन्य तरह के कार्यों के लिए 'वीज़ा ऑन अराइवल' नहीं मिलेगा.

इस तरह के मामलों में पाकिस्तान के नागिरकों को नियमित वीज़ा के लिए पहले की तरह भारत उच्चायोग से सम्पर्क करना होगा.

इतना नहीं, 'वीज़ा ऑन अराइवल' की सुविधा पाकिस्तान के किसी नागरिक को साल में केवल दो बार ही मिलेगी.

'वीज़ा ऑन अराइवल' की निर्धारित अवधि बढ़ाई नहीं जा सकेगी और इसे दूसरे किसी वीज़ा में भी बदला नहीं जा सकेगा.

एक वीज़ा के लिए शुल्क के तौर पर सौ रुपये अदा करने होंगे.

संबंधित समाचार