वो परफेक्ट लड़की थी: बलात्कार पीड़िता के सहपाठी

 शुक्रवार, 11 जनवरी, 2013 को 19:10 IST तक के समाचार

कॉलेज ने दामिनी के नाम से एक ट्रॉफी शुरू करने का फैसला किया है

दिल्ली में सामूहिक बलात्कार का शिकार हुई लड़की देहरादून में पढ़ती थी.

एक साधारण सी इमारत में ये इंस्टीट्यूट चलता है. वहां जाकर यकीन ही नहीं होता कि वो लड़की यहां पढ़ती होगी जिसके जज़्बे ने भारतीय शासन, राजनीति और समाज की चूलें इस कदर हिला दीं कि देश- दुनिया में उसका जलजला महसूस किया.

इंस्टीट्यूट के निदेशक, अध्यापक और छात्रों के लिए ये घटना एक सदमा है और उनके लिए ये विश्वास करना कठिन है कि उनके कॉलेज की एक लड़की के साथ इस तरह का पाशविक कृत्य हो सकता है.

उनके लिए मौत के सच को स्वीकार करना बेहद मुश्किल है.

इंस्टीट्यूट के प्रबंध निदेशक कहते हैं, “वो बहुत व्यवहारकुशल थी. 2008 से 2012 तक मेरे इंस्टीट्यूट में रही. पहले उसने पीएमटी के लिए कोशिश की थी, लेकिन एक या दो नंबर से उसका सेलेक्शन रह गया था. इसका ज़िक्र उसने मुझसे किया था. मेरे इंस्टीट्यूट में उसने बैचलर ऑफ फीजियोथेरेपी में दाखिला लिया. वो बेहद सकारात्मक सोच रखने वाली लड़की थी.”

'निडर स्वभाव'

"वो न सिर्फ पढ़ने में अच्छी थी, लेकिन दूसरी चीज़ों में भी परफेक्ट थी. वो हर तरह के कार्यक्रमों में बढ़-चढ़ कर हिस्सा लेती और बहुत अच्छी डांसर भी थी. वो महिला अधिकारों पर बात करती थी और सामाजिक कार्य में हमेशा आगे रहती थी."

दामिनी की अध्यापिका

प्रबंध निदेशक ने बीबीसी को बताया कि इंस्टीट्यूट में पीड़िता का रैंक हमेशा दूसरे या तीसरे नंबर का रहता था.

मौत पर शोक व्यक्त करते हुए उन्होंने कहा, “वो न सिर्फ पढ़ने में अच्छी थी, लेकिन दूसरी चीज़ों में भी परफेक्ट थी. वो हर तरह के कार्यक्रमों में बढ़-चढ़ कर हिस्सा लेती और बहुत अच्छी डांसर भी थी.”

प्रबंध निदेशक ने कहा कि वे लड़की की फीस की राशि उनके पिताजी को लौटा देंगें.

उन्होंने ये भी बताया कि कॉलेज में वो महिला अधिकारों पर बात करती थी और सामाजिक कार्य में हमेशा आगे रहती थी. कॉलेज ने उनके नाम से एक ट्रॉफी शुरू करने का भी फैसला किया है.

'महत्वाकांक्षी थी दामिनी'

दामिनी इस इंस्टिट्यूट में चार साल से पढ़ाई कर रही थी

अपनी छात्रा को याद करते हुए इंस्टिट्यूट की अध्यापिका की आंखें नम हो जाती हैं. वे कहती हैं, “पहले तो यकीन ही नहीं हुआ कि हमारा बच्चा, जिसे हमने चार साल लगातार देखा हो, उसके साथ ऐसा हादसा हो सकता है. वो बेहद मेहनती और गंभीर होने के साथ-साथ बहुत महत्तवकांक्षी थी. उसे अपने माता-पिता की हमेशा चिंता लगी रहती थी. हमेशा यही सोचती कि कब अपने पैरों पर खड़े होकर उनकी मदद करूंगीं.”

अध्यापिका अपनी छात्रा के स्वाभाव का जिक्र कुछ इन शब्दों में करती हैं, “बहुत भावुक थी और अपनी निजी बातें भी हमसे शेयर करती थी. हमें क्लास के बाहर पकड़-पकड़ कर ले जाती थी और पूछती थी कि मैडम क्या पढ़ूं, कैसे तैयारी करूं? सीखने की उसे बहुत इच्छा रहती थी. उस बच्ची में ये बात थी कि अपनी गलती भी स्वीकार कर लेती थी.”

"बहुत भावुक थी और अपनी निजी बातें भी हमसे शेयर करती थी. हमें क्लास के बाहर पकड़-पकड़ कर ले जाती थी और पूछती थी कि मैडम क्या पढ़ूं, कैसे तैयारी करूं?"

दामिनी की अध्यापिका

वो फाइनल इयर की छात्रा थी और दिल्ली में इंटर्नशिप करने गई थी. उसके ज्यादातर सहपाठी अलग-अलग शहरों में इंटर्नशिप करने चले गए हैं.

अपने जूनियर छात्र– छात्राओं में वो भी बेहद लोकप्रिय थी. उनका कहना है कि वो हर किसी की मदद के लिये हमेशा तत्पर रहती थी.

एक छात्रा कहती है, “वो हमारे लिये एक प्रेरणा बनकर हमेशा जीवित रहेगी.”

अब इस कॉलेज में पढ़ाई पटरी पर लौट आई है, लेकिन सामूहिक बलात्कार की इस घटना की आंच संस्थान में अब भी महसूस की जाती है.

इसे भी पढ़ें

टॉपिक

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.