बलात्कारियों को नपुंसक बनाया जाए: जयललिता

 मंगलवार, 1 जनवरी, 2013 को 18:15 IST तक के समाचार
जयललिता, तमिलनाडु

तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जयललिता ने बलात्कारियों को मौत की सज़ा देने की पैरवी की है

दिल्ली में हुई सामूहिक बलात्कार की घटना के बाद महिलाओं की सुरक्षा को लेकर देशभर में विमर्श शुरू हो गया है. ऐसे में तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जे जयललिता ने राज्य में महिलाओं से छेड़छाड़ और यौन उत्पीड़न करने वालों को मौत की सज़ा देने और रासायनिक तरीके से नपुंसक बनाने की हिमायत की है ताकि वे दोबारा इस तरह के अपराध न कर पाएं.

जयललिता ने मंगलवार को जारी लिखित आदेश में बलात्कारियों को सज़ा देने के लिए राज्य के हर ज़िले में फास्टट्रैक कोर्ट का गठन करने और जांच प्रक्रिया में तेजी लाने को कहा है. उन्होंने ताकीद दी है कि बलात्कार के जुड़े मामले पर 15 दिनों के भीतर रिपोर्ट आ जानी चाहिए.

राज्य में महिलाओं की सुरक्षा के लिए अब चौबीस घंटे की एक हेल्पलाइन शुरू की जाएगी जिसकी निगरानी वरिष्ठ पुलिस अधिकारी करेंगे.

साथ ही राज्य में यौन उत्पीड़न से जुड़े मामलों की जांच अब एक महिला पुलिस अधिकारी ही करेंगी.

गुंडा ऐक्ट में बदलाव

राज्य में ‘गुंडा ऐक्ट’ में भी फेरबदल की कवायद शुरू की जाएगी. मुख्यमंत्री इस कानून को और सख्त बनाकर इसके तहत यौन हिंसा करने वाले बलात्कारियों को कड़ी सज़ा देने की योजना बना रही हैं. वह चाहती हैं कि यह कानून इतना सख्त हो कि कोई भी आरोपी सज़ा की गिरफ्त से निकल न पाए.

मुख्यमंत्री ने मौजूदा कानून में संशोधन कर रासायनिक तरीके से बलात्कारियों को नपुंसक बनाने की मांग की है.

उन्होंने राज्य में बलात्कार से जुड़े सभी लंबित मामलों पर तुरंत कार्रवाई करने और जल्द से जल्द न्याय दिलाने के लिए प्रमुख पुलिस अधिकारियों को मुस्तैद रहने का आदेश दिया है.

जयललिता ने केंद्र सरकार से भी बलात्कार के जुड़े कानून में तुरंत संशोधन करने की गुहार लगाई है ताकि ऐसे अपराध करने की कोई जुर्रत न कर सके.

इसे भी पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.