BBC navigation

प्रधानमंत्री जी......सब ठीक नहीं है...

 सोमवार, 24 दिसंबर, 2012 को 17:15 IST तक के समाचार

प्रधानमंत्री के ठीक है शब्दों ने उन्हें मजाक का पात्र बना दिया है.

दिल्ली में गैंग रेप मामले में प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने आखिरकार बयान तो दिया लेकिन बयान के दो शब्दों ने उन्हें सोशल मीडिया ट्विटर पर मजाक का पात्र बना दिया है.

असल में हुआ यूं कि प्रधानमंत्री ने राष्ट्र के नाम संबोधन के अंत में कहा...’ठीक है.’ शायद प्रधानमंत्री भाषण की रिकार्डिंग के बारे में पूछ रहे थे कि ठीक है या नहीं.....लेकिन ट्विटर पर लोगों ने इन दो शब्दों को पकड़ लिया.

अब ये दो शब्द यानी Theekhai सबसे ऊपर ट्रेंड कर रहा है और लोगों के ट्विट्स पढ़ने लायक हैं.

रमेश श्रीवत्स @rameshsrivats: लिखते हैं: पुतिन- मेरे पास गाड़ी है बंगला है रुस है. तुम्हारे पास क्या है. मनमोहन-ठीक है.

जेबा Jeba ‏@Jeba लिखते हैं- प्रधानमंत्री के दफ्तर में वीडियो एडिटिंग का ये हाल है तो ....

"अब पता चला क्यों प्रधानमंत्री को महत्वपूर्ण मुद्दों पर बोलने नहीं दिया जाता. वो चीज़ों को और ख़राब करते हैं. ठीक है. "

आयुष्या राठौड़ Aayushya Rathod ‏@Aayushya_Rathod लिखती हैं-

अब पता चला क्यों प्रधानमंत्री को महत्वपूर्ण मुद्दों पर बोलने नहीं दिया जाता. वो चीज़ों को और ख़राब करते हैं. ठीक है.

राहुल देशपांडे का ट्विट है.Rahul Deshpande ‏@mastanabail एक शब्द कहना नहीं चाहूंगा पीएम के भाषण के बारे में. सब कुछ दो शब्द में सिमट सकता है. ठीक है.

पूर्णचंद्रन नायर Purnachandran Nair ‏@purnacool लिखते हैं – पीएम का भाषण और उनके हाव भाव लकड़ी जैसे हैं टीक की लकड़ी जैसे..ठीक है.

विची वुमनिया witchy womaniya ‏@oxymoronic_me लिखती हैं – मुझे सारे राजनेताओं को थप्पड़ मारने दीजिए...ठीक है.

सिद्धार्थ गुगनानी Sidharth Gugnani ‏@sidgugnani कहते हैं कि अगर कभी यस मिनिस्टर हिंदी में बना तो सबको पता है कि इसका नाम क्या होगा...ठीक है.

वन डायरेक्शन इंडिया One Direction India ‏@1DCrewIndia कहता है कि पीएम आप चुप थे तो ही बेहतर था...ठीक है.

इसे भी पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.