'पीड़िता की हालत कल से बिगड़ी'

  • 24 दिसंबर 2012
पीड़ित लड़की के समर्थन में बड़ी संख्या में आम लोग आगे आए हैं

दिल्ली में 16 दिसम्बर की रात चलती बस में सामूहिक बलात्कार की शिकार बनी 23 वर्षीय लड़की की हालत अब भी खतरे से बाहर नहीं है.

ताज़ा मेडिकल बुलेटिन में डॉक्टरों ने कहा कि पीड़ित को रात में रक्त स्राव हुआ जिसके बाद उसका ऑपरेशन किया गया और उसे प्लेटलेट्स दिए गए हैं.

डॉक्टरों के मुताबिक पीड़ित की हालत ऑपरेशन के बाद से सुधरी है लेकिन कल के मुकाबले स्थिती गंभीर है.

पीड़ित का प्लेटलेट काउंट 70,000 और व्हाइट बल्ड सेल्स की संख्या 6000 है.

डॉक्टरों के मुताबिक अच्छी बात ये रही कि उसकी किडनी से मूत्र बनने का काम शुरू हुआ है.

इस बीच पीड़ित को साइकोथेरेपी भी की गई है. डॉक्टरों की टीम में शामिल मनोचिकित्सकों के मुताबिक पीड़ित की मानसिक स्थिति ठीक है.

एक दिन पहले

इससे एक दिन पहले डॉक्टरों ने कहा था कि पीड़ित लड़की अपने भविष्य के प्रति आशान्वित है और बात करने की कोशिश कर रही है.

डॉक्टरों का ये भी कहना है कि उसे एंटी-बॉयोटिक्स के 'हाई-डोज़' दिए जा रहे हैं ताकि उसे किसी तरह के संक्रमण से बचाया जा सके.

इससे दो दिन पहले, लड़की की जाँच की बाद पत्रकारों से बात करते हुए डॉक्टरों ने कहा था कि उसके चेहरे पर निराशा नहीं है. मनोचिकित्सकों ने भी पीड़ित लड़की की जाँच की थी.

पीड़ित लड़की को वेंटिलेटर से हटा लिया गया था और उसे संक्रमण से बचाने के लिए डॉक्टरों को उसकी आंतें तक निकालनी पड़ी थीं.

डॉक्टरों ने कहा कि हालांकि लड़की की हालत ठीक है, पर संक्रमण की संभावना बनी हुई है.