सरहद पार एक और प्रेम-कहानी

 रविवार, 23 दिसंबर, 2012 को 07:41 IST तक के समाचार

लड़की का कहना है कि उसे पिता के हवाले किया गया तो वह अपनी जान दे देगी

ये दो साल पहले की बात है जब जानवरों की खरीद-फरोख्त करने वाले बांग्लादेश के लाजु इस्लाम को भारत की लैली बेगम से प्यार हो गया था.

लेकिन जब लैली बेगम के पिता ने उनकी शादी किसी और से करानी चाही तो वह घर से भागकर, घुसपैठ करके बांग्लादेश जा पहुंचीं.

फिर लाजु और लैली ने चिटगांव की एक अदालत में शादी कर ली.

पुलिस अधिकारी मोहम्मद सोहराब हुसैन बताते हैं, ''दोनों के संबंधों की शुरुआत दो वर्ष पहले हुई थी. लाजु अक्सर अपने धंधे के सिलसिले में भारत जाता था जहां वह लैली के भाई के सम्पर्क में आया और यहीं से लाजु-लैली की जान-पहचान हुई.''

वे बताते हैं, ''लैली के पिता ने उसकी शादी कहीं और करानी चाही तो लैली भागकर बांग्लादेश आ गई और चिटगांव में दोनों ने शादी कर ली.''

बेटी को वापस करने की मांग

"लड़की के पिता सम्पन्न हैं और लड़का गरीब. इसलिए वह इस संबंध के खिलाफ हैं. लेकिन लड़की का कहना है कि वह लाजु से प्रेम करती है और उसे पिता के हवाले किया गया तो वह आत्महत्या कर लेगी."

मोहम्मद सोहराब, पुलिस अधिकारी

इस पर लैली के पिता बाबरउद्दीन ने कड़ी आपत्ति जताई और वे चाहते हैं कि लैली को उनके हवाले कर दिया जाए. लेकिन लैली का कहना है कि यदि ऐसा किया गया तो वह आत्महत्या कर लेगी.

पुलिस अधिकारी मोहम्मद सोहराब हुसैन बताते हैं, ''लड़की के पिता सम्पन्न हैं और लड़का गरीब. इसलिए वह इस संबंध के खिलाफ हैं. लेकिन लड़की का कहना है कि वह लाजु से प्रेम करती है और उसे पिता के हवाले किया गया तो वह आत्महत्या कर लेगी.''

गुस्साए पिता बाबरउद्दीन ने बांग्लादेश के कुछ लोगों को कथित रूप से बंधक बना लिया है. बाबरउद्दीन का कहना है कि उनकी बेटी को वापस भेजने पर ही इन नागरिकों को रिहा किया जाएगा.

दूसरी तरफ भारत में कूचबिहार की पुलिस ने बांग्लादेश के पांच नागरिकों को कोर्ट में पेश किया है जहां उन पर जरूरी दस्तावेजों के बिना भारत में दाखिल होने का आरोप है.

वहीं लाजु और लैली को भी बांग्लादेश की लालमोनिरहाट जेल में रखा गया है.

इसे भी पढ़ें

टॉपिक

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.