BBC navigation

पुरुष हैं पिंकी, बलात्कार का मामला दर्ज

 सोमवार, 12 नवंबर, 2012 को 16:48 IST तक के समाचार
भारतीय एथलीट पिंकी प्रमाणिक

पश्चिम बंगाल की पुलिस का कहना है कि पिंकी प्रमाणिक पुरुष हैं.

पश्चिम बंगाल की पुलिस का कहना है कि एथलीट पिंकी प्रमाणिक पुरुष हैं.

महिला वर्ग में कई अंतरराष्ट्रीय प्रतिस्पर्धाएं जीत चुकी पिंकी पर पुलिस ने बलात्कार, धोखेबाज़ी और उनके साथ रह रही महिला मित्र को धमकी देने का आरोप लगाया है.

राज्य पुलिस की चार्जशीट में कहा गया है कि पिंकी प्रमाणिक की मेडिकल रिपोर्ट, इस बात की ओर इशारा करती है कि पिंकी पुरुष हैं.

पुलिस ने मेडिकल रिपोर्ट और चार्जशीट बारासात अदालत में दर्ज की है. इसी अदालत ने इससे पहले पिंकी के लिंग परीक्षण का आदेश दिया था.

पिंकी का मेडिकल परीक्षण कोलकाता के एक सरकारी अस्पताल में किया गया था. पिंकी और उनके वकील बलात्कार के आरोपों को खारिज करते रहे हैं.

मामला

इस वर्ष जून में पिंकी के साथ रह रही उनकी महिला मित्र ने उनके पुरुष होने का दावा करते हुए का पिंकी पर बलात्कार का आरोप लगाया था जिसके उन्हें गिरफ़्तार किया गया था. लेकिन जुलाई में पिंकी को ज़मानत मिल गई थी.

गिरफ़्तारी के बाद शुरु में पिंकी को पुलिस निगरानी में बारासात के एक निजी अस्पताल ले जाया गया था और बाद में लिंग परीक्षण के लिए उन्हें बारासात जनरल अस्पताल ले जाया गया. लेकिन इस परीक्षण से साफ़ नहीं हो पाया कि पिंकी पुरुष हैं या महिला जिसके बाद उन्हें कोलकाता के एसएसकेएम अस्पताल भेजा गया.

लेकिन सरकारी अस्पताल में क्रोमोज़ोम पैटर्न टेस्ट की सुविधा नहीं होने की वजह से एक बार फिर पिंकी प्रमाणिक के लिंग का रहस्य सुलझ नहीं पाया.

खेलों से संन्यास ले चुकी पिंकी प्रमाणिक, 2006 दोहा एशियाड खेलों में 4 गुना 400 मी रिले दौड़ में स्वर्ण पदक जीतने वाली भारतीय टीम का हिस्सा थीं.

इसी वर्ग में उन्होंने 2006 राष्ट्रमंडल खेलों में रजत पदक भी जीता था. वर्ष 2006 में ही कोलंबो में आयोजित सैफ़ खेलों में पिंकी ने 400 मीटर, 800 मीटर और 4x400 मीटर रिले वर्गों में पदक जीते थे.

इसे भी पढ़ें

टॉपिक

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.