BBC navigation

केजरीवाल के आरोपों पर रिलायंस का इनकार

 शुक्रवार, 9 नवंबर, 2012 को 20:06 IST तक के समाचार
अरविंद केजरीवाल

अरविंद केजरीवाल इससे पहले भी कई लोगों के खिलाफ गंभीर आरोप लगा चुके हैं.

इंडिया अगेंस्ट करप्शन के अरविंद केजरीवाल ने आरोप लगाया है कि एचएसबीसी बैंक की जिनेवा शाखा में 700 लोगों के 6,000 करोड़ रुपए का काला धन जमा है.

शुक्रवार को पत्रकारों को संबोधित करते हुए अरविंद केजरीवाल ने कहा कि सरकार इन्हें बचाने का प्रयास कर रही है और अपराध को बढ़ावा दे रही है.

यह कहते हुए कि उन्हें यह जानकारी एक कांग्रेस के नेता से मिली है, केजरीवाल ने कहा कि उनके पास कुछ ही नाम हैं और सारे 700 लोगों की सूची नहीं है.

उन्होंने इनमें कई बड़े उद्योगपतियों के नाम लिए. इसके अलावा केजरीवाल ने जिन लोगों के नाम लिए हैं, उनमें एक पूर्व आईआरएस अधिकारी और एक कांग्रेस सांसद भी शामिल थे. आईआरएस के ये अधिकारी प्रवर्तन निदेशालय में भी काम कर चुके हैं.

आरोपों का खंडन

अरविंद केजरीवाल ने जिन लोगों पर ये आरोप लगाए थे, उनमें से मुकेश अंबानी की रिलायंस इंडस्ट्रीज़ ने इंडिया अगेन्स्ट करप्शन के लगाए तमाम आरोपों से इनकार किया है.

कांग्रेस सांसद अनु टंडन ने भी अरविंद केजरीवाल के आरोपों को पूरी तरह से निराधार बताया है.

अरविंद केजरीवाल ने अपने आरोपों में डाबर समूह का भी नाम लिया था. डाबर समूह के बर्मन बंधुओं ने भी केजरीवाल के आरोपों को खारिज किया है.

डाबर इंडिया की तरफ से जारी एक बयान में कहा गया है, ''ये दुर्भाग्यपूर्ण है कि जिन लोगों के विदेशी बैंक में खाते हैं, उन्हें एक ही नजर से देखा जाता है. हम ये कहना चाहते हैं कि बर्मन परिवार के जिन सदस्यों ने ये खाते खोले हैं, वे अनिवासी भारतीय हैं और उन्हें वैध रूप से खोला गया है.''

अभी कई लोगों का पक्ष सामने नहीं आया है, इसलिए बीबीसी उनके नाम नहीं ले रहा है.

केजरीवाल ने कहा कि दिसंबर 2006 में सरकार को सारी सूची दी गई थी लेकिन इस पर कोई कार्रवाई नहीं की गई.

'बड़े लोगों को नहीं छेड़ा'

"कांग्रेस और बीजीपी में घमासान शुरु हो गया है. लोग आपस में एक दूसरे की पोल खोल रहे हैं. कांग्रेस वाले कांग्रेस वालों की जानकारियां दे रहे हैं और बीजेपी वाले बीजेपी की जानकारियां दे रहे हैं."

अरविंद केजरीवाल

उन्होंने कहा कि छोटे लोगों पर छापे मारे गए लेकिन बड़े लोगों को छेड़ा नहीं गया. उन्होंने कहा, ''हमारे देश की आर्थिक प्रभुसत्ता खतरे में है.''

केजरीवाल ने संकेत दिए कि वो ऐसी जानकारी सार्वजनिक करते रहेंगे. उन्होंने कहा, ''कांग्रेस और बीजीपी में घमासान शुरु हो गया है. लोग आपस में एक दूसरे की पोल खोल रहे हैं. कांग्रेस वाले कांग्रेस वालों की जानकारियां दे रहे हैं और बीजेपी वाले बीजेपी की जानकारियां दे रहे हैं.''

गुरुवार से ही इस पर अनुमान लगाए जा रहे थे कि केजरीवाल की 'हिट लिस्ट' में अबकी बार कौन हो सकता है.

यह पहला मौका नहीं हैं कि केजरीवाल इस तरह की जानकारी लेकर सामने आए हैं. इससे पहले 31 अक्तूबर को अरविंद केजरीवाल ने मुकेश अंबानी की रिलायंस कंपनी को अपना निशाना बनाया था.

इसी तरह केजरीवाल सोनिया गांधी के दामाद रॉबर्ट वा़ड्रा, रिएल एस्टेट कंपनी और हरियाणा सरकार के बीच सांठगांठ पर आरोप लगा चुके हैं. उन्होंने भाजपा अध्यक्ष नितिन गडकरी पर भी आरोप लगाए थे.

रिलायंस का जवाब

अरविंद केजरीवाल के आरोपों पर रिलायंस ने कहा है, ''रिलायंस इंडस्ट्रीज़ इंडिया अगेन्स्ट करप्शन के लगाए तमाम आरोपों से इनकार करती है. रिलायंस इंडस्ट्रीज़ लिमिटेड और मुकेश अंबानी का दुनिया में कहीं भी कोई अवैध खाता नहीं है.''

रिलायंस का कहना है, ''रिलायंस इंडस्ट्रीज़ के कारोबारी हित दुनिया के कई देशों में हैं और रिलायंस इंडस्ट्रीज़ एचएसबीसी समेत कई वैश्विक बैंकों के साथ काम करती है. ये तमाम खाते नियमों के अनुरूप हैं.''

इसी तरह कांग्रेस सांसद अनु टंडन ने भी अरविंद केजरीवाल के आरोपों को पूरी तरह से निराधार बताया है.

इसे भी पढ़ें

टॉपिक

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.