टूजी घोटाले की जाँच करने वाले अफसर की मौत

  • 8 नवंबर 2012
पल्सानिया सीबीआई
पल्सानिया ने टूजी मामले में दूरसंचार मंत्री ए राजा औऱ डीएमके नेता कनिमोड़ी पर चार्जशीट दायर की थी

टूजी स्पेक्ट्रम घोटाले की जाँच करने वाले सीबीआई (केंद्रीय जाँच ब्यूरो) अधिकारी सुरेश कुमार पल्सानिया की बुधवार रात मृत्यु हो गई.

मौत का कारण ल्यूकीमिया बताया जा रहा है, हालाँकि सीबीआई ने एक वक्तव्य में कहा कि पल्सानिया एक गंभीर बीमारी से पीड़ित थे और संक्रमण के कारण उनकी हालत खराब हो गई.

44 वर्षीय पल्सानिया को बेहतरीन अफसर माना जाता था, और उनके साथी अधिकारी उनकी मौत से बेहद दुखी हैं.

पल्सानिया के परिवार में उनकी पत्नी के अलावा उनका 10 साल का बेटा है.

एक सीबीआई अफसर ने बीबीसी को बताया कि पल्सानिया को ल्यूकीमिया के बारे में अक्टूबर में पता चला था और उसके बाद उनकी कीमोथेरपी चल रही थी.

एक अधिकारी ने उन्हें सीबीआई का सबसे तंदुरुस्त अधिकारी बताया.

पुलिस मैडल से सम्मानित

राजस्थान के रहने वाले 1996 बैच उड़ीसा कैडर के आईपीएस अफसर पल्सानिया सीबीआई में 2006 से काम कर रहे थे.

पल्सानिया सीबीआई की भ्रष्टाचार विरोधी शाखा में डेप्युटी इंस्पेक्टर जनरल के पद पर कार्य कर रहे थे और उन्हें इसी साल गणतंत्र दिवस के मौके पर पुलिस मैडल से सम्मानित किया गया था.

सीबीआई प्रमुख एपी सिंह ने पल्सानिया की मौत पर दुख व्यक्त किया है.

पल्सानिया ने टूजी मामले में दूरसंचार मंत्री ए राजा और डीएमके नेता कनिमोड़ी पर चार्जशीट दायर की थी.

इसी मामले पर हाल ही में वो मलेशिया भी गए थे.

उन्होंने कॉमनवेल्थ खेल घोटाले की जाँच पर शुरुआती कार्रवाई भी की थी.

संबंधित समाचार