BBC navigation

आउटसोर्सिंग पर चिंतित नहीं भारतीय उद्योग

 बुधवार, 7 नवंबर, 2012 को 17:00 IST तक के समाचार
कॉल सेंटर

बराक ओबामा ने पिछले चुनाव के दौरान भी आउटसोर्सिंग के खिलाफ बहुत सख्त भाषण दिए थे

बराक ओबामा को भले ही अमरीकी जनता ने अलग माना हो लेकिन भारतीय उद्योग जगत की निगाह में वो एक आम भारतीय नेता की तरह ही साबित होंगे.

व्हाइट हाउस पर अपना कब्ज़ा बनाए रखने की दौड़ के दौरान ओबामा ने अमरीका से भारत और फिलिपीन्स जैसे मुल्कों की ओर नौकरियां बढ़ाने को गलत बताया था. ओबामा ने प्रचार के दौरान अमरीका में नौकरियों को बढ़ाने के लिए आउटसोर्सिंग को हतोत्साहित करने की बात कही थी.

लेकिन भारतीय उद्योग जगत के प्रमुख संगठन सीआईआई के महानिदेशक चंद्रजीत बनर्जी का मानना है "ज़्यादातर जो चुनाव के दौरान कहा गया उसे राजनीतिक अतिशयोक्ति अलंकार मान सकते हैं. इसका कोई खास फर्क नहीं पड़ेगा."

परस्पर लाभप्रद

"हमने पहले भी चुनावों के दौरान इस तरह की बातें सुन चुके हैं. बिल क्लिंटन ने भी चुनाव प्रचार के दौरान इसके खिलाफ बहुत बातें की थीं लेकिन उनके राष्ट्रपति बनने के बाद हमने भारत के साथ अमरीकी कंपनियों के व्यापार पर कोई प्रभाव नहीं देखा"

सुनील भारती मित्तल

बराक ओबामा की पहली प्राथमिकता अमरीका की अर्थव्यवस्था को सुधारने की होगी और इसमें भारतीय कंपनियां बड़ा योगदान दे सकती हैं. बनर्जी ने कहा " भारतीय कंपनियों ने पिछले एक साल में अमरीका में अपने निवेश से 20,000 नई नौकरियाँ पैदा की हैं."

इसी तरह से एक दूसरे व्यापारिक संगठन फिक्की के अध्यक्ष आर वी कनोरिया ने भी बराक ओबामा की जीत पर ख़ुशी जताते हुए कहा है "भारतीय मूल के मतदाताओं ने बराक ओबामा की जीत में एक बड़ी भूमिका अदा की है . आशा है कि इन मतदाताओं के साथ भारत और अमरीका अपने व्यापारिक रिश्तों को और मज़बूत कर सकेंगे."

कनोरिया ने यह भी कहा, "नई ओबामा सरकार भविष्य की सोच रखते हुए व्यावहारिक ढंग से आउटसोर्सिंग जैसे विषयों पर आगे बढ़ेगी. आखिरकार अगर अमरीकी कंपनिया सस्ते में काम कराएंगी तो वो अपने यहाँ अधिक निवेश कर पाएंगी."

समाचार एजेंसी पीटीआई ने भारती एयरटेल समूह के मालिक सुनील मित्तल के हवाले से कहा है, "हमने पहले भी चुनावों के दौरान इस तरह की बातें सुन चुके हैं. बिल क्लिंटन ने भी चुनाव प्रचार के दौरान इसके खिलाफ बहुत बातें की थीं लेकिन उनके राष्ट्रपति बनने के बाद हमने भारत के साथ अमरीकी कंपनियों के व्यापार पर कोई प्रभाव नहीं देखा."

इसे भी पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.