'नीलम' के कारण भारी बारिश, जनजीवन प्रभावित

  • 31 अक्तूबर 2012
चक्रवात नीलम
चक्रवात की आशंका को देखते हुए मछुआरों से समुद्र में न जाने को कहा गया है.

दक्षिणी भारत के पूर्वी तट पर चक्रवाती तूफ़ान "नीलम" ने दस्तक दे दी है. इस समय ये तूफान चेन्नई के निकट महाबलिपुरम तट को पार कर रहा है.

नीलम के प्रभाव से चेन्नई सहित उत्तरी तमिलनाडु के कई शहरों में 90 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएँ चल रही हैं और तूफानी बारिश हो रही है.

गत 24 घंटे में महाबलिपुरम में 13 सेमी बारिश हुई है. चेन्नई में काफी नुकसान हुआ है. बिजली की आपूर्ति अस्त व्यस्त है. चेन्नई हवाई अड्डे को भी बंद कर दिया गया है.

एक जहाज तूफान के कारण बीच पर आ गया है. 80 लोग सवार हैं. उन लोगों को बचा कर निकालने के लिए भारतीय नौसेना कोशिश कर रही है.

राहतकार्य

एक और घटना में एक बचावकार्य में लगा जहाज भी डूब गया है. इसमें 14 लोग सवार थे. उसमें सवार लोगों को बचाने की कोशिश की जा रही है.

चेन्नई के निकट कलपक्कम परमाणु प्लांट में सतर्कता घोषित कर दी गई है, लेकिन अधिकारियों का कहना है कि प्लांट काम कर रहा है.

तेज़ बारिश के कारण मंगलवार से ही आम जीवन अस्त-व्यस्त हो गया है और बुधवार को चेन्नई सहित तमिलनाडु के आठ जिलों में स्कूलों की छुट्टी है. एहतियात के तौर पर कई इलाकों में बिजली की आपूर्ति भी बंद कर दी गई है.

तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश की सरकारों ने पहले ही तटीय जिलों में प्रशासन को सतर्क कर दिया था.

इस साल "नीलम" इस क्षेत्र में आने वाला पहला चक्रवाती तूफ़ान है. पिछले वर्ष इसी इलाके में आए तूफ़ान "ठाणे" ने काफी तबाही मचाई थी.

संबंधित समाचार