बूढ़ी सरकार को जवान करने की कोशिश?

 रविवार, 28 अक्तूबर, 2012 को 19:14 IST तक के समाचार

रविवार को 22 मंत्रियों ने शपथ लिया. तस्वीर पीटीआई

कैबिनेट में फेरबदल के बाद 22 नए मंत्रियों ने रविवार को शपथ ले ली. इससे पहले भारतीय मीडिया में जिस तरह भारी फेरबदल की खबरें आ रही थी, वैसा कुछ नहीं हुआ है.

तो क्या मनमोहन सिंह की नई टीम में सचमुच में कुछ बदला है या ये नई बोतल में पुरानी शराब जैसी बात है?

वरिष्ठ पत्रकार और इंडियन एक्सप्रेस अखबार के संपादक शेखर गुप्ता का कहना है कि ऐसा नहीं है, बल्कि सरकार ने माना है कि वो ठीक से चल नहीं रही है और उसमें दम नहीं है.

बीबीसी हिंदी से खास बातचीत में शेखर गुप्ता ने कहा कि ये फेरबदल काफी पहले होना चाहिए था.

नई बोतल, पुरानी शराब?

शेखर गुप्ता कहते हैं, "ये पूरी तरह से नई बोतल में पुरानी शराब नहीं है, दरअसल ये बूढ़ी सरकार में नई जवानी भरने की कोशिश है. ये तो साल 2009 में ही होना चाहिए था."

वे कहते हैं कि ये आगे की तरफ एक कदम है. उन्होंने कहा, "नए मंत्रियों को जरूरत है कुछ करके दिखाने की क्योंकि डेढ़ साल के बाद चुनाव है. वैसे ये बहुत पहले होना चाहिए था और ये कैबिनेट 2009 में बननी चाहिए थी. नए मंत्रिमंडल से सरकार में नई-नई उर्जा आएगी और बाकी प्रधानमंत्री के उपर है वो किस तरह काम लेते हैं."

इन दिनों सरकार चारों तरफ से घोटालों के आरोपों में घिरी है. तो ऐसे माहौल में क्या मंत्रिमंडल के बदलाव से सरकार अपना बचाव कर रही है.

ये पूछे जाने पर शेखर गुप्ता ने कहा, "ये डिफेंस की बात नहीं है, ये एक तरह से कबूल किया गया है कि सरकार ठीक से काम नहीं कर रही है, बहुत चीज़ें अटकी हुई हैं, सरकार में ऊर्जा और दम नहीं है."

बचाव

"ये डिफेंस की बात नहीं है, ये एक तरह से कबूल किया गया है कि सरकार ठीक से काम नहीं कर रही है, बहुत चीज़ें अटकी हुई हैं, सरकार में ऊर्जा और दम नहीं है."

शेखर गुप्ता, वरिष्ठ पत्रकार

मनमोहन सिंह सरकार के मंत्रि-परिषद के विस्तार में सलमान ख़ुर्शीद को अगला विदेश मंत्री बनाया गया है जबकि पवन कुमार बंसल अब रेल मंत्री होंगे.

मौजूदा फेरबदल में खुर्शीद को चार अहम मंत्रालयों में से एक, विदेश मंत्रालय दिया गया है. वहीं सलमान खुर्शीद पर कथित भ्रष्टाचार के आरोप हैं. ऐसे में कांग्रेस क्या संदेश देना चाहती है?

शेखर गुप्ता कहते हैं, "सबसे बड़ा संदेश ये है कि ये जो कार्यकर्ता हैं, ये सरकार का एजेंडा नहीं बना सकते हैं. दूसरा ये कि जो खुर्शीद के खिलाफ आरोप हैं, वो भ्रष्टाचार से ज्यादा अनियमितताओं के आरोप हैं. कांग्रेस का कहना है कि सिर्फ आरोप के आधार पर सरकार से बाहर नहीं किया जाएगा."

इसे भी पढ़ें

टॉपिक

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.