BBC navigation

यश चोपड़ा के निधन से बॉलीवुड सन्न

 सोमवार, 22 अक्तूबर, 2012 को 01:00 IST तक के समाचार
यश चोपड़ा

हिंदी फिल्मों को रोमांस के रंगों से सराबोर करने वाले जानेमाने निर्माता-निर्देशक यश चोपड़ा के निधन की खबर से पूरा बॉलीवुड सन्न है.

अभी ज्यादा दिन नहीं गुजरे जब उन्होंने अपना 80वां जन्मदिन मनाया था और वो अपनी आखिरी फिल्म 'जब तक है जान' के साथ दर्शकों के बीच वापसी करने वाले थे.

डेंगू से पीड़ित यश चोपड़ा ने मुंबई के लीलावती अस्पताल में रविवार शाम अंतिम सांस ली. वे अपने पीछे पत्नी पामेला चोपड़ा एवं दो लड़के आदित्य एवं उदय छोड़ गए हैं.

उनका पार्थिव शरीर सोमवार की सुबह नौ बजे से 12 बजे तक यशराज फ़िल्म्स के स्टूडियों में रखा जाएगा और दोपहर तीन बजे पवनहंस शव-दाहगृह में उनका दाह संस्कार किया जाएगा.

भाई और दोस्त

यश चोपड़ा

यश चोपड़ा की वर्ष 1984 में आई फिल्म मशाल में अभिनय करने वाले वरिष्ठ अभिनेता दिलीप कुमार ने उनके निधन पर शोक जताया है.

दिलीप कुमार का कहना है, ''यकीन नहीं हो रहा, यश एक दोस्त से कहीं बढ़कर थे, एक भाई की तरह थे. उनके जाने से मुझे कितना दुख पहुंचा है, उसे बयां करने के लिए मेरे पास शब्द नहीं हैं.''

वहीं लता मंगेशकर यश चोपड़ा को एक अच्छे दिल वाला इंसान और एक भाई की तरह याद करती हैं.

वे कहती हैं, "यश चोपड़ा मेरे लिए एक भाई के समान थे. फिल्म बनाने की उनकी शैली निराली थी. उनमें संगीत ऐसा होता था कि फिल्म हिट हो जाती थी. मेरी उनसे आखिरी बार बात उनके जन्मदिन पर हुई थी, जिसके बाद वो बीमार हो गए थे. मैंने सोचा वो ठीक होंगे."

"आज़ादी के बाद भारतीय सिनेमा को यश चोपड़ा का योगदान अतुलनीय है. अपनी आखिरी फिल्म 'जब तक है जान' में उन्होंने अपना सर्वस्व दे दिया. वे एक बहुत ही सक्रिय इंसान थे."

महेश भट्ट

लता की आवाज़ पर फिल्म 'दिल तो पागल' के गीतों पर दर्शकों को झूमने पर मजबूर करने वाली अदाकार माधुरी दीक्षित यश चोपड़ा के निधन पर कहती हैं, ''अभी-अभी पता चला कि यश जी नहीं रहे. वे सिनेमा के दिग्गजों में से एक थे. हम सभी उन्हें बहुत मिस करेंगे.''

'अतुलनीय योगदान'

वहीं 'वीर-ज़ारा' फिल्म में अभिनय करने वाली प्रीति जिंटा कहती हैं, ''यश अंकल, हम आपको मिस करेंगे, भगवान उनकी आत्मा को शांति प्रदान करे.''

फिल्मकार महेश भट्ट कहते हैं, ''आज़ादी के बाद भारतीय सिनेमा को यश चोपड़ा का योगदान अतुलनीय है. अपनी आखिरी फिल्म 'जब तक है जान' में उन्होंने अपना सर्वस्व दे दिया. वे एक बहुत ही सक्रिय इंसान थे.''

वहीं शबाना आज़मी कहती हैं, ''यश जी, आप अभी ऐसे कैसे जा सकते हैं, आपके 80वें जन्मदिन पर हमने आपको 80 और फिल्म बनाने की शुभकामनाएं दी थीं. उनका जाना ह्रदय विदारक है.''

'जब तक था यश, तब तक था सिनेमा'

"पता ही नहीं चला, फिल्मों से बने हमारे संबंध कब पारिवारिक रिश्तों में बदल गए. मेरी सुबहें अब पहले जैसी कभी नहीं होंगी. प्रेम पहले जैसा नहीं होगा, सिनेमा भी पहले जैसा नहीं होगा."

अनुपम खेर

अभिनेता अक्षय कुमार ने भी यश चोपड़ा के निधन पर गहरा शोक जताया है. वहीं अमिताभ बच्चन ने ट्वीट किया है, ''यश चोपड़ा नहीं रहे, अभी एक घंटे पहले की बात है.''

चांदनी और लम्हे फिल्मों में यश चोपड़ा के साथ काम करने वाली श्रीदेवी ने ट्वीट किया है, ''यश जी के गुजर जाने की खबर से मुझे बड़ा दुख पहुंचा है. हम जब भी मिलते थे, मेरे लिए उनका दुलार उमड़ता था. उन्हें हमेशा मिस किया जाएगा.''

वहीं आशा भोंसले ने ट्वीट किया है, ''मैं अपनी बेटी के जाने के दुख से उबरने की कोशिश कर ही रही थी कि यश चोपड़ा भाई साहब चले गए. दुखद वर्ष.''

अनुपम का कहना है, ''पता ही नहीं चला, फिल्मों से बने हमारे संबंध कब पारिवारिक रिश्तों में बदल गए. मेरी सुबहें अब पहले जैसी कभी नहीं होंगी. प्रेम पहले जैसा नहीं होगा, सिनेमा भी पहले जैसा नहीं होगा.''

वहीं फरहान अख्तर का कहना है, ''मुझे आज समझ में आया है कि एक युग एक दौर खत्म होने का क्या मतलब है.''

फिल्मकार रामगोपाल वर्मा ने कहा है, ''जब तक था यश, तब तक था सिनेमा.''

इसे भी पढ़ें

टॉपिक

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.