BBC navigation

टीम के सदस्यों की जाँच होगी: केजरीवाल

 शुक्रवार, 19 अक्तूबर, 2012 को 18:11 IST तक के समाचार
केजरीवाल, अंजलि

अंजलि दमानिया की जाँच के आधार पर भाजपा अध्यक्ष नितिन गडकरी पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाए गए थे

इंडिया अगेंस्ट करप्शन यानि आईएसी के कुछ सदस्यों पर लगे भ्रष्टाचार के आरोपों के बाद अरविदं केजरीवाल ने उनकी जांच कराने की घोषणा की है.

केजरीवाल ने शुक्रवार को पत्रकारों से बातचीत के दौरान कहा कि उन आरोपों की जांच तीन पूर्व न्यायाधीश करेंगे.

इसके लिए उन्होंने एक समिति के गठन किए जाने का भी ऐलान किया. उनके मुताबिक़ दिल्ली हाईकोर्ट के पूर्व मुख्य न्यायाधीश जस्टिस एपी शाह तीन सदस्यीय समिति के अध्यक्ष होंगे.

बॉम्बे हाईकोर्ट के पूर्व न्यायधीश जस्टिस बीएच मारल्पल्ले और दिल्ली हाईकोर्ट के पूर्व न्यायधीश जस्टिस जसपाल सिंह इसके सदस्य होंगे.

अब तक आईएसी के लोग राजनेताओं पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाते रहें हैं लेकिन पिछले कुछ दिनों से आईएसी के सदस्यों पर भी राजनीतिक दलों की तरफ़ से भ्रष्टाचार के आरोप लगाए जाने लगे हैं.

आईएसी के जिन सदस्यों पर भ्रष्टाचार के आरोप लगे हैं उनमें अंजलि दमानिया, प्रशांत भूषण और मयंक गांधी शामिल हैं.

आरोप

"हमारे सदस्यों पर लगे आरोपों की जांच के लिए हमने समय-समय पर सरकार से एक स्वतंत्र समिति बनाने की अपील की है लेकिन ऐसा लगता है कि सरकार जांच कराने से ज्यादा हम पर कीचड़ उछालने की इच्छुक है. इसलिए हमने तीन पूर्व न्यायधीशों की एक स्वतंत्र समिति बनाने का फ़ैसला किया है जो कि भूषण, गांधी और दमानिया पर लगे आरोपों की जांच करेंगें"

अरविंद केजरीवाल

प्रशांत भूषण पर आरोप हैं कि उन्होंने हिमाचल प्रदेश में ज़मीन ख़रीदने में कुछ धांधली की है, मयंक गांधी पर बिल्डरों से रिश्ते रखने और एनजीओ के नाम पर ज़मीन ख़रीदकर बाद में आपने रिश्तेदारों को बेचने के आरोप हैं तो अंजलि दमानिया पर आदिवासियों की ज़मीन ख़रीदकर ज़मीन के लैंड-यूज़ बदलवाने के आरोप हैं.

शुक्रवार को अरविंद केजरीवाल का कहना था, ''हमारे सदस्यों पर लगे आरोपों की जांच के लिए हमने समय-समय पर सरकार से एक स्वतंत्र समिति बनाने की अपील की है लेकिन ऐसा लगता है कि सरकार जांच कराने से ज्यादा हम पर कीचड़ उछालने की इच्छुक है. इसलिए हमने तीन पूर्व न्यायधीशों की एक स्वतंत्र समिति बनाने का फ़ैसला किया है जो कि भूषण, गांधी और दमानिया पर लगे आरोपों की जांच करेंगें.''

केजरीवाल ने कहा कि वे समिति से तीन महीनों में अपनी जांच रिपोर्ट देने का अनुरोध करेंगे और अगर कोई सदस्य दोषी पाया गया तो उसे प्रस्तावित पार्टी के पद से इस्तीफ़ा देना होगा.

अंजलि दमानिया और मयंक गांधी ने जांच समिति के गठन का स्वागत किया है. अंजलि दमानिया और मयंक गांधी ने पत्रकारों से बातचीत के दौरान कहा कि उन्होने कोई ग़ैर-क़ानूनी काम नहीं किया है और वे किसी भी जांच के लिए तैयार हैं.

लेकिन केंद्र की यूपीए सरकार ने इस क़दम की आलोचना की है.

प्रधानमंत्री कार्यालय में तैनात मंत्री वी नारायणसामी ने कहा कि अपने ऊपर लगे आरोपों की ख़ुद ही जांच कराना बकवास है.

इसे भी पढ़ें

टॉपिक

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.