बीकानेर में ट्रेन-ट्रक की टक्कर, सात की मौत

  • 18 सितंबर 2012
बीकानेर में ट्रक और ट्रेन की टक्कर

उत्तरी राजस्थान में बीकानेर के निकट एक मालगाड़ी और ट्रक की भिड़ंत में सात लोगों की मौत हो गई है. ये हादसा सोमवार सुबह तब पेश आया जब श्रद्धालुओं को लेकर जा रहा ट्रक मानव रहित रेलवे फाटक पार कर रहा था और इतने में मालगाड़ी आ गई.

दुर्घटना में जख़्मी हुए 11 लोगों को बीकानेर के अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

इस हादसे से नाराज़ भीड़ ने बीकानेर से मदद लेकर पहुंची मेडिकल रिलीफ ट्रेन के इंजिन में आग लगा दी और तोड़फोड़ की.

बीकानेर में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सतीश चन्द्र जांगिड़ ने बीबीसी को बताया कि मौके पर पुलिस तैनात है और शांति बनी हुई है.

हादसा

पुलिस के मुताबिक घटना बीकानेर-जैसलमेर रेल मार्ग पर हुई. पुलिस अधीक्षक जांगिड़ ने बताया कि, "मरने वालो में चार पुरुष, एक महिला और दो बच्चे शामिल हैं."

पुलिस के अनुसार मानव रहित रेलवे फाटक पर संकेत और चेतावनी भी लिखी है, मगर ट्रक चालक ने इसे अनदेखा कर दिया. पुलिस ने बताया कि इस समय हजारों लोग एक धार्मिक मेले के लिए मरुस्थली क्षेत्र में यात्रा कर रहे हैं.

ये लोग भी धार्मिक यात्रा के लिए जैसलमेर ज़िले के रामदेवरा जा रहे थे.

इस हादसे में ट्रक का चालक बच गया है क्योंकि ट्रक के पीछे का हिस्सा ट्रेन की चपेट में आया है.

घटना के बाद चीखपुकार मच गई और लोग तात्कालिक राहत के लिए जुट गए.

पुलिस और स्थानीय लोगों ने घायलों को बीकानेर पहुँचाया.

अस्पताल में भर्ती ग्यारह घायलों की हालत में सुधार है.

भीड़ का हंगामा

पुलिस सूत्रों ने बताया कि हादसे के बाद रेलवे ने अपनी मेडिकल राहत ट्रेन मौके पर भेजी मगर उत्तेजित भीड़ ने इस पर हमला कर दिया और आग लगा दी.

भीड़ ने काफी देर तक रेल मार्ग जाम किए रखा.

बाद में वहां पुलिस बल पहुंचने पर ही शांति स्थापित हो सकी.

पुलिस ने हादसे के लिए ट्रक ड्राइवर के विरुद्ध लापरवाही से वाहन चला कर दुर्घटना को अंजाम देने का मामला दर्ज किया है.

चश्मदीदों के मुताबिक घटनास्थल पर बहुत कारुणिक मंज़र था.

ट्रक में श्रद्धालुओं के लिए रखा भोजन और पूजा सामग्री रेल की पटरी पर बिखर गए थे और चारों तरफ़ खून ही खून नज़र आ रहा था.