BBC navigation

भारत की नाराजगी पर गौर करेगा ट्विटर

 गुरुवार, 23 अगस्त, 2012 को 13:11 IST तक के समाचार
ट्विटर

मीडिया में ऐसी खबरें आ रही थीं कि सरकार ने ट्विटर को चेतावनी दी है और वो ट्विटर पर रोक लगा सकती है

ट्विटर ने कहा है कि वो भारत सरकार की उन शिकायतों पर विचार कर रहा है कि कुछ जाली ट्विटर हैंडल प्रधानमंत्री दफ्तर के नाम से गलत बातें ट्वीट कर रहे हैं.

बीबीसी को भेजे गए एक वक्तव्य में प्रधानमंत्री दफ्तर के मीडिया सलाहकार पंकज पचौरी ने कहा कि सरकार को ट्विटर की ओर से एक ईमेल मिला है जिसमें कहा गया है कि ट्विटर इस मामले में भारतीय दूरसंचार और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के संपर्क में रहेगा.

सरकार ने ट्विटर के इस फैसले का स्वागत किया है.

वक्तव्य के मुताबिक, "हमने ट्विटर से उन अकाउंट के बारे में शिकायत की थी जो प्रधानमंत्री को गलत ढंग से पेश कर रहे थे, उनकी नकल उतार रहे थे और उनकी तस्वीर के साथ ऐसी सामग्री अपलोड कर रहे थे जो भड़काऊ थीं औऱ जिससे ट्विटर इस्तेमाल करने वाले लोगों में सांप्रदायिक मामलों को लेकर भ्रम फैल सकता था."

वक्तव्य में कहा गया है कि जब ट्विटर ने सरकार की बात पर कोई जवाब नहीं दिया तो जून में कानून मंत्रालय से सलाह ली गई और साइबर सिक्योरिटी सेल से शिकायत की गई कि वो कड़ी कार्रवाई करें.

इससे पहले सरकारी सूत्रों ने बीबीसी को बताया था कि माइक्रोब्लॉगिंग वेबसाइट ट्विटर को बंद करने की बातें गलत हैं.

सूत्र के मुताबिक सरकार ने ट्विटर से ऐसा नहीं कहा था कि अगर उन्होंने सरकार की बात नहीं मानी तो उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी.

सूत्र ने बीबीसी को बताया, “वेबसाइटों को कहा गया है कि वो कुछ सामग्री को हटाएँ, और उन्होंने ऐसा करना भी शुरू कर दिया है. ये तकनीकी विषय हैं और चीजों को निपटाने में थोड़ा समय लगता है.”

सरकार की तरफ से कहा गया कि सोशल मीडिया पर कथित रोक से जुड़ी रिपोर्टों को जरूरत से ज्यादा उछाला जा रहा है और इस बारे में सरकार लगातार बैठकें कर रही है.

मुश्किल दौर

गौरतलब है कि असम में दो समुदाय के बीच झड़पों की घटनाओं की गूंज सोशल मीडिया पर भी दिखाई दी थीं जो आगे चलकर मुंबई में एक प्रदर्शन में तबदील हो गईं.

इंटरनेट और सोशल मीडिया वेबसाइटों पर आपत्तिजनक तस्वीरें आईं जिसके बाद बंगलौर में पूर्वोत्तर के लोगों को धमकी भरे एसएमएस आए और हज़ारों की संख्या में पूर्वोत्तर के लोगों ने बंगलौर और कई अन्य शहरों से पलायन किया.

कई लोगों ने इसके लिए सोशल मीडिया वेबसाइटों खासकर फेसबुक और ट्विटर को इसके लिए जिम्मेदार ठहराया था.

रिपोर्टें आई थीं कि गूगल और फेसबुक तो सरकार के साथ सहयोग कर रही हैं लेकिन ट्विटर नहीं. इसके बाद ऐसी रिपोर्टें आईं कि सरकार ट्विटर पर प्रतिबंध लगा सकती है.

उधर बैंगलोर स्थित एक गैर-सरकारी संगठन सेंटर फॉर इंटरनेट सोसाइटी ने दावा किया है कि उसके पास वो सरकारी सूची मौजूद है जिसमें उन 309 वेबसाइटों और वेबपेजों के नाम हैं जिन पर रोक लगाई गई है.

गोपनीयता क्यों?

"सरकार ने ब्लॉक किए गए वेबपेजों पर इतनी गोपनीयता क्यों बरती है और उनके नाम सार्वजनिक क्यों नहीं किए?"

प्रणेश प्रकाश , सेंटर फॉर इंटरनेट सोसाइटी

इस सूची के मुताबिक जिन चार वेबसाइटों को पूरी तरह बंद किया गया है, उन संगठनों के नाम हैं हिंदू जागृति, जाफरिया न्यूज, द युनिटी डॉट ओआरजी, अतजेह सायबर डॉट नेट.

इसके अलावा कई समाचार वेबसाइटों जैसे अल जज़ीरा, फर्स्ट पोस्ट, एबीसी डॉट नेट डॉट एयू, भास्कर के कुछ पन्नों को भी ब्लॉक किया गया है.

इसके अलावा जिन वेबसाइटों के पन्नों को ब्लॉक किया गया है उनमें फेसबुक, ब्लॉगस्पाट, इरावडी डॉट ओआरजी, इस्लामाबाद टाइम्स ऑनलाइन, डिफेंस डॉट पीके, गूगल प्लस शामिल हैं.

पत्रकारों के ट्विटर अकाउंट बंद?

खबरों के मुताबिक दो पत्रकारों कंचन गुप्ता और शिव अरूर के ट्विटर अकाउंट को भी ब्लॉक कर दिया गया है हालाँकि शिव ने बीबीसी को बताया कि वो अभी भी ट्वीट कर पा रहे हैं.

सेंटर फॉर इंटरनेट सोसाइटी के प्रणेश प्रकाश कहते हैं कि सरकार ने उन वेब पन्नों पर रोक लगाई है जिन पर आपत्तिजनक तस्वीरों और वीडियो हैं और इस सूची में हिंदू और इस्लामिक दक्षिणवादी संगठनों और एक ईसाई दक्षिणवादी संगठन की वेबसाइट शामिल हैं.

प्रणेश कहते हैं, “मुझे लगता है कि ज्यादातर सामग्रियों को वेबसाइटों से हटाया जाना चाहिए लेकिन मुझे नहीं लगता कि सरकार को इंटनेट सर्विस प्रोवाइडरों से कहना चाहिए था कि वो वेबपन्नों पर रोक लगाएँ.”

प्रणेश ने ये नहीं बताया कि ये सूची उन्हें कहाँ से मिली है.

उनका कहना है कि सरकार को लोगों तक जानकारी पहुँचाने के लिए एसएमएस का सहारा लेना चाहिए था, ना कि उन पर भी रोक लगानी चाहिए थी.

प्रणेश कहते हैं कि कई ऐसे लोगों के भी पोस्ट पर रोक लगा दी गई है जो अफवाहों पर रोक लगाने का काम कर रहे थे और इससे सरकार की कोशिशों को ही चोट पहुँचती है.

प्रणेश की माने तो इंटरनेट के जमाने में वेब पेजों पर रोक लगाने के कदम बेकार हैं क्योंकि ऐसे कई तरीके मौजूद हैं जिनकी मदद से सेंसरशिप से बचा जा सकता है.

प्रणेश ने बताया, “कई ऐसी सामग्री को रोकने की बात की गई है जो मौजूद ही नहीं है. जिस तरह से यूट्यूब के बीडियो पर रोक लगाई गई है, वो भी सवालों के घेरे में है.”

कई लोगों ने इस पर भी सवाल उठाए हैं कि सरकार ने ब्लॉक किए गए वेबपेजों पर इतनी गोपनीयता क्यों बरती है और उनके नाम सार्वजनिक क्यों नहीं किए.

उधर पत्रकार कंचन गुप्ता ने सरकार के कदम की निंदा की और कहा कि वो कथित सरकारी भ्रष्टाचार और प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के कड़े विरोधी रहे हैं इसलिए सरकार ने ये कदम उठाया है.

हिंदू जागृति के प्रवक्ता रमेश शिंडे का कहना था कि वो सरकार को नोटिस भेज रहे हैं कि उनकी वेबसाइट क्यों ब्लॉक की गई.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.