BBC navigation

युवा महिला नेता होने के कारण हुआ हमला: रूमी नाथ

 मंगलवार, 3 जुलाई, 2012 को 17:40 IST तक के समाचार
रूमी नाथ

रूमी नाथ ने बांग्लादेशी युवक जाकी जाकिर से दूसरी शादी की है.

असम में कांग्रेस विधायक रूमी नाथ ने कहा है कि हाल ही में उनके साथ हुई मार-पीट का उनकी शादी से कोई लेना देना नहीं है बल्कि उन्हें एक युवा महिला नेता होने की वजह से निशाना बनाया गया था.

बीबीसी से बातचीत में रूमी ने कहा कि वो इस घटना के पीछे अपनी ही पार्टी के लोगों का हाथ मानती हैं और कांग्रेस हाई कमान से उन्होंने इस बारे में शिकायत भी की है.

लेकिन कांग्रेस प्रवक्ता राशिद अल्वी से जब संपर्क किया गया तो उन्होंने बीबीसी को बताया, "अभी इस बारे में कोई औपचारिक शिकायत हमारे पास नहीं पहुंची है. हमें भी मीडिया से इस बारे में जानकारी मिली है."

रूमी नाथ ने अपने पहले पति को तलाक दिए बिना इसी वर्ष मार्च में बांग्लादेश के एक युवक जाकी जाकिर से शादी कर ली और वो इस समय गर्भवती हैं.

शुक्रवार को असम के करीमगंज जिले में इन दोनों को लगभग 200 लोगों की भीड़ ने एक होटल में घेर लिया और उनकी जमकर पिटाई की.

'शादी नहीं वजह'

पुलिस का कहना है कि लोग कांग्रेस विधायक की दूसरी शादी से नाराज थे, जबकि रूमी के मुताबिक इस घटना का उनकी शादी से कोई लेना देना नहीं है.

"मैं सबसे युवा विधायक रही हूं. मैंने बैंगलोर से एमबीबीएस किया है. मैं आज की पीढ़ी की लड़की हूं. मुझे आजादी चाहिए. बहुत सारे विधायक और सांसद हैं जिन्होंने दूसरी-तीसरी शादी की. लेकिन कोई पुरूष ये काम करता है तो कोई सवाल नहीं उठता."

रूमी नाथ, कांग्रेस विधायक

उन्होंने बताया, "चूंकि मैं एक महिला विधायक हूं, इसलिए मुझे निशाना बनाया गया है. इसका मेरी शादी से कोई लेना देना नही है. मेरे इलाके में बहुत सी हिंदू-मुस्लिम शादियां हुई हैं. किसी के साथ ऐसा नहीं होता है. घटना वाले दिन मैंने दिन में इलाके का दौरा किया. कहीं मुझे काले झंडे नहीं दिखाए गए, कहीं कोई विरोध नहीं हुआ."

इस हमले में रूमी और उनके पति को काफी चोटें आईं. रूमी कहती हैं, "जब वे लोग मेरे साथ मारपीट कर रहे थे, तो कोई ये नहीं कह रहा था कि तुमने दूसरी शादी कर ली है, इसलिए तुम्हें सबक सिखाएंगे. वे लोग सिर्फ मारे जा रहे थे."

रूमी के पहले पति राकेश ने पिछले महीने उनकी गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई थी. राकेश और रूमी की एक दो वर्षीय बच्ची भी है.

'आजादी की कीमत'

रूमी मानती हैं कि उन्हें पुरूषवादी मानसिकता के चलते ये सब झेलना पड़ा है. उन्होंने कहा, "मैं सबसे युवा विधायक रही हूं. मैंने बैंगलोर से एमबीबीएस किया है. मैं आज की पीढ़ी की लड़की हूं. मुझे आजादी चाहिए. बहुत सारे विधायक और सांसद हैं जिन्होंने दूसरी-तीसरी शादी की. लेकिन कोई पुरूष ये काम करता है तो कोई सवाल नहीं उठता."

रूमी इस हमले के लिए अपनी पार्टी के लोगों को ही जिम्मेदार मानती हैं. वो बताती हैं, "मेरी पार्टी के अंदर कुछ ऐसे लोग हैं जो मेरा विरोध कर रहे हैं, सांप्रदायिकता भड़का रहे हैं और वे नहीं चाहते कि रूमी नाथ आगे बढ़े."

दूसरी बार विधायक बनीं रूमी कहती हैं कि उन्होंने इस बारे में पार्टी के केंद्रीय नेतृत्व के सामने शिकायत दर्ज कराई है, लेकिन कांग्रेस का कहना है कि उसे अभी ऐसी कोई शिकायत नहीं मिली है.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

इसी विषय पर और पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.