जिन्ना का भाषण भारत से 'गायब'

 शनिवार, 9 जून, 2012 को 15:22 IST तक के समाचार

पाकिस्तान ब्रॉडकास्टिंग कॉर्पोरेशन मोहम्मद अली जिन्ना का भाषण ढूंढ रहा है.

भारत के सरकारी रेडियो ‘ऑल इंडिया रेडियो’ यानी एआईआर ने बीबीसी को बताया है कि उसके पास पाकिस्तान के संस्थापक मोहम्मद अली जिन्ना के वर्ष 1947 में दिए गए भाषण की रिकॉर्डिंग नहीं है.

पाकिस्तान के सरकारी प्रसारक, पाकिस्तान ब्रॉडकास्टिंग कॉर्पोरेशन ने एआईआर से वो ऐतिहासिक भाषण मांगा था जिसमें जिन्ना ने कहा था कि बिना किसी सरकारी दखल के लोग किसी भी मजहब के अनुयायी बने रह सकते हैं और पाकिस्तान एक धर्मनिरपेक्ष देश रहेगा जिसमें सभी को अपने मजहब के पालन की छूट होगी.

जिन्ना ने पाकिस्तान के बनाए जाने की घोषणा के तीन दिन पहले संविधान सभा को संबोधित किया था.

वहीं ऑल इंडिया रेडियो के महानिदेशक एल डी मंड्लोई ने बीबीसी को बताया, “एक विशेष तिथि पर की गई रिकॉर्डिंग के बारे में मुझे पाकिस्तान ब्रोडकास्टिंग कॉर्पोरेशन से फोन आया था, लेकिन हमारे पास वो टेप नहीं है.”

बीबीसी से गुजारिश

मंड्लोई ने कहा कि वो अब इसकी जानकारी प्रसार भारती को देंगे और ये सूचना पाकिस्तान को दी जाएगी.

"आप अपने मंदिरों में जाने के लिए आजाद हैं, आप अपने मस्जिदों में या और पूजा के किसी भी स्थान में जाने के लिए पाकिस्तान में आजाद हैं."

मोहम्मद अली जिन्ना का भाषण

पाकिस्तान के अधिकारियों के मुताबिक उन्होंने इस रिकॉर्डिंग के लिए पहले बीबीसी से संपर्क किया था.

पाकिस्तान ब्रॉडकास्टिंग कॉर्पोरेशन के महानिदेशक मुर्तजा सोलंगी ने भारत की समाचार एजंसी पीटीआई को बताया कि बीबीसी भी अपने आर्काइव में इस रिकार्डिंग को नहीं ढूंढ पाया.

सोलंगी ने कहा, “ये भाषण उन लोगों के लिए बहुत जरूरी है जो अपने देश पाकिस्तान को, एक आधुनिक, बहुलवादी और लोकतांत्रिक देश बनाना चाहते हैं.”

पाकिस्तान में भी नहीं मिला

भाषण में जिन्ना ने कहा था कि, “आप आजाद हैं; आप अपने मंदिरों में जाने के लिए आजाद हैं, आप अपने मस्जिदों में या और पूजा के किसी भी स्थान में जाने के लिए पाकिस्तान में आजाद हैं.”

उन्होंने कहा था कि, “आप किसी भी मजहब, जाति या संप्रदाय से ताल्लुक रखते हों, सरकार का इससे कोई लेनादेना नहीं है.”

पाकिस्तान ब्रॉडकास्टिंग कॉर्पोरेशन के महानिदेशक मुर्तजा सोलंगी के मुताबिक वर्ष 1947 में भारत का वो हिस्सा जो अब पाकिस्तान है, वहां के रेडियो स्टेशन्स में रिकॉर्डिंग की उचित सुविधाएं नहीं थीं, इसलिए वे जिन्ना का ये भाषण रिकॉर्ड नहीं कर पाए.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

इसी विषय पर और पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.