BBC navigation

तलवार दंपत्ति ने की आरुषि की हत्या: सीबीआई

 मंगलवार, 22 मई, 2012 को 20:49 IST तक के समाचार
आरुषि तलवार

मई 2008 में आरुषि की हत्या हुई थी

आरुषि हत्याकांड की सुनवाई कर रही विशेष अदालत के सामने सीबीआई ने कहा है कि राजेश और नूपुर तलवार ने ही अपनी बेटी आरुषि और नौकर हेमराज की हत्या की.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक विशेष अदालत में आरोप तय करने के लिए चल रही सुनवाई के दौरान सीबीआई के वकील आरके सैनी ने ये आरोप लगाए.

पोस्टमार्टम रिपोर्ट का हवाला देते हुए आरके सैनी ने कहा कि तलवार दंपत्ति ने कुछ समय के अंदर ही दोनों को एक-एक करके मार दिया, क्योंकि इन दोनों की मौत के समय में ज्यादा अंतर नहीं है.

इतना ही नहीं उन्होंने ये भी आरोप लगाया कि तलवार दंपत्ति ने आरुषि का गला काटकर उसकी हत्या की.

सीबीआई के वकील ने ये भी आरोप लगाया कि राजेश और नूपुर तलवार ने सबूत नष्ट करने की कोशिश की. उन्होंने बताया कि हत्या के बाद उन्होंने आरुषि के कमरे की दीवार को धोया, ताकि उस पर लगे खून के धब्बे साफ किए जा सके.

आरोप

राजेश और नूपुर तलवार

राजेश इस समय जमानत पर हैं और नूपुर तलवार जेल में हैं

आरके सैनी ने अदालत को ये भी बताया कि तलवार दंपत्ति ने आरुष के बिस्तर की चादर बदली और दोनों ने आरुषि की पोस्टमार्टम रिपोर्ट बदलवाने की भी कोशिश की.

उन्होंने अदालत को बताया कि सीबीआई ने तलवार दंपत्ति के पड़ोसियों, कई लोगों और उत्तर प्रदेश पुलिस के बयान के आधार पर छह हजार पन्ने का दस्तावेज सबूत के रूप में तैयार किया है.

आरके सैनी ने ये भी आरोप लगाया कि अपराध करने के बाद राजेश और नूपुर तलवार भागना चाहते थे और उन्होंने जाँच के दौरान सीबीआई के साथ सहयोग नहीं किया.

अदालत ने बुधवार तक के लिए सुनवाई स्थगित कर दी है. अब तलवार दंपत्ति के वकील आरोप तय करने के बारे में अपनी दलील पेश करेंगे.

16 मई 2008 को आरुषि तलवार अपने कमरे में मृत पाई गई थी. जबकि उनके नौकर हेमरात का शव दूसरे दिन छत से बरामद किया गया था.

इस समय आरुषि के पिता राजेश तलवार जमानत पर है, लेकिन नूपुर तलवार गाजियाबाद की डासना जेल में बंद हैं.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.