कलेक्टर की रिहाई पर गतिरोध बरकरार

 सोमवार, 30 अप्रैल, 2012 को 02:19 IST तक के समाचार
मेनन

लगातार वार्ता के असफल होने से मेनन के परिवार वालों की चिंता बढती जा रहीं है.

सुकमा के कलेक्टर एलेक्स पॉल मेनन की रिहाई को लेकर माओवादियों और छत्तीसगढ़ की सरकार के बीच गतिरोध बरकरार है.

रविवार को सरकार और माओवादियों द्वारा मनोनीत वार्ताकारों के बीच चली चौथे चरण की वार्ता भी बिना किसी नतीजे के समाप्त हो गई.

लगातार वार्ता के असफल होने से मेनन के परिवार वालों की चिंता बढती जा रहीं है.

रविवार की सुबह बीडी शर्मा और प्रो हरगोपाल सुकमा के ताड़मेटला में माओवादियों की मांड से वापस लौटे. यह दोनों ही वार्ताकार माओवादियों द्वारा मनोनीत किए गए हैं.

शनिवार की दोपहर वह विशेष विमान से चिंतलनार पहुंचे जहाँ से वह मीडिया कर्मियों की बाईक पर बैठ कर ताड़ मेटला पहुंचे थे. यहाँ माओवादियों के सशस्त्र दस्ते नें उन्हें अपने साथ ले लिया और फिर वह जंगल में चले गए.

कहा जा रहा है कि दोनों ही वार्ताकारों नें जंगल में शीर्ष माओवादी नेताओं से लंबी बातचीत की है. यह भी कहा जा रहा है कि इन दोनों वार्ताकारों नें छत्तीसगढ़ के सरकार के समक्ष माओवादियों की और भी कई मांगे पेश की हैं.

मगर सरकार और माओवादियों के वार्ताकारों नें इस पर मीडिया को कुछ भी बताने से इन्कार कर दिया है.

अगली वार्ता

सोमवार को इस मसले पर अगले चरण की वार्ता होगी मगर इससे पहले सरकार द्वारा कलक्टर की रिहाई के लिए बनाई गई मंत्री मंडल की उप समिति की बैठक होगी.

इस समिति के अध्यक्ष मुख्यमंत्री रमन सिंह हैं जबकि इसमें तीन आदिवासी मंत्री शामिल किये गए हैं. इसके अलावा इस समिति में मंत्री ब्रिज मोहन अगरवाल को भी रखा गया है.

उप समिति माओवादियों के वार्ताकारों द्वारा नक्सलियों की मांगों पर सोमवार की सुबह चर्चा की जाएगी जिसके बाद सरकार द्वारा मनोनीत वार्ताकार निर्मला बुच और सुयोग्य मिश्र माओवादी वार्ताकारों से मांगों पर विचार विमर्श करेंगे.

माओवादियों की मांगों में प्रमुख रूप से आपरेशन ग्रीन हंट को बंद करने और छत्तीसगढ़ की जेलों में बंद निर्दोष ग्रामीणों की रिहाई की बात कही गई थी. इसके अलावा माओवादियों नें अपने आठ साथियों और नौ अन्य ग्रामीणों की रिहाई की शर्त रखी है.

इन आठ माओवादियों में भारत की कम्युनित पार्टी (माओवादी) की दंडकारण्य विशेष जोनल कमिटी के प्रवक्ता गुड्सा उसेंडी की पत्नी शांतिप्रिया की जेल से रिहाई की भी मांग की गई है.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

इसी विषय पर और पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.