अश्लील तस्वीरों ने बनाया 'सबसे घृणित व्यक्ति'

 शनिवार, 21 अप्रैल, 2012 को 05:31 IST तक के समाचार

हंटर मूर ने लोगों की तमाम निजी तस्वीरों को वेबसाइट पर लगा दिया

हंटर मूर की व्यापारिक योजना बहुत आसान थी. पुरुषों और महिलाओं की अश्लील तस्वीरें बिना उनकी इजाजत के वेबसाइट पर छापकर वे अमीर बन गए.

मूर अपनी वेबसाइट पर लोगों को अपने प्रेमियों या प्रेमिकाओं की नग्न तस्वीरें और उनके बारे में और बातें पोस्ट करने के लिए प्रेरित करते थे.

फिर ये पूरी जानकारी उनकी वेबसाइट isanyoneup.com पर लगा दी जाती थी.

साथ ही लोगों के नाम, उनकी जगह और सोशल नेटवर्किंग साइट खासकर फेसबुक पर उसकी लिंक भी लगाई जाती थी.

हर पोस्ट पर तमाम तरह की टिप्पणियां लोग भेजते थे.

अगर कोई इसकी शिकायत करता था तो उसका मजाक उड़ाया जाता था. अगर कोई कानूनी कार्रवाई की धमकी देता था तो मूर उसे टाल जाते थे और उस पर ध्यान ही नहीं देते थे.

वेबसाइट के शिकार हुए तमाम लोग मूर की तुलना में खुद को बहुत कमजोर पाते थे.

आखिरकार लोग मूर के बारे में ये कहकर अपनी भड़ास निकाल लेते थे कि वो इंटरनेट की दुनिया के सबसे घृणित व्यक्ति हैं.

अपनी वेबसाइट को अचानक बंद करने के फैसले से ठीक पहले बीबीसी के साथ बातचीत में मूर ने कहा कि मैं लोगों की इस टिप्पणी को पसंद करता हूं.

प्रतिक्रिया

वे कहते हैं, “लोग समझते हैं कि मैं एक शैतान हूं, मैं जो भी कर रहा हूं वो अनैतिक है, लेकिन आज वेबसाइट को बंद करने के बाद मैं समझता हूं कि मैंने तो लोगों को तकनीक के बारे में शिक्षित करने का काम किया है.”

"लोग समझते हैं कि मैं एक शैतान हूं, मैं जो भी कर रहा हूं वो अनैतिक है, लेकिन आज वेबसाइट को बंद करने के बाद मैं समझता हूं कि मैंने तो लोगों को तकनीक के बारे में शिक्षित करने का काम किया है"

हंटर मूर, संस्थापक वेबसाइट

बहरहाल मूर के इस फैसले से लूसी (बदला हुआ नाम) जैसे तमाम लोगों ने चैन की साँस ली है.

22 वर्षीया ब्रिटिश महिला लूसी ने अपनी तमाम चुनिंदा तस्वीरों को, जिन्हें उनके पुराने पुरुष मित्र ने खींची थीं, अपने ट्विटर अकाउंट के साथ लगा दीं.

उस पर तमाम संदेश और फ्रेंड रिक्वेस्ट आने में जरा भी देरी नहीं हुई.

लूसी बताती हैं, “मैं रोते-रोते पागल हो गई जब मुझे ये पता लगा कि हर व्यक्ति इन तस्वीरों को देख रहा है और मैं लोगों के बीच हँसी का पात्र बन गई हूँ.”

"मैं रोते-रोते पागल हो गई जब मुझे ये पता लगा कि हर व्यक्ति इन तस्वीरों को देख रहा है और मैं लोगों के बीच हँसी का पात्र बन गई हूँ"

एक पीड़त महिला

लूसी ने मूर को कई बार मेल भेजकर इन तस्वीरों को हटाने का निवेदन किया. लेकिन उनकी बात नहीं सुनी गई.

फिर उन्होंने स्थानीय पुलिस की मदद ली. लूसी के मुताबिक पुलिस ने भी इस मामले में उनकी कुछ खास मदद नहीं की.

isanyoneup.com वेबसाइट साल 2010 के अंत में बनाई गई थी. इसका मकसद था मूर की खुद की जीवन पर लिखी गई कहानियों को और तस्वीरों को इस पर पोस्ट करना.

लोकप्रयता

करीब एक साल के भीतर मूर को इस वेबसाइट पर प्रतिदिन तीन लाख से भी ज्यादा हिट्स मिलने लगे और इसे करीब बीस हजार डॉलर हर महीने की कमाई होने लगी.

हंटर मूर ने अपनी वेबसाइट को बंद करने का फैसला किया है

उनका कहना है, “मैं वही कर रहा था, जो लोग देखना चाहते थे.” हालांकि वे स्वीकार करते हैं कि इससे कुछ लोगों का जीवन प्रभावित हो सकता है.

वे कहते हैं कि मैंने लोगों की गलतियों को अपने धन के स्रोत में बदलने लगा और यही मेरा व्यापार था. उनके मुताबिक अगर मैं ये काम नहीं करता तो लोगों की नग्न तस्वीरों से कोई और पैसे बना रहा होता.

नैतिकता और कानूनी कार्रवाई

मूर बताते हैं कि तमाम लोगों ने उन्हें कानूनी कार्रवाई करने की धमकी दी, लेकिन मैंने कभी इस तरह की धमकियों को गंभीरता से नहीं लिया.

वेबसाइट के प्रशंसकों ने मेरा समर्थन किया और मेरे समर्थन में ऑनलाइन अभियान चलाया.

अमरीका के एक वकील एवान ब्राउन ने तमाम लोगों को बताया कि वे मूर की वेबसाइट से किस तरह सौदेबाजी कर सकते हैं. ब्राउन एक महिला की तस्वीर इस वेबसाइट से हटवाने में सफल भी रहे.

मूर की ये वेबसाइट ब्लैक लोटस नामक कंपनी संचालित कर रही थी जिसे सुरक्षा संबंधी मामलों से निपटने में महारथ हासिल है.

जब बीबीसी ने ब्लैक लोटस से संपर्क किया तो कंपनी के अध्यक्ष जेफ्री लियोन ने मूर के साथ अपने व्यवसाय करने की पुष्टि की. साथ में उन्होंने ये भी कहा कि उन्होंने नैतिकता के मामले में तटस्थ भूमिका निभाई.

लियोन का कहना था कि मूर पर नियमों को तोड़ने का आरोप लगाना बेहद मुश्किल है. साथ ही इस वेबसाइट के चक्कर में जो लोग फंस जाते थे वे अपेक्षाकृत निम्न तबके के होते थे, जिनसे मूर को कोई डर नहीं था.

वेबसाइट बंद होने के बाद मूर कई और योजनाओं में लगे हैं जिनमें एक सोशल नेटवर्किंग वेबसाइट की योजना भी शामिल है. हालांकि अचानक वेबसाइट बंद करने और इस बदलाव के पीछे की वजह समझ में नहीं आई है.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

इसी विषय पर और पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.