श्रीलंका में तमिल राष्ट्र जरूर बनेगा: करुणानिधि

 गुरुवार, 19 अप्रैल, 2012 को 23:24 IST तक के समाचार
करुणानिधि

करुणानिधि ने कहा कि तमिलों का बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा

तमिलनाडु के पूर्व मुख्यमंत्री और द्रमुक प्रमुख एम करुणानिधि ने कहा है कि श्रीलंका में तमिलों का बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा और एक अलग राष्ट्र किसी न किसी दिन जरूर बनेगा.

दो दिन पहले करुणानिधि ने श्रीलंका में अलग 'ईलम' के विचार का भी स्वागत किया था.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक पार्टी कार्यकर्ताओं को लिखे पत्र में करुणानिधि ने कहा है- एक अलग तमिल ईलम दुनिया भर के तमिलों के कान में एक आजादी के गीत की तरह बजता है. श्रीलंका में तमिलों ने जो खून बहाया है और अपने जीवन का बलिदान दिया है, वो व्यर्थ नहीं जाएगा.

करुणानिधि ने आगे लिखा है कि कल नहीं तो किसी न किसी दिन तमिल ईलम अस्तित्व में जरूर आएगा.

मांग

संयुक्त राष्ट्र की अगुआई में एक जनमतसंग्रह की बात का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि पूर्वी तिमोर और दक्षिणी सूडान अंतरराष्ट्रीय संस्थाओं की ओर से इसी तरह की पहल के बाद अस्तित्व में आए हैं.

"एक अलग तमिल ईलम दुनिया भर के तमिलों के कान में एक आजादी के गीत की तरह बजता है. श्रीलंका में तमिलों ने जो खून बहाया है और अपने जीवन का बलिदान दिया है, वो व्यर्थ नहीं जाएगा."

करुणानिधि

करुणानिधि ने वर्ष 1983 के द्रमुक के प्रस्ताव का हवाला दिया, जिसमें तमिलों के लिए अलग राष्ट्र की मांग की गई थी.

उन्होंने कहा कि श्रीलंका में जिस तरह जनसंहार हुआ है, उस कारण तमिलों का बहुसंख्यक सिंहला समुदाय के साथ रहना असंभव है.

17 अप्रैल को ही करुणानिधि ने श्रीलंका में अलग तमिल ईलम पर जनमतसंग्रह कराने का समर्थन किया था और कहा कि भारत इस मामले में अहम भूमिका निभाए.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

इसी विषय पर और पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.