BBC navigation

चिदंबरम को 2जी मामले में अभियुक्त बनाया जाए: स्वामी

 शनिवार, 17 दिसंबर, 2011 को 13:35 IST तक के समाचार

2जी मामले में दिल्ली में सीबीआई की विशेष अदालत में गवाह के तौर पेश हुए जनता पार्टी अध्‍यक्ष सुब्रमण्‍यम स्‍वामी ने अदालत के सामने बयान दिया है कि केंद्रीय गृह मंत्री पी चिदंबरम को भी इस मामले में मुख्य अभियुक्त पूर्व दूरसंचार मंत्री ए राजा के साथ सह अभियुक्त बनाया जाए.

"इन अरोपों के लिए अकेले ए राजा को दोषी नहीं ठहराया जा सकता. क्योंकि ए राजा ने इस अपराध को अंजाम अकेले नहीं दिया है बल्कि इसमें गृहमंत्री पी चिदंबरम की भी सक्रिय भागेदारी थी"

सुब्रमण्‍यम स्‍वामी ,जनता पार्टी अध्‍यक्ष

सुब्रमण्‍यम स्‍वामी ने कहा कि स्पैक्ट्रम की कीमतें निर्धारित करने का फ़ैसला गृह मंत्री पी चिदंबरम ने पूर्व दूरसंचार मंत्री ए राजा के साथ मिलकर किया था.

गौरतलब है कि पूर्व केंद्रीय दूरसंचार मंत्री ए राजा पर अभियोग हैं कि उन्होंने 2जी स्पैक्ट्रम आवंटन में धांधली की थी.

सीबीआई की विशेष अदालत में सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा, “इन अभियोगों के लिए अकेले ए राजा को दोषी नहीं ठहराया जा सकता. क्योंकि ए राजा ने इस अपराध को अंजाम अकेले नहीं दिया है बल्कि इसमें गृहमंत्री पी चिदंबरम की भी सक्रिय भागेदारी थी.”

सह-अभियुक्त बनें चिंदबरम

सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा 2003 में कैबिनेट के फ़ैसले के अनुसार स्पेक्ट्रम के दाम तय करने की संयुक्त ज़िम्मेदारी तब के वित्त मंत्री पी चिदंवरम और पूर्व दूरसंचार मंत्री ए राजा को दी गई थी.

स्वामी ने कहा कि प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने 24 फरवरी 2011 को राज्यसभा के पटल पर दिए गए बयान दिया था कि स्पैकट्र्म दाम 2003 के कैबिनेट फ़ैसले के आधार पर निर्धारित किए गए थे और इसी कैबिनेट फ़ैसले में ये स्पष्ट किया था कि दाम वित्त मंत्रालय और दूरसंचार मंत्रालय मिलकर तैय करेगा.

अदालत ने आठ दिसंबर को सुब्रमण्यम स्वामी को इस मामले में गवाह के तौर पर पेश होने की अनुमति दी थी.

शनिवार को अदालत ने सुब्रमण्यम स्वामी को दौबारा सात जनवरी को सबूतों की सत्यापित कॉपी के साथ पेश होने का आदेश दिया है.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

इसी विषय पर और पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.