प्रधानमंत्री ने लेह के पुनर्निर्माण का वादा किया

लेह में तबाही

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने लेह में पिछले दिनों बादल फटने के बाद आई बाढ़ का जायज़ा लेने के बाद पुनर्निर्माण के लिए 125 करोड़ रुपए के राहत पैकेज की घोषणा की है.

प्रधानमंत्री ने राहत शिविरों का दौरा करने के बाद कहा कि अचानक आई बाढ़ से नष्ट हुए मकानों को दोबारा बनाया जाएगा और इस काम में धन की कमी आड़े नहीं आने दी जाएगी.

उन्होंने कहा कि मकानों के पुनर्निर्माण का काम जाड़ों से पहले पूरा कर लिया जाएगा.

प्रधानमंत्री के कहा कि अस्पतालों, पानी की आपूर्ति और बिजली व्यवस्था में जो भी खर्च आएगा, इसके लिए अलग से धनराशि दी जाएगी.

लेह में अचानक आई बाढ़ से नष्ट हुए मकानों को दोबारा बनाया जाएगा और इस काम में धन की कमी आड़े नहीं आने दी जाएगी.

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह

उन्होंने लेह के प्रभावित लोगों के दुख दर्द सुने और उन्हें ढांढस बधाया.

इसके पहले सरकार की ओर से इस हादसे में मारे गए लोगों को एक एक लाख और घायलों को 50-50 हज़ार रुपए देने की घोषणा की गई थी.

भारी तबाही

ग़ौरतलब है कि छह अगस्त को बादल फटने के कारण लेह में आई बाढ़ में पांच विदेशी पर्यटकों सहित कम से कम 185 लोग मारे गए थे जबकि अनेक लोग अब भी लापता बताए जा रहे हैं.

मनमोहन सिंह

मनमोहन सिंह ने कहा कि हरसंभव सहायता प्रदान की जाएगी

इसके पहले सोमवार को कांग्रेस महासचिव राहुल गांधी ने लेह के प्रभावित इलाक़ों का दौरा किया. रक्षा राज्यमंत्री पल्लम राजू भी दौरे में उनके साथ थे.

सेना के अधिकारियों ने प्रभावित इलाक़े का दौरा करने गए दोनों नेताओं को बाढ़ के बाद पैदा हुई स्थिति और बचाव कार्यों की जानकारी दी.

दोनों नेता सेना के अस्पताल भी गए जहाँ उन्होंने इस प्राकृतिक विपदा में घायल हुए लोगों से मुलाक़ात की जिनमें सैनिक और असैनिक मरीज़ शामिल थे.

उन्होंने प्रभावित इलाक़े चोगलमसर में एक राहत शिविर का भी दौरा किया जहाँ उन्होंने ऐसे स्थानीय लोगों से बातें कीं जिनके घर बाढ़ में बह गए हैं.

BBC navigation

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.