अब बारी जसवंत की..

जसवंत सिंह

जसवंत सिंह की नई किताब विवादों में है.

इक्कीसवीं सदी के भारत में जब जब मोहम्मद अली जिन्ना की प्रशंसा होगी उसके पीछे भारतीय जनता पार्टी का कोई वरिष्ठ नेता होगा.

कुछ साल पहले तक महज़ इस ख़याल को भी लोग किसी कम अक्ल के दिमाग की उपज बता उपहास उडाते नहीं थकते.

पर जब 2005 में लाल कृष्ण आडवाणी अपनी पाकिस्तान यात्रा पर गए और जिन्ना साहब को एक बड़े धर्म निरपेक्ष नेता होने का ख़िताब अता किया और काएदे आज़म की भूरी भूरी प्रशंसा की तो ख़ासा बड़ा बवाल पैदा हो गया.

कुछ ही हफ्तों में आडवाणी जी के पुराने साथी, उनके द्वारा बनाये गए और प्रोमोट किए गए नेता उनके विरोध का राग अलाप रहे थे और हिंदुत्व के लौह पुरुष को मुस्लिम तुष्टिकरण के मुद्दे पर कटघरे में खडा कर दिया गया था.

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने उस मुद्दे पर जो उनसे नाता तोड़ा वह तार अब तक वापस नहीं जुड़े हैं.

और जिन्ना प्रकरण के बाद से आडवाणी जी कभी बीजेपी के सर्वमान्य नेता नहीं बन पाए.

यह एक अलग बहस का विषय है की आडवाणी के साथ जो हुआ वह सही था या ग़लत.

क्यों बीजेपी और आरएसएस उनकी उस रणनीति को नहीं समझ पाए जिसके ज़रिये आडवाणी भारतीय मुसलमानों में अपनी मुस्लिम विरोधी छवि तोड़ने की कोशिश कर रहे थे?

बहरहाल उस प्रकरण का बकौल आडवाणी जी इतना असर ज़रूर हुआ की उनकी पाकिस्तान में छवि स्पष्ट हो गयी और सीमा पार से उनके पास प्रशंसा के कई ख़त आए.

पर भारतीय राजनीति के परिपेक्ष में जिन्ना विवाद का ज़बरदस्त खामियाजा आडवाणी को भुगतना पड़ा.

अब बारी जसवंत सिंह जी की है.

उन्होंने कायदे आज़म पर एक ६५० पन्नों की पुस्तक लिख दी है जिसमें न सिर्फ उन्होंने जिन्ना को एक महानायक की संज्ञा दी है बल्कि विभाजन के लिए जवाहर लाल नेहरु और ब्रितानी हुकूमत दोनों को जिन्ना जितना ही दोषी माना है.

मेरा किताब लिखने का मकसद किसी को सही और किसी को ग़लत ठहराना नहीं बल्कि इतिहास के पन्ने पलट विभाजन के कारणों को समझने का है

जसवंत सिंह

एक बार फिर एक बीजेपी नेता जिन्ना की प्रशंसा कर रहा है उन्हें महानायक और इतिहासपुरुष की संज्ञा दे रहा है.

बीबीसी से बात करते हुए जसवंत सिंह ने मोहम्मद अली जिन्ना को मुख्य पात्र बनाते हुए पुस्तक लिखने के अपने फैसले को सही ठहराते हुए कहा की कायदे आज़म केवल तेरह महीने ही पाकिस्तान में रहे थे.

बाकी पूरी उम्र तो उन्होंने अपनी भारत में ही निकाली थी.

"मेरा किताब लिखने का मकसद किसी को सही और किसी को ग़लत ठहराना नहीं बल्कि इतिहास के पन्ने पलट विभाजन के कारणों को समझने का है."

जसवंत सिंह की क़िताब से भारत की सुस्त पड़ी राजनीति में भी कुछ हलचल आयी है.

जसवंत सिंह की जिन्ना प्रशंसा पर अभी तक उनकी पार्टी में तो तलवार नहीं खिंची है पर कांग्रेस ने ज़रूर उनपर निशाना साधा है.

कांग्रेस का कहना है कि बीजेपी की स्वयं को जिन्ना और मुस्लिम पक्षधर बताने की कोशिश कुछ ऐसी ही है जैसे सौ चूहे खाकर बिल्ली हज को चली.

बीजेपी और कांग्रेस की राजनीति पर इस नई पुस्तक का शायद ही कोई दूरगामी असर पड़े पर एक बात तय है.

जसवंत सिंह की पुस्तक को जो मुफ्त पब्लिसिटी मिल रही है उससे प्रकाशक और लेखक अवश्य प्रसन्न होंगें.

साथ ही विभाजन से पूर्व की राजनीति पर और जिन्ना नेहरु और ब्रितानी हुकूमत की भूमिका पर एक नया दृष्टिकोण भी लोगों के समक्ष आया है.

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.