कार कंपनी ने क्या सोच कर सलमान को चुना ?

  • 8 जनवरी 2014
सलमान ख़ान

बीते सोमवार को अभिनेता सलमान ख़ान एक मशहूर कार कंपनी के नए मॉडल के लॉन्च पर पहुंचे. उन्हें इस कंपनी का ब्रांड एंबेसडर बनाया गया है.

सलमान ख़ान ने इस मौक़े पर कहा, "कृपया गाड़ी कभी भी तेज़ ना चलाएं. गाड़ी के तेज़ होने का मतलब ये नहीं है कि आप भी गाड़ी तेज़ चलाएं. गाड़ी के अंदर और बाहर वाले लोग सुरक्षित होने चाहिए."

गाड़ी को सुरक्षित चलाने का संदेश देने वाले ये वही सलमान ख़ान हैं जिन पर लापरवाही से गाड़ी चलाने के मामले में हिट एंड रन केस चल रहा है.

उन पर इस सिलसिले में ग़ैर इरादतन हत्या का मामला चल रहा है. अब सवाल ये उठता है कि एक मशहूर कार कंपनी ने एक ऐसे शख़्स को अपना ब्रांड एंबेसडर क्यों नियुक्त किया जिस पर लापरवाही से ड्राइविंग का इतना गंभीर मामला चल रहा हो. भले ही वो कितना लोकप्रिय क्यों ना हो.

क्या ऐसा शख़्स लोगों को सुरक्षित कार चलाने का संदेश देने के लिए उपयुक्त है.

सलमान ख़ान

सलमान पर चल रहे हिट एंड रन केस में सरकारी वकील आभा सिंह ने बीबीसी से कहा, "सलमान पर ग़ैर इरादतन हत्या का केस चल रहा है. इस मामले में उन्हें 10 साल तक की सज़ा हो सकती है. ऐसे में कार कंपनी का उन्हें ब्रांड एंबेसडर बनाने का फ़ैसला समझ से परे है. एक रोल मॉडल होकर वो ऐसे केस में फंसे हुए हैं तो कार निर्माता कंपनी को ये बात ध्यान में रखनी चाहिए थी."

आभा सिंह ये भी कहती हैं कि एक मशहूर शख़्सियत होने के नाते सलमान पिछले 10 साल से लगातार बच रहे हैं, वरना वो कभी के जेल में होते.

लोकप्रियता के चलते बने ब्रांड एंबेसडर

वहीं मशहूर एड गुरू पीयूष पांडे इस बारे में कहते हैं, "देखिये उस कार कंपनी ने बड़ा सोच समझ के ही ये निर्णय लिया होगा. सलमान ख़ान की फ़िटनेस और उनकी लोकप्रियता को देखते हुए उन्हें ब्रांड एंबेसडर बनाने का फ़ैसला ग़लत नहीं है."

वो कहते हैं, "वैसे भी सलमान ख़ान को अभी तक दोषी नहीं क़रार दिया गया है वो अभी भी एक अभियुक्त हैं और उनपर मुक़दमा चल रहा है. तो ऐसे में उस कार कंपनी ने कानूनी सलाह लेकर ही सलमान ख़ान को अपना ब्रांड एंबेसडर बनाया है ."

सलमान ख़ान

क्या है मामला

सलमान ख़ान पर आरोप है कि साल 2002 में उनकी गाड़ी के नीचे आकर फुटपाथ पर सो रहे एक व्यक्ति की मौत हो गई थी लेकिन सलमान हमेशा ही इस आरोप से इनकार करते रहे हैं.

अधिकारियों के मुताबिक 28 सितंबर 2002 को देर रात मुंबई के बांद्रा इलाके में सलमान ख़ान की गाड़ी अमरीकन एक्सप्रेस बेकरी में घुस गई. उस वक्त वहां फुटपाथ पर पांच लोग सो रहे थे जिनमें से 38 साल के नूरुल्लाह ख़ान की मृत्यु हो गई और तीन अन्य लोग गंभीर रूप से घायल हो गए. एक अन्य व्यक्ति को मामूली चोट आई.

सलमान पर शुरुआत में ग़ैर-इरादतन हत्या का आरोप लगा लेकिन उन्होंने इसे अदालत में चुनौती दी जिसके बाद आरोप घट कर 'लापरवाही की वजह से हत्या' में तब्दील हो गया. दूसरे आरोप में दो साल की जेल की सज़ा का प्रावधान था.

लेकिन मार्च 2011 में अभियोजन पक्ष ने ग़ैर-इरादतन हत्या का आरोप दोबारा लगाने की मांग की. इस साल फरवरी में अदालत ने आदेश दिया कि सलमान पर ग़ैर-इरादतन हत्या के आरोप में मुक़दमा चलना चाहिए, जिसके बाद उन पर ये आरोप लगाया गया.

पिछले ही महीने सलमान ख़ान की याचिका पर मुंबई की एक अदालत ने इस मामले में नए सिरे से सुनवाई का आदेश सुनाया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार