BBC navigation

पर्दे पर 'किस' करना अटपटा: इमरान

 सोमवार, 17 दिसंबर, 2012 को 14:52 IST तक के समाचार
इमरान खान

अगर आप अभिनय की दुनिया से जुड़े हैं तो फिर आपको किसी भी तरह के अभिनय से परहेज़ नहीं होना चाहिए. फिर चाहे रोने का दृश्य हो या फिर हंसने का, कोई मार पिटाई वाला दृश्य हो या फिर कोई अन्तरंग दृश्य.

लेकिन इमरान खान कहते हैं कि बाकी सब तो ठीक है लेकिन 'किसिंग' करते वक़्त थोड़ा अजीब महसूस करते हैं वो.

इमरान जल्द ही विशाल भारद्वाज की फिल्म 'मटरू की बिजली का मंडोला' में नज़र आएंगे. फिल्म में इमरान के साथ मुख्य भूमिका में हैं अभिनेत्री अनुष्का शर्मा. इस फ़िल्म में इमरान और अनुष्का के बीच एक 'किसिंग सीन' है.

बीबीसी ने जाना इमरान से कि क्यों हो जाते हैं वो असहज ऐसे दृश्यों के दौरान? इस प्रश्न का जवाब देते हुए इमरान कहते हैं, ''पर्दे पर किस करना बड़ा ही ऑक्वर्ड होता है. निजी ज़िन्दगी में जब आप अपनी प्रेमिका या फिर पत्नी को किस करते हैं तो आप उन्हें अच्छी तरह जानते हैं. ज़रूरी नहीं है कि पर्दे पर आप जब अपने सह कलाकार को किस करें तो आप उन्हें अच्छी तरह जानते हों. इसलिए पूरी स्थिति बड़ी ही असहज हो जाती है.''

तो क्या ऐसे दृश्यों को देखकर कभी इमरान की पत्नी अवंतिका को कोई आपत्ति होती है? इस सवाल का जवाब देते हुए इमरान कहते हैं, ''अब मैं अपनी सह कलाकार को इसलिए तो किस नहीं कर रहा न कि मैं उससे प्यार करता हूं. ये तो सिर्फ उस दृश्य की वजह से है. ये मेरा काम है. वैसे आज तक तो अवंतिका ने कभी अपनी नाराज़गी ज़ाहिर नहीं की.''

इमरान और पंकज

इमरान कहते हैं कि पंकज के साथ काम करना बड़ा ही डरावना होता है.

सीखनी पड़ी हरयाणवी

मटरू की बिजली का मंडोला में एक हरियाणवी युवक के किरदार में हैं इमरान. तो इस रोल को निभाने के लिए क्या कुछ करना पड़ा उन्हें?

इमरान कहते हैं, ''क्योंकि मेरा किरदार 'मटरू' हरियाणा से है तो मुझे हरियाणवी बोलनी थी. अब न तो मैंने इससे पहले कभी हरियाणवी बोली थी, न सीखी थी और न ही सुनी थी. मुझे ये भाषा सीखने के लिए कड़ी मेहनत करनी पड़ी, मुझे ढाई महीने लगे लेकिन आखिरकार मैंने ये भाषा सीख ही ली.''
फिल्म में इमरान खान के साथ पंकज कपूर भी हैं. तो पंकज के साथ काम करने का अनुभव कैसा था इमरान का?

वो कहते हैं, ''अगर सह कलाकार के तौर पर बात करूं तो पंकज के साथ काम करना बड़ा ही डरावना होता है.''

डरावना लेकिन क्यों? इमरान कहते हैं, ''डरावना इसलिए क्योंकि आपको नहीं पता कि पंकज जी कब क्या कर जाएंगे. वो अपने किरदार में इतना घुस जाते हैं कि वो टेक के वक़्त कुछ भी कर सकते हैं. आपको तो पता भी नहीं चलेगा कि वो इस सीन में क्या करने वाले हैं और क्या बोलने वाले हैं. आपको हर वक़्त सजग रहना पड़ता है. ये तैयारी करके रखनी पड़ती है कि अगर पंकज जी ने ये किया तो मैं वो करूंगा.''

और अनुष्का उनके बारे में क्या कहेंगे इमरान? वो कहते हैं, ''मैंने अनुष्का की बहुत फिल्में देखी हैं और मुझे हमेशा से ही लगता है कि वो बहुत ही टैलेंटेड हैं. और मेरा ये यकीन तब और भी पक्का हो गया जब मटरू की शूटिंग के दौरान मैंने उनके साथ पहला दृश्य किया. उनके अभिनय में बहुत ही सच्चाई है.''

'मटरू की बिजली का मंडोला' 11 जनवरी, 2013 को रिलीज़ हो रही है.

इसे भी पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.