BBC navigation

जानता था तलाश सबको पसंद नहीं आएगी: आमिर

 बुधवार, 5 दिसंबर, 2012 को 18:01 IST तक के समाचार
फिल्म तलाश

फिल्म व्यापार विशेषज्ञों के मुताबिक़ 'तलाश' ने रिलीज़ के चार दिनों के अंदर ही 50 करोड़ रुपए से ज़्यादा की कमाई कर ली.

आमिर ख़ान की बहुप्रतीक्षित फिल्म तलाश रिलीज़ हो चुकी है और ये देश भर के तमाम मल्टीप्लेक्स पर ख़ासी अच्छी कमाई कर रही है.

साथ ही फिल्म विदेश में भी पैसा कमा रही है, लेकिन फिल्म को सिंगल स्क्रीन थिएटर्स पर उतनी अच्छी कामयाबी नहीं मिल पाई है.

आमिर ख़ान ख़ुद ये बात कबूल करते हैं कि 'तलाश' सबको पसंद आने वाली फिल्म नहीं है.

मुंबई में मीडिया से बात करते हुए आमिर कहते हैं, "हम शुरुआत से ही जानते थे कि तलाश यूनिवर्सल फिल्म नहीं है. ये समाज के हर तबके को पसंद नहीं आएगी. वही हुआ भी. हमें इसका कोई गिला नहीं है. फिल्म को जो भी कामयाबी मिल रही है उससे मैं बहुत खुश हूं."

फिल्म व्यापार विशेषज्ञों के मुताबिक़ तलाश ने रिलीज़ के चार दिनों के भीतर ही 50 करोड़ रुपए की कमाई का आंकड़ा पार कर लिया जो एक गैर छुट्टी के दिन रिलीज़ हुई फिल्म के लिए अच्छा ख़ासा आंकड़ा है.

आमिर फिल्म की सफलता का सारा श्रेय निर्देशक रीमा कागती को देते हैं. साथ ही वो फिल्म की बाकी टीम, जिसमें गीतकार जावेद अख्तर और संगीतकार राम संपत भी शामिल हैं, को क्रेडिट देना भी नहीं भूले.

ज़ोया के साथ हुई घटना

"हम शुरुआत से ही जानते थे कि तलाश यूनिवर्सल फिल्म नहीं है. ये समाज के हर तबके को पसंद नहीं आएगी. वही हुआ भी. हमें इसका कोई गिला नहीं है. फिल्म को जो भी कामयाबी मिल रही है उससे मैं बहुत खुश हूं."

आमिर ख़ान, अभिनेता

आमिर ने ये भी बताया कि फिल्म की कहानी इसकी सह लेखिका ज़ोया अख़्तर के साथ हुई सच्ची घटना पर आधारित है. उन्होंने घटना का उल्लेख करते हुए कहा कि एक बार ज़ोया, अपने कुछ दोस्तों के साथ रात में मुंबई की हाज़ी अली रोड पर चली जा रही थीं. वहां उनकी गाड़ी से एक महिला टकरा गई.

वो महिला कोई कपड़े पहने हुए नहीं थी. बाद में जब वो सारे लोग उस महिला का हाल जानने के लिए गाड़ी से उतरे तो वहां दूर-दूर तक उस महिला का नामो-निशान नहीं था.

रिव्यू से ख़ुश

आमिर 'तलाश' को मिले रिव्यूज़ से भी ख़ुश हैं. वैसे उन्होंने ये भी माना कि कुछ क्रिटिक्स को फिल्म पसंद नहीं आई. फिल्म की रिलीज़ से पहले उन्होंने इसका धुआंधार प्रमोशन क्यों नहीं किया.

जैसा कि आम तौर पर प्रचलन है. इसके जवाब में आमिर कहते हैं कि हर फिल्म का उसके सब्जेक्ट के हिसाब से प्रमोशन किया जाता है. पूरी टीम को पता था कि ये टिपिकल मसालेदार फॉर्मूला फिल्म नहीं है, इसलिए इसका प्रमोशन भी उस तरह से नहीं किया गया.

इसे भी पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.