BBC navigation

द रिलक्टेंट फंडामेंटलिस्ट: 9/11 की 'दीवार' गिराने की कोशिश

 बुधवार, 12 सितंबर, 2012 को 11:47 IST तक के समाचार

(बाएं से) निर्देशक मीरा नायर, अभिनेता कीफर सदरलैंड, रिज अहमद और अभिनेत्री केट हडसन.

मंगलवार को अमरीका में हुए 9/11 हमले के 11 साल पूरे हुए और इसी दिन टोरांटो फिल्म फेस्टिवल में मीरा नायर की फिल्म द रिलक्टेंट फंडामेंटलिस्ट दिखाई गई.

मीरा नायर ने बीबीसी से खास बातचीत करते हुए, "9/11 के बाद पश्चिमी देशों और इस्लामिक एवं भारतीय उप महाद्वीप के देशों के बीच एक दीवार सी खड़ी हो गई. पाकिस्तान में अमरीका के बारे में और अमरीकी लोगों के बीच पाकिस्तान के बारे में एक खास किस्म की धारणा बन गई. कोई किसी को समझने को तैयार ही नहीं. मेरी ये फिल्म इसी विषय को उठाती है, और बताती है कि राजनीति के अलावा इंसानियत के नाते एक दूसरे को समझना बहुत जरूरी है."

मीरा नायर की फिल्म द रिलक्टेंट फंडामेंटलिस्ट इसी नाम की एक किताब पर आधारित है, जिसे मोहसिन हामिद ने लिखा है.

ये फिल्म चंगेज नाम के एक पाकिस्तानी युवा की कहानी है जो लाहौर का रहने वाले है और अमरीका में रहने के सपने देखता है. बाद में उसे अमरीका जाने का मौका भी मिलता है जहां उसे भरपूर कामयाबी भी मिलती है.

"9/11 के बाद पश्चिमी देशों और इस्लामिक एवं भारतीय उप महाद्वीप के देशों के बीच एक दीवार सी खड़ी हो गई. पाकिस्तान में अमरीका के बारे में और अमरीकी लोगों के बीच पाकिस्तान के बारे में एक खास किस्म की धारणा बन गई. कोई किसी को समझने को तैयार ही नहीं. मेरी ये फिल्म इसी विषय को उठाती है, और बताती है कि राजनीति के अलावा इंसानियत के नाते एक दूसरे को समझना बहुत जरूरी है."

मीरा नायर, निर्देशक

मीरा नायर कहती हैं, "अमरीका में अपने सपने हासिल कर लेने के बाद चंगेज के दिमाग में ये सवाल आता है कि क्या यही उसकी कर्मभूमि है. क्या यही उसकी मातृभूमि है. हर उस युवा के मन में इस तरह के सवाल आते हैं जो अपनी मातृभूमि छोड़कर किसी और देश जाते हैं और वहां अपनी सेवाएं देने लगते हैं. मेरे लिहाज से हर ऐसा युवा फिल्म की कहानी से जुड़ा महसूस करेगा."

मीरा नायर ने बताया कि फिल्म उपन्यास का अडैप्टेशन है और इसे फिल्म के रूप में ढालने के लिए उन्होंने फिल्म के प्लॉट में एक होस्टेज क्राइसेस (अपहरण ड्रामा) डाला है जिसमें फिल्म का मुख्य किरदार चंगेज फंसता है.

मीरा ने बताया कि फिल्म एक थ्रिलर, सस्पेंस ड्रामा है ताकि लोगों को देखने में भी मजा आए लेकिन फिल्म मूलत: यही कहती है कि लोगों को राजनीति और तमाम सियासी बातों से उठकर इंसानियत के तौर पर एक दूसरे की बात सुननी और समझनी चाहिए.

फिल्म में एक अमरीकी युवा और एक पाकिस्तानी युवा के बीच संवाद दिखाया गया है जो आखिर में ये बात समझ जाते हैं कि सबसे बढ़कर इंसानियत ही है.

फिल्म में कई अंतरराष्ट्रीय सितारे भी हैं. हॉलीवुड अभिनेत्री केट हडसन ने इसमें मुख्य भूमिका निभाई है. चंगेज का किरदार, नवोदित रिज अहमद ने निभाया है.

फिल्म वेनिस फिल्म फेस्टिवल में भी दिखाई जा चुकी है और साल 2013 की शुरुआत में इसके रिलीज होने की संभावना है.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.