BBC navigation

इस फिल्म में कौन बनेंगी मेरी कॉम ?

 सोमवार, 27 अगस्त, 2012 को 11:59 IST तक के समाचार
एम सी मेरी कॉम

ओलंपिक कांस्य पदक विजेता मुक्केबाज एमसी मेरी कॉम की कहानी अब सिल्वर स्क्रीन पर लोगों को देखने मिलेगी.

पांच बार की विश्व चैंपियन इस महिला बॉक्सर के जीवन को प्रख्यात निर्देशक संजय लीला भंसाली एक फिल्म के तौर पर ढालेंगे.

संजय ने बीबीसी से खास बात करते हुए कहा, "मेरी कॉम एक बेहद प्रतिभाशाली और ताकतवर महिला के तौर पर उभर कर आई हैं. दो बच्चों की मां होने के बावजूद उन्होंने जो जज्बा दिखाया उससे मैं बहुत प्रभावित हूं. अब मेरा लक्ष्य है इस फिल्म पर काम करना."

खुद एमसी मेरी कॉम ने बीबीसी से बात करते हुए संजय लीला भंसाली के इस कदम का स्वागत किया.

"मेरी कॉम एक बेहद प्रतिभाशाली और ताकतवर महिला के तौर पर उभर कर आई हैं. दो बच्चों की मां होने के बावजूद उन्होंने जो जज्बा दिखाया उससे मैं बहुत प्रभावित हूं. अब मेरा लक्ष्य है इस फिल्म पर काम करना."

संजय लीला भंसाली, निर्देशक

मेरी कॉम ने कहा, "ये फिल्म पूर्वोत्तर और भारत के बाकी राज्यों के बीच अंतर मिटाने में मदद करेगी. ये दुख और तकलीफ से गुजर रहे हमारे पूर्वोत्तर के लोगों के लिए मरहम का काम करेगी."

गौरतलब है कि मेरी कॉम भारत के मणिपुर राज्य की रहने वाली हैं. पिछले कुछ दिनों से मणिपुर से सटे असम में बोडो आदिवासी समूहों और मुसलमानों के बीच छिड़ी हिंसा की वजह से कई लोगों की मौत हो चुकी है. इस वजह से करीब पांच लाख लोगों को अपना घर छोड़ना पड़ा है.

कौन निभाएगा रोल ?

निर्देशक संजय लीला भंसाली ने आगे बताया कि उन्होंने अभी तक ये तय नहीं किया है कि पर्दे पर मेरी कॉम का रोल कौन निभाएगा.

"ये फिल्म पूर्वोत्तर और भारत के बाकी राज्यों के बीच अंतर मिटाने में मदद करेगी. ये दुख और तकलीफ से गुजर रहे हमारे पूर्वोत्तर के लोगों के लिए मरहम का काम करेगी."

एम सी मेरी कॉम, भारतीय बॉक्सर

"मेरी कॉम भारतीय महिलाओं के लिए आदर्श हैं. मेरे लिए मुख्य रोल के लिए अभिनेत्री का चुनाव बेहद चुनौतीपूर्ण होगा."

संजय लीला भंसाली ने ये भी बताया कि मेरी कॉम पर फिल्म बनाने का फैसला उन्होंने कॉम के ओलंपिक पदक जीतने से पहले ही कर लिया था.

वो कहते हैं, "मेरे सहायक उमंग ने मेरी कॉम पर एक साल पहले ही खासी रिसर्च कर ली थी. उसके बाद वो मेरे पास स्क्रिप्ट लेकर आए. उसके बाद हाल ही में उन्होंने जो ओलंपिक में कारनामा दिखाया, तो उसके बाद मैं क्यों ना उन पर फिल्म बनाऊं?"

उनके मुताबिक इसी साल रिलीज हुए फिल्म पान सिंह तोमर ने बता दिया कि एथलीटों की असल जिंदगी पर आधारित फिल्में अगर पूरे समर्पण से बनाई जाएं तो उन्हें लोगों की सराहना भी मिलती है और बॉक्स ऑफिस पर भी वो फिल्में अच्छा कर सकती हैं.

बतौर निर्माता संजय लीला भंसाली की फिल्म शीरीं फरहाद पिछले हफ्ते प्रदर्शित हुई थी, जिसे उनकी बहन बेला सहगल ने निर्देशित किया था. फिल्म को लोगों की सराहना मिल रही है.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.