जॉन अब्राहम 'स्पर्म डोनेशन' को तैयार

 मंगलवार, 13 मार्च, 2012 को 09:18 IST तक के समाचार
जॉन अब्राहम

विक्की डोनर 11 मई, 2012 को रिलीज़ हो रही है.

बतौर निर्माता जॉन अब्राहम की पहली फिल्म है 'विक्की डोनर' जो 'शुक्राणु दान' पर आधारित है. जॉन ने इस विषय पर सिर्फ फिल्म ही नहीं बनाई है बल्कि वो खुद भी अपने शुक्राणु दान करने के लिए तैयार हैं.

जॉन कहते हैं, ''एक सामाजिक कारण के लिए मैं अपने शुक्राणु दान ज़रूर करूंगा. हां कॉलेज के ज़माने में पैसों की ज़रुरत होती थी. लेकिन आज तो मैंने सिर्फ इसे एक सामाजिक कार्य की तरह देखता हूं. मुझे ऐसा करने में कोई आपत्ति नहीं है.''

जॉन कहते हैं, ''आप यकीन नहीं मानेंगे आज की तारीख में कई बड़े व्यापारी, पुलिस अधिकारी और कई सेना अधिकारी अपने शुक्राणुओं का दान कर रहे हैं. सेना से जुड़े लोग अपने शुक्राणुओं का दान इसलिए करते हैं क्योंकि उन्हें नहीं पता कि वो जंग से वापस आएंगे भी या नहीं. हर किसी का शुक्राणु दान करने का मकसद अलग-अलग होता है. कोई बड़ा व्यापारी क्या सिर्फ 500 रुपयों के लिए अपने शुक्राणुओं का दान करेंगा, नहीं न. वो ऐसा इसलिए कर रहा है क्योंकि उसके लिए ये भी एक सामाजिक कार्य है.''

विक्की डोनर में मुख्य भूमिका में हैं आयुष्मान खुराना, यामी गौतम और अन्नू कपूर. अपनी फिल्म की बात करते हुए जॉन कहते हैं, ''शुक्राणु दान करने का विषय किसी भी बॉलीवुड फिल्म के लिए बहुत नया और अलग है. और इस विषय पर फिल्म बनाने के लिए हमें बहुत सारी बातें ध्यान में रखनी थी.''

फिल्म के निर्देशक सुजीत सरकार हैं.

जॉन कहते हैं, ''फिल्म में किसी भी तरह का कोई भद्दा मज़ाक नहीं है. इस फिल्म को बहुत ही खूबसूरती के साथ बनाया गया है. जब हम ये फिल्म बना रहे थे तब हमने इस बात पर जोर दिया कि फिल्म में कहीं भी कुछ गन्दा या अश्लील न हो. हां फिल्म में हसी मज़ाक है लेकिन फिल्म का स्तर घटिया नहीं है.''

जॉन कहते हैं कि उन्होंने ये फिल्म आजकल के नौजवानों को ध्यान में रखकर बनाई है. जॉन कहते हैं, ''मुझे पता है ये फिल्म युवाओं को बहुत पसंद आनेवाली है. मेरी फिल्म 'दोस्ताना' से पहले कोई भी समलैंगिकता को गंभीरता से नहीं लेता था. मेरा मानना है कि विक्की डोनर को देखने के बाद स्पर्म डोनेशन को भी लोग गंभीरता से लेने लगेंगे.''

जॉन कहते हैं कि अगर फिल्म अच्छी हो तो वो बॉक्स ऑफिस पर ज़रूर चलती है.

वो मानते हैं कि 'विक्की डोनर' एक बेहतरीन फिल्म है. वो कहते हैं, ''मैं बढ़-चढ़ कर बात नहीं कर रहा हूं और न ही मैं इस फिल्म की झूठी तारीफ कर रहा हूं. ये फिल्म वाकई बहुत अच्छी है. मैं ये इसलिए नहीं कह रहा हूं क्योंकि मैंने इस फिल्म में पैसे लगाए हैं. मैंने अपने आप को एक दर्शक की जगह पर रख कर इस फिल्म को देखा है और मुझे इस फिल्म से प्यार हो गया है.''

विक्की डोनर के निर्माता होने के बावजूद जॉन इस फिल्म में अभिनय नहीं कर रहे हैं. ऐसा क्यों?

इस सवाल का जवाब देते हुए जॉन कहते हैं, ''जब सुजीत मेरे पास विक्की डोनर की कहानी लेकर आए तभी मुझे इस बात का एहसास हो गया था कि इस कहानी के लिए नए चेहरों की ही ज़रुरत है. मैं और सुजीत हमेशा से ही एक दुसरे के साथ काम करना चाहते थे. मैं सुजीत का बहुत बड़ा फैन हूँ. सुजीत की फिल्में बहुत ही खुबसूरत होती हैं. ''

साथ ही जॉन कहते हैं, ''वैसे मैंने फिल्म में एक गाना किया है, फिल्म की शुरुआत इसी गाने से होगी. इस गाने को कोरिओग्राफ किया है बॉस्को और सीज़र की जोड़ी ने.''

वैसे फिलहाल तो बतौर हीरो जॉन अब्राहम का बॉलीवुड में करियर ठीक-ठाक ही चल रहा है. तो निर्माता बनने के पीछे कोई खास वजह?

जॉन कहते हैं, ''जैसा कि मैंने कहा मैं हमेशा से ही सुजीत के साथ काम करना चाहता था, और जब वो मेरे पास विक्की डोनर की कहानी लेकर आए तो बस मुझे लगा कि यही सही समय है निर्माता बनने का. मुझे निर्माता बनकर बहुत अच्छा लग रहा है.''

साथ ही वो कहते हैं, ''एक वक़्त था जब मैं भी बॉलीवुड में नया था, तब इंडस्ट्री ने मुझे प्रोत्साहन दिया, मौका दिया. मुझे लगता है कि नए लोगों को मौका मिलना चाहिए, उन्हें बढ़ावा मिलना चाहिए. और हाँ, अगर विक्की डोनर जैसी फिल्म हो तो निर्माता बनने से कोई परहेज़ नहीं करना चाहिए.''

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.