मैं स्टार नहीं हूं-शाहरुख़ ख़ान

शाहरुख़ ख़ान

भले ही उन्हें बॉलीवुड का बादशाह और सुपरस्टार कहा जाए लेकिन शाहरुख़ ख़ान ख़ुद को स्टार नहीं मानते.

शाहरुख़ कहते हैं, "मैं नहीं मानता कि मैं एक स्टार हूं. मैं भी किसी और इंसान की ही तरह हूं जो रोता है, हंसता है, मज़ाक करता है, परेशान होता है. और शायद यही वजह है कि मुझे इतने सालों से लोग प्यार करते हैं क्योंकि मैं भी आपकी ही तरह एक इंसान हूं."

शाहरूख़ ख़ान ने ये बात बुधवार को मु्म्बई में एक प्रेस कॉन्फ़्रेंस के दौरान कही.

सपने और विरोधाभास

किसी भी और इंसान की ही तरह शाहरूख़ ख़ान के भी कुछ सपने थे जिनमें से एक सपना ऐक्टिंग करना था.

वो कहते हैं, "मुझे नहीं मालूम था कि मैं मुम्बई आऊंगा या ऐक्टिंग करूंगा, लेकिन दिल में कहीं-न-कहीं ऐक्टिंग करने की तम्मना तो थी. वैसे स्पोर्ट्समैन बनने की भी तम्मना थी. हालांकि मेरी सारे सपने पूरे नहीं हुए लेकिन ज़िंदगी ने एक सपना ज़रूर पूरा किया."

मैं नहीं मानता कि मैं एक स्टार हूं. मैं भी किसी और इंसान की ही तरह हूं जो रोता है, हंसता है, मज़ाक करता है, परेशान होता है. और शायद यही वजह है कि मुझे इतने सालों से लोग प्यार करते हैं क्योंकि मैं भी आपकी ही तरह एक इंसान हूं.

शाहरुख़ ख़ान, अभिनेता

शाहरुख़ ये भी कहते हैं कि जो कुछ भी उन्होंने सीखा है और उन्हें जो कुछ भी मिला है, वो ज़िंदगी की अच्छाई से मिला है.

उन्होंने कहा, "आज जब मैं सोचता हूं तो लगता है कि मां-बाप इतना नहीं सिखा सकते जितना हम सोचते हैं. वो सिर्फ़ प्यार कर सकते हैं या एक-दो चीज़े मुहैया करा सकते हैं जिनकी हमें बचपन या जवानी में ज़रूरत होती है लेकिन उसके बाद ज़िंदगी ही हमें सिखाती है."

शाहरुख़ मानते हैं कि ज़िंदगी में विरोधाभास होना बहुत ज़रूरी हैं क्योंकि उनसे ज़िंदगी में मज़ा आता है. वो ये भी कहते हैं कि हमेशा एक सी ही सोच नहीं होनी चाहिए.

उनका कहना है, "मैं नहीं मानता कि पूरी उम्र हमें एक ही विचारधारा या आस्था में यक़ीन करना ज़रूरी है. मुझे लगता है कि जो लोग एक ही आस्था के आधार पर अपनी सारी ज़िंदगी बिता देते हैं, वो दुनिया में सबसे 'बोरिंग' लोग होते हैं."

शाहरुख़ और केकेआर

इन दिनों शाहरुख़ ख़ान इंडियन प्रीमियर लीग, आईपीएल, के चौथे सीज़न में भी व्यस्त हैं. पिछले तीन सीज़न्स में ख़राब प्रर्दशन करने वाली उनकी टीम, कोलकाता नाइट राइडर्स इस बार अच्छा खेल रही है.

अपनी टीम की रणनीति के बारे में शाहरुख़ कहते हैं, "हम किसी एक खिलाड़ी के ख़िलाफ़ नहीं खेलते. हमारी कोशिश होती है कि टीम के तौर पर हम अच्छा खेलें और यही खेल भावना भी होती है."

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.