सुलझ गया 'भगवान' का मसला !

रोबोट

रजनीकांत और ऐश्वर्या राय की फ़िल्म 'रोबोट' हिट हो गई है

दक्षिण भारतीय फ़िल्मों के सुपरस्टार रजनीकांत के प्रशंसकों की उनके प्रति दीवानगी का तो कहना ही क्या.

रजनी के नाम से मशहूर इस सितारे की लोकप्रियता का आलम ये है कि तमिलनाडु में उनके मंदिर तक बनाए गए हैं और उनके प्रशंसक उन्हें भगवान की तरह पूजते हैं.

लेकिन जब हाल में रिलीज़ फ़िल्म 'खिचड़ी' के प्रोमो में उन्हें 'भगवान' बताया गया, तो रजनीकांत को ये बात नागवार गुजरी.

उन्हें अपने आपको 'भगवान' कहलवाना पसंद नहीं आया.

बीबीसी ने जब इस बारे में फ़िल्म 'खिचड़ी' के निर्माता जेडी मजीठिया से बात की तो उन्होंने दावा किया कि मामला सुलझ गया है और अब रजनीकांत को 'खिचड़ी' से कोई समस्या नहीं है.

रजनी सर बेहद विनम्र इंसान हैं, हमने उनके असिस्टेंट को समझाया कि प्रोमो के बजाय पूरा सीन अगर वो देखें, तो कहीं से ये संकेत नहीं जाता कि हमने उन्हें 'भगवान' बताया. हमारे समझाने पर वो समझ गए और अब रजनी जी को फ़िल्म से कोई समस्या नहीं है.

जेडी मजीठिया, 'खिचड़ी' के निर्माता

मजीठिया कहते हैं, "रजनी सर बेहद विनम्र इंसान हैं, हमने उनके असिस्टेंट को समझाया कि प्रोमो के बजाय पूरा सीन अगर वो देखें, तो कहीं से ये संकेत नहीं जाता कि हमने उन्हें 'भगवान' बताया. हमारे समझाने पर वो समझ गए और अब रजनी जी को फ़िल्म से कोई समस्या नहीं है."

हालांकि जेडी मजीठिया ने बताया कि उस प्रोमो अब हटा लिया गया है और अब फ़िल्म के दूसरे प्रोमो टीवी चैनलों पर दिखाए जा रहे हैं.

जेडी मजीठिया के मुताबिक वो रजनीकांत का बेहद आदर करते हैं और उनका मकसद किसी की भावनाओं को ठेस पहुंचाना नहीं है.

BBC navigation

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.