अगर ‘रावण’ तो फिर हिटलर क्यों नहीं

अनिल शर्मा, नेहा धूपिया, अनुपम खेर, राकेश रंजन कुमार

एडोल्फ़ हिटलर की ज़िंदगी के आखिरी दस दिन पर फ़िल्म बन रही है डियर फ़्रेंड हिटलर. फ़िल्म का निर्देशन राकेश रंजन कुमार ने.

अनुपम खेर मानते हैं जब ‘रावण’ जैसी फ़िल्म बन सकती है तो ऐडोल्फ़ हिटलर जैसे ऐताहासिक व्यक्ति पर क्यों नहीं बन सकती.

फ़िल्म डियर फ़्रेंड हिटलर में अनुपम खेर हिटलर की भूमिका निभा रहे हैं. इस फ़िल्म का निर्देशन राकेश रंजन कुमार करेंगे.

अनुपम कहते हैं, “ये हिटलर की ज़िंदगी के आखिरी दस दिन की कहानी है जब वो सब तरफ़ से घिरा हुआ था. उस समय उसकी क्या व्यथा रही होगी और उसके मन में क्या चल रहा होगा, वो दिखाना बहुत दिलचस्प होगा. जब ‘रावण’ बन सकती है तो हिटलर के बारे में भी फ़िल्म बन सकती है.”

अपने रोल के बारे में अनुपम कहते हैं, “ये मेरी ज़िंदगी की बहुत महत्वपूर्ण फ़िल्म होने वाली है. मेरे लिए ये किरदार निभाना बहुत ही रोमांचक होगा. चाहे सब हिटलर की पूरी कहानी न भी जाने लेकिन उनके नाम से वाकिफ़ ज़रूर हैं. ऐसे किरदार को पर्दे पर लाना आसान नहीं है. हिटलर को पूरी दुनिया में बहुत से ख्याति-प्राप्त ऐक्टर्स ने निभाया है. मेरा सौभाग्य है कि मुझे ये फ़िल्म मिली है. मैं कोशिश करुंगा कि इसे अच्छी तरह से निभा पाऊं.”

फ़िल्म में हिटलर की प्रेमिका इवा ब्रॉन का किरदार नेहा धूपिया निभा रही हैं. अपने रोल के बारे में नेहा कहती हैं, “इवा ब्रॉन के बारे में लोगों को ज़्यादा नहीं पता. हमें इसे बहुत ध्यान से करना होगा ताकि कोई ग़ल्ती न हो.”

नेहा आगे कहती हैं, “मैंने कभी भी ऐताहासिक किरदार नहीं किया है. मैं ख़ुश हूं कि मुझे ऐसा रोल मिला है और मैं बहुत उत्साहित हूं.”

BBC navigation

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.