प्रिया और सैम का प्रेम

किशोर ( फाइल फोटो)

प्रिया नामक फ़िल्म में ऑस्ट्रेलिया छात्र को भारतीय छात्रा से होता है प्यार

ऑस्ट्रेलिया में मुंबई फिल्मों की तर्ज़ पर एक फ़िल्म बनाई गई है जिसमें एक ऑस्ट्रलियाई एक भारतीय युवती के प्रेमसंबंध में बंध जाता है.

बताया जाता है कि इस फ़िल्म से ऑस्ट्रेलिया में भारतीय छात्रों पर हो रहे हमलों से भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच संबंधों में आई कड़वाहट को कम करने में मदद मिल सकती है.

"प्रिया" नामक यह फ़िल्म ऑस्ट्रेलिया के एक छात्र, सैम की कहानी है, जो अपने स्कूल में एक भारतीय लड़की पर लट्टू है.

सैम के लिए इसके बाद का रास्ता बिलकुल बॉलीवुड स्टाइल में मुश्किलों भरा है.

सबसे ज़्यादा मुशिकिलें पैदा करते हैं प्रिया के पिता जो प्रिया से बेहद प्यार करते हैं.

ये एक छोटी सी फिल्म है जिसकी शुरुआत ऑस्ट्रेलिया के एक यूनिवर्सिटी के प्रोजेक्ट के तौर पर हुई.

ऑस्ट्रेलिया में हाल में भारत के कुछ युवाओं पर हमले हुए हैं, उसकी पृष्ठभूमि में अब ये फिल्म, सांस्कृतिक सौहार्द का प्रतीक बन गई है.

फिल्म के लेखक और निर्देशक क्रिस केल्लेट का कहना है कि इस फिल्म के लिए उन्हें ज़बरदस्त समर्थन मिला है.

क्रिस केल्लेट ने कहा कि "इस फिल्म के लिए बड़ी संख्या में भारतीय समुदाय आगे आया है. जब हमने इसका प्रचार दिया, तब तो सिडनी और मेलबर्न से फ़ोन आए.हमने कहा कि हम शूटिंग तो एडिलेड में करेंगे, अगर आप आएं तो यहां आपका स्वागत है.कई लोग यहां पहुंच गए और फिर तो हमारा उत्साह दुगुना हो गया."

इस फिल्म को महज़ ढाई हज़ार अमरीकी डॉलर के बड़े ही छोटे से बजट में तैयार किया गया है.

हाल के दिनों में ऑस्ट्रेलिया में भारतीय छात्रों पर हमलों की घटनाओं के बाद कैनबेरा और नई दिल्ली के बीच के रिश्तों में तनाव बढ़ा है.

ऑस्ट्रेलिया की पुलिस ये मानती है कि हिंसा की कुछ घटनाओं का कारण हालांकि नस्लभेद है, लेकिन ज़्यादातर घटनाओं को उन अपराधियों ने अंजाम दिया है, जिन्हें एक आसान शिकार की ज़रूरत होती है.

BBC navigation

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.