BBC navigation

चीन की राजनीति के एक 'सम्राट' का पतन

 बुधवार, 25 अप्रैल, 2012 को 03:00 IST तक के समाचार
बो शिलाई

चीन के शहर चोंगचिंग में एक ब्रितानी व्यवसायी नील हेवुड की मौत का मामला पिछले कई वर्षों में चीन का सबसे बड़ा राजनीतिक स्कैंडल बन कर उभरा है.

चीन का ये शानदार शहर देश के रसूखदार राजनीतिक नेताओं का गढ़ समझा जाता था. अब राजनीतिक नेता बो शिलाई की पत्नी का नाम इस हत्या से जुड़े मामले में आ रहा है.

पद से हटाए जाने से पहले बो शिलाई कई हाई-प्रोफाइल राष्ट्रीय आभियानो के सूत्रधार रहे थे. ये अभियान काफी चर्चित भी रहे थे.

नील हेवुड की मौत के पीछे की कहानी शायद रहस्य ही रहे जाए, लेकिन एक बात जो साफ है. वो ये है कि इस हत्या से उपजे स्कैंडल ने चीन के सबसे शक्तिशाली नेताओं में से एक के राजनीतिक भविष्य की बलि ले ली.

'सम्राटों सा शासन'

कई स्थानीय लोगों का कहना है कि बो शिलाई चोगचिंग पर 'एक सम्राट की तरह' राज करते थे.

लेकिन उनके पतन के बाद उनके प्रति शहर का रुख काफी तेजी से बदला है.

टेलिविज़न पर रोज़ाना प्रदर्शित किए जाने वाले माओवादी संगीत को अब नहीं दिखाया जाता.

उनकी जगह अब टीवी पर चीन की संस्कृति से जुड़े कार्यक्रम दिखाए जाते है.

ये बो शिलाई के कथित लाल अभियान के कई कार्यक्रमों में से एक था, जिसका उद्देश्य माओ की यादों को लोगों के ज़हन में बसाना था.

शिलाई के 'इरादे'

"लोग तो यहां तक कहते थे कि वो एक दिन इस देश का नेतृत्व कर सकते है. और बो शिलाई हमेशा ऐसी बातों पर बिना प्रतिक्रिया दिए जताते थे कि उन्हे लोगों के ऐसा कहने से फर्क नहीं पड़ता है."

राजनातिक समीक्षक

एक स्थानीय समीक्षक ज़ू झी योंग ने बीबीसी को बो शियाई के इरादों के बारे में बताया.

उन्होने कहा, "समाज के हर दर्जे के लोग, एक झाड़ू लगाने वाले से लेकर एक अधिकारी तक सब कोई जानता था कि बो शिलाई चीन की राजनीति की बुलंदियां छूना चाहते थे."

वो आगे कहते हैं, "लोग तो यहां तक कहते थे कि वो एक दिन इस देश का नेतृत्व कर सकते है. और बो शिलाई हमेशा ऐसी बातों पर बिना प्रतिक्रिया दिए जताते थे कि उन्हे लोगों के ऐसा कहने से फर्क नहीं पड़ता है."

बो शिलाई एक लोकप्रिय नेता माने जाते थे. उन्होंने शहर में संगठित अपराध के खिलाफ कई महत्वपूर्ण कदम उठाए. अपराध कम भी हुए.

लेकिन अब आलोचकों का कहना है कि शिलाई के अभियानों में व्यवसायिक वर्ग के लोगों को प्रताड़ित किया जाता था.

जनसमर्थन

लेकिन एक लोकप्रिय नेता होने के नाते बो शिलाई को चोंगचिंग के कामगार वर्ग के लोगों का जोरदार समर्थन प्राप्त था.

बो शिलाई

बो शिलाई ने संगठित अपराध के खिलाफ कई कड़े कदम उठाए थे.

अब लोग चाहते है कि बो शिलाई के उत्तराधिकारी भी उन्ही की तरह लोगों के लिए काम करते रहे.

भ्रष्ट अधिकारियों पर कार्रवाई के साथ-साथ सामाजिक कार्यक्रमों में वित्तीय सहायता उपलब्ध कराने के लिए शिलाई को यहां काफी समर्थन मिला.

राजनीतिक समीक्षक का कहना है कि इस स्कैंडल से चीन की कम्युनिस्ट पार्टी को सीख लेनी चाहिए.

उनके अनुसार चीन के ज्यादातर लोग यहीं मानते है कि अधिकारी भ्रष्ट है, लेकिन बो शिलाई ने लोगों के लिए कुछ तो किया ही था.

चोंगचिंग को हाई प्रोफाइल तरीके से प्रसाशित करने वाले इस नेता से चीन के दूसरे नेताओं ने शायद निजाद पा ली हो, लेकिन उनके सामने मुख्य समस्या वो सामाजिक मुद्दे है जिसे शिलाई सुलझाने की कोशिश कर रहे थे.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

इसी विषय पर और पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.