BBC navigation

चीन में सुधार 'बेहद ज़रूरी': वेन जियाबाओ

 बुधवार, 14 मार्च, 2012 को 12:31 IST तक के समाचार
चीन के प्रधानमंत्री वेन जियाबाओ

चीन के प्रधानमंत्री वेन जियाबाओ ने लोगों से अपने कार्यकाल के दौरान पैदा हुई समस्याओं के लिए माफ़ी मांगी है.

चीन के प्रधानमंत्री वेन जियाबाओ ने कहा है कि देश के आर्थिक सुधारों की रक्षा के लिए और तेज़ी से राजनीतिक सुधार होने चाहिए.

उन्होंने विशेषरूप से ये भी कहा है कि पार्टी और देश की नेतृत्व प्रणाली में बदलाव की ज़रूरत है.

वेन ने चेतावनी दी है कि अगर सुधार नहीं होते तो चीन में सांस्कृतिक आंदोलन जैसी त्रासदी फिर से हो सकती है.

उन्होंने ये भी कहा कि चीन का 2012 के लिए आर्थिक विकास दर का लक्ष्य घटाकर 7.5 प्रतिशत करना विकास को जारी रखने के लिए ज़रूरी है.

'समस्याओं के लिए माफ़ी'

नेशनल पीपुल्स कांग्रेस, एनपीसी, यानी चीनी संसद के वार्षिक सत्र के अंत में चीनी और विदेशी पत्रकारों के सवालों का जवाब देते हुए वेन ने अपने दस साल के कार्यकाल के दौरान उभरी समस्याओं और सामाजिक बुराइयों के लिए लोगों से माफ़ी मांगी.

वेन ने कहा, "मेरे काम में अब भी सुधार की गुंजाइश है. देश के नेता के तौर पर मुझे अपने कार्यकाल के दौरान पैदा हुईं समस्याओं के लिए मुझे ज़िम्मेदारी लेनी चाहिए."

उन्होंने चीन-अमरीका व्यापार संबंध, ताइवान के साथ संबंध और मुद्रा सुधार के मुद्दों को भी संबोधित किया.

नेतृत्व परिवर्तन

इस साल चीनी नेतृत्व में परिवर्तन होना है और इससे पहले ये एनपीसी और वेन का आखिरी कांग्रेस सत्र था.

10 साल में एक बार होने वाला ये नेतृत्व परिवर्तन अक्तूबर में शुरु होगा. माना जा रहा है कि उपराष्ट्रपति शी जिंपिंग, मौजूदा राष्ट्रपति हु जिंताओ की जगह पार्टी का नेतृत्व करेंगे और उप-प्रधानमंत्री ली केकियांग, वेन जियाबाओ के उत्तराधिकारी होंगे.

चीन-अमरीका व्यापार के बारे में वेन ने कहा कि वे अमरीका से आयात में बढ़ोतरी और दो-तरफ़ा निवेश भी बढ़ाना चाहेंगे.

"मेरे काम में अब भी सुधार की गुंजाइश है. देश के नेता के तौर पर मुझे अपने कार्यकाल के दौरान पैदा हुईं समस्याओं के लिए मुझे ज़िम्मेदारी लेनी चाहिए."

वेन जियाबाओ, चीनी प्रधानमंत्री

उन्होंने कहा कि ताइवान के साथ संबंधों में हुई प्रगति से वो ख़ुश हैं लेकिन वो ताइवान के साथ ज़्यादा मज़बूत आर्थिक रिश्ते देखना चाहेंगे जिसमें चीन और ताइवान को एक दूसरे के बैंकों में निवेश करने के लिए प्रोत्साहित करना शामिल है.

एक सवाल के जवाब में वेन जियाबाओ ने कहा कि मध्यपूर्व में लोकतंत्र की इच्छा का 'सम्मान' होना चाहिए. उन्होंने कहा, "मैं मानता हूं कि लोकतंत्र की ओर इस चलन को किसी भी तरह के बल से रोका नहीं जा सकता."

लेकिन उन्होंने ये भी कहा कि तिब्बत में आत्मदाह के मामले बहुत 'एक्सट्रीम' थे.

पिछले कुछ समय में दक्षिणपश्चिमी तिब्बत में कई लोगों ने तिब्बत में चीन के शासन के खिलाफ आत्मदाह किया है. इसमें ज़्यादातर बौद्ध भिक्षु थे. कार्यकर्ताओं और मानवाधिकार गुटों का कहना है कि इन मामलों में कम-से-कम 19 लोगों की मौत हुई है.

इससे पहले सत्र के समापन में सांसदों ने सरकारी काम की रिपोर्टों और बजट पर मतदान किया और और आपराधिक प्रक्रिया कानून में संशोधनों को पारित किया जिसके तहत पुलिस को असंतुष्टों को हिरासत में लेने के अधिकार हैं.

सरकारी शिंहुआ समाचार एजेंसी के मुताबिक संसद ने वर्ष 2012 के लिए राष्ट्रीय आर्थिक और सामाजिक विकास और सालाना बजट की योजना पर मोहर लगाई.

आपराधिक प्रक्रिया कानून में संशोधनों के पक्ष में लगभग 3000 सासंदों ने मतदान किया और ये बड़े बहुमत से पारित हुए. कुछ आलोचकों का कहना है कि इन संशोधनों के लागू होने के बाद गुप्त रूप से लोगों को हिरासत में लेना वैध हो जाएगा.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

इसी विषय पर और पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.