दलाई लामा ने आत्मदाह पर चिंता जताई

 शनिवार, 19 नवंबर, 2011 को 05:36 IST तक के समाचार

तिब्बतियों के आध्यात्मिक नेता दलाई लामा ने कहा है कि तिब्बत में चीनी शासन के ख़िलाफ़ बौद्ध भिक्षुओं के बढ़ते आत्मदाह के मामलों से वे काफ़ी चिंतित है.

बीबीसी से बातचीत में दलाई लामा ने कहा है कि वे ऐसे क़दमों को बढ़ावा नहीं देते. उनका कहना था कि इसके लिए हिम्मत तो चाहिए पर साथ ही सवाल भी उठाया कि ऐसे क़दम कितने कारगर हैं.

इस साल अब तक पुरुष और महिला भिक्षुओं के आत्मदाह के 11 मामले सामने आ चुके हैं. ज़्यादातर मामलों में भिक्षुओं की मौत हो गई. दो हफ़्ते पहले ही एक महिला भिक्षु की मौत हुई थी.

बीबीसी को इस भिक्षु से जुड़ा भयावह फ़ुटेज मिला है जब उसने ख़ुद को आग लगा ली थी और आस-पास के लोग चिल्लाते रह गए. बाद में चीनी सुरक्षाबलों ने इलाक़े को घेर लिया था. ये चौंका देने वाला फ़ुटेज भारत स्मगल किया गया और बीबीसी को दिखाया गया.

'आत्मदाह में क्या बुद्धिमानी है'?

बीबीसी संवाददाता एंड्रयू नॉर्थ का कहना है कि तिब्ब्ती भिक्षु आत्मदाह को विरोध के नए तरीके के तौर पर इस्तेमाल कर रहे हैं.

लेकिन जिस व्यक्ति यानी दलाई लामा के लिए वे ये सब कर रहे हैं, उनके लिए ये बेहद संवेदनशील मामला है.

बीबीसी से बातचीत में दलाई लामा ने कहा कि जैसा कि चीन आरोप लगा रहा है वे लोगों को आत्मदाह करने के लिए नहीं कह रहें.

जब दलाई लामा से पूछा गया कि क्या ऐसे क़दमों से तिब्बत में लोगों की जीना और मुश्किल हो जाएगा तो उन्होंने कहा, “कई तिब्बती अपने जीवन की क़ुर्बानी देते हैं. पता नहीं कितने लोग मारे जा चुके हैं और कितने प्रताड़ित किए गए हैं. बहुत से लोग तकलीफ़ से गुज़रते हैं. लेकिन होता क्या है? चीन और कड़ी प्रतिक्रिया देता है.”

चीन ने कहा है कि आत्मदाह का ये अभियान अनैतिक और मानवता के ख़िलाफ़ है.

संवाददाता के मुताबिक ख़ुद को आग जलाने के लिए तैयार महिला और पुरुष भिक्षु एक संकेत है कि तिब्बत में हताशा बढ़ती जा रही है.

तिब्बत के लोगों को पता है कि पश्चिमी देशों ने अरब देशों में क्रांति का समर्थन किया है लेकिन चीन के सामने वे दबी ज़ुबान से बात करते हैं.

ऐसे में तिब्बत के लोगों को उम्मीद की किरण नज़र नहीं आती. संवाददाता की जानकारी के मुताबिक तिब्बत में और भिक्षु आत्मदाह करने के लिए तैयार हैं.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

इसी विषय पर और पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.